मंगलवार, 29 जुलाई 2008

ख्वाब

जागती आँखों में कोई ख्वाब समेटे हुवे
मुद्दतों सोया रहा तेरी याद लपेटे हुवे