शनिवार, 13 सितंबर 2008

धुँधला गया है चाँद

चोह्दवीं की रात है और घुप्प अंधेरा
कायनात में मेरी बदला गया है चाँद

तुम अचानक आ गयी हो रात के दूजे पहर
देख कर चेहरा तेरा पगला गया है चाँद

तेरे माथे पर सिमट आया है जीवन
सुर्ख़ पा वन चांदनी पिघला गया है चाँद

पलकें झुकाए थाल पूजा का उठाये
रूप सादगी भरा नहला गया है चाँद

देर तक करता था मैं दादी से बातें
उम्र का है असर या धुँधला गया है चाँद