सोमवार, 7 जून 2010

झूठ

नही नही
में यह नहि कहूँगा की ये मेरा अंतिम झूठ है
इससे पहले भी मैने कई बार
सच की चाशनी लपेट कर
कई झूठ बोले हैं

कई बार अंजाने ही
झूठ बोलते अटका हूँ
पर हर बार मेरी बेशर्मी ने
ढीठता के साथ सच पचा लिया

झूठ तो कर्ण ने भी बोला था
ज्ञान के लोभ में
और झूठ की बैसाखी पकड़
सच तो युधिष्ठिर ने भी नही कहा

फिर तुम से बेहतर कौन समझ सकता है
झूठ तो उस रोज़ भी कहा था मैने
जब जानते हुवे भी तुमको
स्वप्न सुंदरी से सुंदर कहा
फिर तुम्हारे बाद भी ये झूठ
न जाने कितनों को
सच का आवरण लपेट कर कहा

झूठ तो हर बार बोलता हूँ
अपने आप से
अपनी आत्मा से
अपने वजूद से

पता है …?
सच की दहलीज़ पर झूठ का शोर
सच को बहरा कर देता है
वीभत्स सच को कोई देखना नही चाहता
सच आँखें फेर लेता है

अब तो मेरा वजूद
झूठ के दलदल में तैरना सीख गया है

हाँ मैं अब भी यह नहि कह रहा
की ये मेर अंतिम और अंतिम झूठ नही है