बुधवार, 23 जून 2010

यूज़ एंड थ्रो

यूज़ एंड थ्रो
अँग्रेज़ी के तीन शब्द
और आत्म-ग्लानि से मुक्ति

कितनी आसानी से
कचरे की तरह निकाल दिया
अपने जीवन से मुझे
मुक्त कर लिया अपनी आत्मा को
मेरा ही सिद्धांत कह कर
मेरे ही जीवन का फलसफा बता कर

शायद सच ही कहा था तुमने
मैं भी तो आसानी से छोड़ आया
माँ बापू के सपने
दादी का मोतियाबिंब
दद्दू के पाँव दबाने वाले हाथ
राखी का क़र्ज़
दोस्तों के क़हक़हे
गाँव का मेघावी स्वाभिमान
मेरे से जुड़ी आशाएँ
अपना खुद का अस्तित्व

अर्जुन की तरह
पंछी की आँख ही नज़र आती थी मुझे
तुम्हारे रूप में

क्या है ये यूज़ एंड थ्रो
सभ्यताओं का अंतर्द्वंद
आधुनिकता की होड़ में ओढ़ा आवरण
नियम बदलता समाज
अपने आप को दोहराता मेरा इतिहास
इसी जीवन में मिलता मेरे कर्मों का फल
या मेरा ही जूता मेरे सर