मंगलवार, 3 जुलाई 2012

ख़ामोशी की जंग ...


कितनी लंबी है खामोशी की जंग
   
इंच भर दूरी तय करने को
मीलों लंबा सफर
आँखों से कुछ ना कहने का अनवरत प्रयास    
जबरन होठ बंद रखने की जद्दोजहद

और कितनी छोटी है जिंदगी की कशमकश

वक्त के साथ उतर जाता है
चुप होठों के पीछे छुपे बेताब शब्दों का सैलाब 
छोड़ जाता है अपने पीछे
कभी न खत्म होने वाला सन्नाटा

ऐसे में कभी कभी उम्र भर का सफर काफी नहीं होता
खामोशी को ज़ुबान देने में