रविवार, 9 दिसंबर 2012

माँ तो माँ है ...


मैंने देखा तुम मुस्कुरा रही हो 
देख रही हो हर वो रस्म 
जो तुम्हारी सांसों के जाने के साथ ही शुरू हो गयी थी 

समझ तो तुम भी गयीं थीं 
अब ज्यादा देर तुम्हें इस घर में नहीं टिका सकेंगे हम 
अंतिम संस्कार के बहाने 
बरसों से जुड़ा ये नाता 
कुछ पल से ज्यादा नहीं सहा जाएगा  

कुछ देर तक 
दूर से आने वालों का इंतज़ार 
अंतिम दर्शन 
फिर चार कन्धों की सवारी 

समय के बंधन में बंधे 
सौंप आएंगे तुझे अग्नि के हवाले 
तेरे शरीर के पूर्णत: चले जाने का 
इंतज़ार भी न कर सकेंगे  

जिंदगी लौट आएगी धीरे धीरे पुरानी रफ़्तार पे 

मुझे पता है 
तुम तब भी मुस्कुरा रही होगी ...