मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

कहाँ हो तुम ...


ये सड़कें, घर, फूल-पत्ते, अड़ोसी-पड़ोसी 
सभी तो उदास हैं 

तेरे चले जाने के बाद  
लगा की इस शहर में लौटने की वजह खत्म हो गई   
बीती उम्र की पक्की डोर ... झटके में टूट गई  

पर ऐसा हो न सका 

कुछ ही दिनों में 
शहर की हर बात याद आने लगी 
यादों का सैलाब 
हर वो मुकाम दिखाने लगा 
जहाँ की खुली हवा में तूने सांस लेना सिखाया        
ऊँगली पकड़ के चलना सिखाया   

लौटने को मजबूर हो गया उन रास्तों पर  

हालांकि जहाँ तुम नहीं हो   
उस शहर आना आसान नहीं 

पर न आऊं तो जी पाना भी तो मुमकिन नहीं  

क्या करूं ... 
अजीब सी प्यास सताती है अब हर वक़्त 
बंजारा मन कहीं टिक नहीं पाता 

सुना है इन तारों में अब तुम भी शामिल हो 
कहाँ हो तुम माँ ...