मंगलवार, 12 मार्च 2013

झलक ...


जाड़ों की कुनमुनाती दोपहर 
तंदूर से निकलती गरमा-गरम रोटी 
  
याद है अक्सर तुझे छेड़ता था     
ये कह कर की तेरे हाथों में वो बात नहीं 

ओर माँ तुम्हारी तरफदारी करते करते    
हमेशा प्यार से डांट देती थी मुझे 

कई दिन बाद आज फिर 
वही तंदूर तप रहा है    

देख रहा हूं तेरे माथे पे उभरी पसीने की बूँद     
ताज़ा रोटी की महक में घुलती 
तेरे हाथों की खुशबू 

पता है ... 
आज तुम कुछ कुछ माँ जैसी लग रही हो