मंगलवार, 16 अप्रैल 2013

घर की हर शै गीत उसी के गाती है ...


कई मित्रों का आग्रह था की गज़ल नहीं लिखी बहुत समय से ... इसलिए प्रस्तुत है एक गज़ल ... विषय तो वही है जिसकी स्मृति हमेशा मन में सहती है ... 

सुख दे कर वो दुःख सबके ले आती है
अम्मा चुपके से सबको सहलाती है

कर देती है अपने आँचल का साया 
तकलीफों की धूप घनी जब छाती है

अपना दुःख भी दुःख है, याद नहीं रखती 
सबके दुःख में यूं शामिल हो जाती है

पहले बापू की पत्नी, फिर मेरी माँ
अब वो बच्चों की दादी कहलाती है

सुख, दुःख, छाया, धूप यहीं है, स्वर्ग यहीं
घर की देहरी से कब बाहर जाती है

सूना सूना रहता है घर उसके बिन 
घर की हर शै गीत उसी के गाती है