सोमवार, 6 मई 2013

भीनी यादें ...


नाज़ुक सा था नाक हमेशा बहती थी 
पल्लू थामें रीं रीं रीं रीं करता था 
धुँधला सा है याद मुझे अब भी अम्मा 
तेरे आगे पीछे फिरता रहता था  

हलकी सी जब चोट कहीं लग जाती थी 
घंटों गोदी में ले कर बहलाती थी  
तेरी आँखें भी गीली हो जाती थीं 
मेरी आँखों से जब आंसू गिरता था 
धुंधला सा है याद ..... 

हिंदी, इंग्लिश, गणित पढाती थी मुझको 
पीटी, गाना, खेल सिखाती थी मुझको 
रोज़ नए पकवान खिलाती थी मुझको 
मन ही मन मैं तेरी पूजा करता था 
धुंधला स है याद .....

बिन मांगे ही सब कुछ तू दे देती थी 
पता नहीं कैसे सब कुछ सुन लेती थी 
ज्ञानी है तू या फिर अंतर्यामी है 
मेरे दिल को अक्सर ऐसा लगता था 
धुंधला सा है याद .....

मेरी बातों को तू सुनती रहती थी 
जाने कौन से सपने बुनती रहती थी 
साथ सदा तू मेरे जागा करती थी 
पढ़ने को जब चार बजे में उठता था 
धुंधला सा है याद .....