मंगलवार, 8 अक्तूबर 2013

जेब में खंजर छुपा के लाएगा ...

जब सुलह की बात करने आएगा 
जेब में खंजर छुपा के लाएगा 

क्यों बना मजनू जो वो लैला नहीं   
उठ विरह के गीत कब तक गाएगा 

एक पत्थर मार उसमें छेद कर 
उड़ गया बादल तो क्या बरसाएगा 

चंद खुशियाँ तू भी भर ले हाथ में 
रह गया तो बाद में पछताएगा 

छीन ले शमशीर उसके हाथ से 
मार कब तक बेवजह फिर खाएगा 

दर्द पर मरहम लगा दे गैर के 
देख फिर ये आसमां झुक जाएगा 

तू बिना मांगे ही देना सीख ले 
देख बिन मांगे ही सबकुछ पाएगा