बुधवार, 23 अक्तूबर 2013

परों के साथ बैसाखी लगा दी ...

समय ने याद की गुठली गिरा दी 
लो फिर से ख्वाब की झाड़ी उगा दी 

उड़ानों से परिंदे डर गए जो 
परों के साथ बैसाखी लगा दी 

किनारे की तरफ रुख मोड़ के फिर 
हवा के हाथ ये कश्ती थमा दी 

दिया तिनका मगर इक छेद कर के 
कहा हमने वफादारी निभा दी 

कहां हैं मानते इसको परिंदे 
जो दो देशों ने ये सीमा बना दी 

बुजुर्गों के दिलों पे रख के पत्थर 
दरों दीवार बच्चों ने उठा दी 

तेरी यादें जुडी थीं साथ जिसके 
लो हमने आज वो तितली उड़ा दी