मंगलवार, 20 अगस्त 2013

हादसे जो राह में मिलते रहे ...

फूल बन के उम्र भर खिलते रहे 
माँ की छाया में जो हम पलते रहे 

बुझ गई जो रौशनी घर की कभी   
हौंसले माँ के सदा जलते रहे 

यूं ही सीखोगे हुनर चलने का तुम 
बचपने में पांव जो छिलते रहे 

साथ में चलती रही माँ की दुआ 
काफिले उम्मीद के चलते रहे 

हर कदम हर मोड़ पे माँ साथ थी 
उन्नती के रास्ते खुलते रहे  

माँ बदल देती है खुशियों में उन्हें 
हादसे जो राह में मिलते रहे  

मंगलवार, 13 अगस्त 2013

यात्रा ...

गुस्सा तो है पर तू निष्ठुर नहीं ... 
अक्सर ऐसा तुम कहा करती थीं माँ   

पर पता नहीं कैसे एक ही दिन में इतना बदलाव आ गया 
तुम भी चलीं गयीं 
और मैंने भी जाने दिया 

कर दिया अग्नी के हवाले उस शरीर को 
जिसका कभी मैं हिस्सा था   
याद भी न आई वो थपकी 
जिसके बिना करवटें बदलता था 
वो गोदी, जहाँ घंटों चैन की नीद लेता था    

उस दिन सबके बीच 
(जब सब कह रहे थे ये तुम्हारी अंतिम यात्रा की तैयारी है) 
कुछ पल भी तुम्हें रोके ना रख सका 

ज़माने के रस्मों रिवाज़ जो निभाने थे   

कहा तो था सबने पर सच बताना 
क्या वो सच में तुम्हारी अंतिम यात्रा थी ...?  

पता है ... उस भीड़ में, मैं भी शामिल था ... 
    

रविवार, 4 अगस्त 2013

सपना माँ का ...

मैं देखता था सपने कुछ बनने के 
भाई भी देखता था कुछ ऐसे ही सपने 
बहन देखती थी कुछ सपने जो मैं नहीं जान सका 
पर माँ जरूर जानती थी उन्हें, बिना जाने ही   

सपने तो पिताजी भी देखते थे हमारे भविष्य के 
एक छोटे से मकान के, सुखी परिवार के    
समाज में, रिश्तेदारी में एक मुकाम के 

हर किसी के पास अपने सपनों की गठरी थी 
सबको अपने सपनों से लगाव था, 
अनंत फैलाव था, जहां चाहते थे सब छलांग लगाना 
वो सब कुछ पाना, जिसकी वो करते थे कल्पना 

ऐसा नहीं की माँ नहीं देखती थी सपने 
वो न सिर्फ देखती थी, बल्कि दुआ भी मांगती थी उनके पूरे होने की 
मैं तो ये भी जानता हूं ...   
हम सब में बस वो ही थीं, जो सतत प्रयास भी करती थी 
अपने सपनों को पूर्णतः पा लेने की 

हाँ ... ये सच है की एक ही सपना था माँ का   
और ये बात मेरे साथ साथ घर के सब जानते थे   
और वो सपना था ... 
हम सब के सपने पूरे होने का सपना  
उसके हाथ हमारे सपने पूरे होने की दुआ में ही उठते रहे   

हालंकि सपने तो मैं अब भी देखता हूँ 
शायद मेरे सपने पूरे होने की दुआ में उठने वाले हाथ भी हैं     

पर मेरे सपने पूरे हों ... 
बस ऐसा ही सपने देखने वाली माँ नहीं है अब ...