सोमवार, 24 फ़रवरी 2014

यादों के झरोखे से ...

लोग अक्सर कहते हैं यादों के अनगिनत लम्हों पर धूल की परत चढती रहती है ... समय की धीमी चाल शरीर पे लगा हर घाव धीरे धीरे भर देती है ... पर क्या सचमुच ऐसा ही होता है ... समय बीतता है ... या बीतते हैं हम ... बीतती है उम्र, ये शरीर, हाथ-पाँव, आँखें जिनमें उतर आती है मोतिये की धूल ... पर यादें ... उनका क्या ... धार-दार होती रहती हैं समय की साथ ... तभी तो तुम्हारी तस्वीर भी बूढी नहीं हुई समय की साथ ... तुम भी तो वैसे की वैसी ही हो यादों में ...  


पपड़ी पपड़ी झर गया समय
तुम्हारी तस्वीर के आस-पास की दिवार से
झड़ जाती है जैसे उम्र भर की रौशनी
दो कत्थई आँखों के उजाले से
फिसल जाता है स्याह नशा
आवारा से उड़ते रूखे बालों से
और उड़ जाती है चेहरे की नमी
अन-गिनत झुर्रियों के निशान छोड़ के

हालाँकि ताज़ा है वो गहरा एहसास
जिसके इर्द-गिर्द बुने थे कुछ लम्हे
समय की मौजूदगी में
प्रेम को हाजिर-नाजिर जान के

उसी समय का हवाला दे कर
डूब जाना चाहता हूँ मैं ... लंबी प्रार्थना में
क्योंकि सब कुछ बदल कर भी
नहीं बदली तुम्हारी तस्वीर समय ने
एक उम्मीद, एक चाहत से टिकी रहती है नज़र
शायद लौटेगी तुम बीती पगडण्डी पर

दुःख का घुमंतू बादल भी तो लौट आते हैं
बरस दर बरस बरसने को ...