सोमवार, 24 फ़रवरी 2014

यादों के झरोखे से ...

लोग अक्सर कहते हैं यादों के अनगिनत लम्हों पर धूल की परत चढती रहती है ... समय की धीमी चाल शरीर पे लगा हर घाव धीरे धीरे भर देती है ... पर क्या सचमुच ऐसा ही होता है ... समय बीतता है ... या बीतते हैं हम ... बीतती है उम्र, ये शरीर, हाथ-पाँव, आँखें जिनमें उतर आती है मोतिये की धूल ... पर यादें ... उनका क्या ... धार-दार होती रहती हैं समय की साथ ... तभी तो तुम्हारी तस्वीर भी बूढी नहीं हुई समय की साथ ... तुम भी तो वैसे की वैसी ही हो यादों में ...  


पपड़ी पपड़ी झर गया समय
तुम्हारी तस्वीर के आस-पास की दिवार से
झड़ जाती है जैसे उम्र भर की रौशनी
दो कत्थई आँखों के उजाले से
फिसल जाता है स्याह नशा
आवारा से उड़ते रूखे बालों से
और उड़ जाती है चेहरे की नमी
अन-गिनत झुर्रियों के निशान छोड़ के

हालाँकि ताज़ा है वो गहरा एहसास
जिसके इर्द-गिर्द बुने थे कुछ लम्हे
समय की मौजूदगी में
प्रेम को हाजिर-नाजिर जान के

उसी समय का हवाला दे कर
डूब जाना चाहता हूँ मैं ... लंबी प्रार्थना में
क्योंकि सब कुछ बदल कर भी
नहीं बदली तुम्हारी तस्वीर समय ने
एक उम्मीद, एक चाहत से टिकी रहती है नज़र
शायद लौटेगी तुम बीती पगडण्डी पर

दुःख का घुमंतू बादल भी तो लौट आते हैं
बरस दर बरस बरसने को ...


शुक्रवार, 14 फ़रवरी 2014

मेरी वेलेंटाइन...

प्रेम किसी एक दिन का मोहताज नहीं ... जब सब कुछ लगा हो दाव पर तो हर लम्हा उस प्रेम को सजीव करने का प्रयास करता है ... प्रकृति का हर रंग प्रेम के रंग में घुलने लगता है और एक नई कायनात अंगड़ाई लेती है ... वो तेरी और मेरी कायनात नहीं ... बस होती है तो प्रेम की ... और प्रेम का कोई एक दिन नहीं होता, कोई एक नाम नहीं होता ... जैसे तुम्हारा भी तो कोई नाम नहीं ... कभी जानाँ, कभी जंगली गुलाब तो कभी अनीता (मेरी वो, मेरी एजी) या कभी ...

वेलेंटाइन ...
सुनो मेरी वेलेंटाइन

घास पे लिखी है इक कहानी
ओस की बूँदों से मैंने

फिजाँ में घुलने से पहले
तुम चहल-कदमी कर आना
बेरंग पानी की बूँदों में
मुहब्बत के रँग भर आना

रोक लूँगा कुछ घड़ी
ये बादे-सबा
थाम लूँगा इक लम्हा
कुनमुनाती धूप

तुम चुपके से कहानी के
किरदार में समा जाना

सुनो मेरी वेलेंटाइन
ज़िंदगी बन के आना ...  

शुक्रवार, 7 फ़रवरी 2014

कुछ एहसास ...

खुद से बातें करते हुए कई बार सोचा प्रेम क्या है ... अंजान पगडंडी पे हाथों में हाथ डाले यूँ ही चलते रहना ... या किसी खूबसूरत बे-शक्ल के साथ कल्पना की लंबी उड़ान पे सात समुंदर पार निकल जाना ... किसी शांत नदी के मुहाने कस के इक दूजे का हाथ थामे सूरज को धीरे धीरे पानी में पिघलते देखना ... या बिना कुछ कहे इक दूजे के हर दर्द को हँसते हुए पी लेना ... बिना आवाज़ कभी उस जगह पे खड़े मिलना जहाँ शिद्दत से किसी के साथ की ज़रूरत हो ... कुछ ऐसे ही तो था अपना रिश्ता जहाँ ये समझने की चाहत नहीं थी की प्रेम क्या है ...

लिख तो लेता कितने ही ग्रन्थ
जो महसूस कर पाता कुछ दिन का तेरा जाना

कह देता कविता हर रोज़ तुझ पर
जो सोच पाता खुद को तेरे से अलग

शब्द उग आते अपने आप
जो गूंजती न होती तेरी जादुई आवाज़
मेरे एहसास के इर्द-गिर्द

तुम पूछती हो हर बार
क्यों नहीं लिखी कविता मेरे पे, बस मेरे पे

चलो आज लिख देता हूँ वो कविता
बंद करके अपनी आखें, देखो मन की आँखों से मेरी ओर
और पढ़ लो ज़िंदगी की सजीव कविता
तुम्हारी और मेरी सम्पूर्ण कविता

सुनो ...
अब न कहना तुम पे कविता नहीं लिखता

सोमवार, 3 फ़रवरी 2014

कागज़ों में योजना अच्छी नहीं ...

फिर मिलन की कामना अच्छी नहीं
दर्द की संभावना अच्छी नहीं

हो सके तो कर्म का सन्धान हो
बस उदर की साधना अच्छी नहीं

शूल भी लेने पड़ेंगे साथ में
पुष्प की ही चाहना अच्छी नहीं

आज तेरा कल किसी के पास है
अर्थ की आराधना अच्छी नहीं

वो बने जो हो सके कार्यान्वित
कागज़ों में योजना अच्छी नहीं

कर नहीं सकते तो क्यों हो बोलते
व्यर्थ की आलोचना अच्छी नहीं

ये न होगा वो न होगा ये कठिन
मन में ये अवधारणा अच्छी नहीं