बुधवार, 12 सितंबर 2012

आज के हालात ...


छोटी बहर की गज़लों के दौर में प्रस्तुत है एक और गज़ल, आशा है पसंद आयगी ...

आवाम हाहाकार है 
सब ओर भ्रष्टाचार है 

प्रतिपक्ष है ऐंठा हुवा 
सकते में ये सरकार है 

सेवक हैं जनता के मगर 
राजाओं सा व्यवहार है 

घेराव की न सोचना 
मुस्तैद पहरेदार है 

रोटी नहीं इस देश में 
मंहगी से मंहगी कार है 

मिल बाँट कर खाते हैं पर 
इन्कार है इन्कार है  

मंगलवार, 4 सितंबर 2012

अजब ये सिलसिला क्यों ...


इरादा बुलबुला क्यों 
अजब ये सिलसिला क्यों   
  
झड़े पतझड़ में पत्ते 
हवा से है गिला क्यों 

फटे हैं जेब सारे 
हवा में है किला क्यों 

गए जो खुदकशी को 
उन्हें तिनका मिला क्यों 

शहर में दिन दहाड़े 
लुटा ये काफिला क्यों 

विरह की आग में फिर   
तपे बस उर्मिला क्यों 

छला तो इंद्र ने था 
अहिल्या ही शिला क्यों  

बुधवार, 29 अगस्त 2012

अब गुज़री तो तब गुज़री ...


अब गुज़री तो तब गुज़री 
धीरे धीरे सब गुज़री 

तन्हाई में फिर कैसे 
पूछो ना साहब गुज़री 

मुद्दत तक रस्ता देखा 
इस रस्ते तू अब गुज़री   

दिन बीता तेरी खातिर 
तेरी खातिर शब् गुज़री 

महफ़िल महफ़िल घूम लिए 
तन्हाई पर कब गुज़री 

मोती तब ही चुन पाया   
गहरे सागर जब गुज़री 

बुधवार, 22 अगस्त 2012

इक तबस्सुम में ये दम है ...


दिन हैं छोटे रात कम है 
साथ उनका दो कदम है  

फुर्र हो जाते हैं अपने 
वक़्त का कैसा सितम है 

तू है या एहसास तेरा 
या मेरे मन का वहम है 

दूर होने पर ये जाना 
आज फिर क्यों आँख नम है 

दूसरों को कौन रोए 
सब को बस अपना ही गम है  
  
छोड़ के मैं जा न पाया  
इक तबस्सुम में ये दम है  

सोमवार, 13 अगस्त 2012

सुख दुःख से जब परे हुए हो ...


सब से परदा करे हुए हो   
तन्हाई में घिरे हुए हो   

पत्तों से ये हवा ने बोला     
पतझड़ से क्यों डरे हुए हो   

भाव नहीं है दया का दिल में 
अंदर से क्या मरे हुए हो 

संगी साथी नहीं रहेंगे  
गुस्से से जो भरे हुए हो 

बदकिस्मत हो तभी तो अपनी   
डाली से यूं झरे हुए हो 

जीवन उस दिन समझ सकोगे 
सुख दुःख से जब परे हुए हो  

रविवार, 5 अगस्त 2012

कैसी है तेरी सरहद ...


कविताओं के दौर से निकल के पेश है आज एक गज़ल ... आशा है पसंद आएगी ...

चाहे मेरा जितना कद  
पर बापू तू है बरगद  

बंटवारे का खेल हुवा 
खींची अपनी अपनी हद     

बेटे ने बस पूछ लिया  
अम्मा है कितनी गदगद   

जूते चप्पल चलते हैं 
कैसी है अपनी संसद 

अंदर आना नामुमकिन   
कैसी है तेरी सरहद 

बुधवार, 25 जुलाई 2012

चिंतन ...


अनेकों बार पढ़े गीता सार से प्रभावित रचना ... 

जो हुआ 
या जो हो रहा है 
और आगे भी होने वाला है    
सब कुछ बेमानी तो नहीं 

हर होने के पीछे की वजह मालुम हो 
ये जरूरी नहीं 
और जो हुआ या होने वाला है ... वो बेवजह नहीं    
ये कह देना भी जरूरी नहीं 

जो जरूरी है वो ये की हर होने को जीना    
जो होने वाला है उसको तहे दिल से तसलीम करना   

जो होना है वो तो होगा 
वजह जान के बेवजह करना 
या जो होना है उसको न होने देना    
आसान तो न होगा 

तो क्यों न मान लेना ही अच्छा 
की जो हो रहा है अच्छा हो रहा है 
जो होगा वो भी अच्छा ही होगा 
भूत गुज़र गया भविष्य की चिंता न करो 
वर्तमान तो चल रहा है 

मंगलवार, 17 जुलाई 2012

जिंदगी सिगरेट का धुंवा ...


मुझे याद है 
धुंवे के छल्ले फूंक मार के तोड़ना तुम्हें अच्छा लगता था 

लंबी होती राख झटकना 
बुझी सिगरेट उंगलियों में दबा लंबे कश भरना 
फिर खांसने का बहाना और देर तक हंसना  

कितनी भोली लगतीं थीं तुम 

गर्मियों की दोपहर का ये सिलसिला 
मेरी आदत बन चुका था उन दिनों 
हाथों के फ्रेम बना जब तुम अलग अलग एंगल से मेरा चेहरा देखतीं     
तो मैं अपने आप को तुमसे अलग नहीं देख पाता था   

फिर कई दिन तुम नही आयीं 
सुलगती यादों की आग मेरे जिस्म में बहने लगी   
धुंवे के हर कश के साथ मैं तुम्हें पीने लगा   

सच कहूं तो सिगरेट की आदत इसलिए भी रास आने लगी थी   
क्योंकि उसके धुंवे में तुम्हारा अक्स झलकने लगा था 

अचानक उस शाम 
किसी खामोश बवंडर की तरह तुम मेरे कमरे मे आयीं    
हालांकि तन्हा रात के क़दमों की आहट के साथ तुम चली गयीं हमेशा हमेशा के लिए 
पर जाते जाते मेरे होठ से लगी सिगरेट 
अपनी हाई हील की एड़ी से बुझाते हुवे तुमने बस इतना कहा 
“प्लीज़ ... आज के बाद कभी सिगरेट मत पीना” 

और मैं .... पागल 

अब क्या कहूं 

काश तुमने ये न कहा होता 
कोइ तो बहाना छोड़ा होता मेरे जीने का 
अब तो खाली उंगलियों के बीच अपनी उम्र पीता हूँ 
ऐश ट्रे में जिंदगी की राख झाड़ता हूँ 

लम्हों के “बट” तो अभी भी मिल जायंगे ... 
कुछ बुझे बुझे ... कुछ जलते हुवे धुंवा धुंवा ...   

बुधवार, 11 जुलाई 2012

रंगों के नए अर्थ ...


चलो रंगों को नए अर्थ दें 
नए भाव नए रंग दें 

खून के लाल रंग को 
पानी का बेरंग रंग कहें     
(रंगों की विश्वसनीयता बरकरार रखने के लिए) 

सफ़ेद को नीला 
(आँखों को गहराई तो मिले) 
धूप को काला 
(अधिकतर लोगों के कर्मों को सार्थकता देने के लिए) 
और काले को पीला कर दें 
(कम से कम अंधेरों में रहने वाले  
उज्जवल भविष्य का एहसास तो कर लें) 

सफेद रंग को सिरे से मिटा दें 
अर्थ हटा दें 
भविष्य के लिए शब्द-कोष में सुरक्षित कर दें 
(बदनामी से तो बचा रहेगा बेचारा) 

संभव हो तो इंद्र-धनुष के सात रंगों को मिला कर 
बेरंग सा एक रंग कर दें 
(“मेरे” “तेरे” रंग से बचाने के लिए) 
 
भगवे और हरे को मिला 
एक नया रंग बना दें 
उसे “भारत” नाम दे दें ...  

मंगलवार, 3 जुलाई 2012

ख़ामोशी की जंग ...


कितनी लंबी है खामोशी की जंग
   
इंच भर दूरी तय करने को
मीलों लंबा सफर
आँखों से कुछ ना कहने का अनवरत प्रयास    
जबरन होठ बंद रखने की जद्दोजहद

और कितनी छोटी है जिंदगी की कशमकश

वक्त के साथ उतर जाता है
चुप होठों के पीछे छुपे बेताब शब्दों का सैलाब 
छोड़ जाता है अपने पीछे
कभी न खत्म होने वाला सन्नाटा

ऐसे में कभी कभी उम्र भर का सफर काफी नहीं होता
खामोशी को ज़ुबान देने में