शुक्रवार, 29 दिसंबर 2006

देश से दूर दिवाली की एक रात

दिया जलेगा या बाती या तेल जलेगा
या मेरा दिल कोने मैं चुपचाप जलेगा

इस बार दिवाली पर न जाने कौन जलेगा

रंगोली जब मेरे आँगन सज जाएगी
लक्ष्मी मेरे द्वारे आ कर रुक जाएगी
मैं तो हूँ परदेस में टीका कौन करेगा

इस बार दिवाली पर.............................

खुशियाँ तो आएँगी मेरे दरवाजे भी
गूंजेंगे घर मैं मेरे गाजे-बाजे भी
मेरे घर पर गणपति पूजन कौन करेगा

इस बार दिवाली पर.............................

बैठी होगी कहीं ढूँढ कर के वो कोना
उसका होगा दिल जाने कितना सूना
देस में उसकी रीती गागर कौन भरेगा

इस बार दिवाली पर............................

14 टिप्‍पणियां:

  1. BAHUT ACHHA LIKHTE HAIN AAP MREI REQUEST HAI AAPSE AGAR YE AAP APNI KAVITA KI PANKTIA MUJE BEJE MERA ID HAI pbatrap@gmail.com THANKS

    जवाब देंहटाएं
  2. देश से दूर दिवाली की एक रात...
    सहज ही दर्द महसूस कराया आपने.

    जवाब देंहटाएं
  3. is blog ki sab se shuruaati post bhi itni jordar, vaah mazaa aa gaya bandhu.............
    fursat milne par pura blog ki talashi leni hi padegi ab to....
    kya pataa khazanaa kis kone mein chhupaa mil jaaye

    जवाब देंहटाएं
  4. कितनी टीस से भरी उम्दा रचना👌👌

    जवाब देंहटाएं
  5. देश से दूर रहना ही सबसे बड़ी सजा और त्यौहार.. उफ़, सोच ही तकलीफ देने लगी.. आपके हृदय के भाव आपकी रचनाएँ उजागर कर रही है,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही भावपूर्ण दिल को छूती रचना।
    रंगोली जब मेरे आँगन सज जाएगी
    लक्ष्मी मेरे द्वारे आ कर रुक जाएगी
    मैं तो हूँ परदेस में टीका कौन करेगा
    घर से दूर दीवाली जैसे महापर्व और अपनों की यादें...
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  7. बेहद हृदयस्पर्शी सृजन

    जवाब देंहटाएं
  8. प्रथम कृति की सुगंध ही अलग होती है।
    प्रणाम सर।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  9. पहली रचना पहली वर्षा की तरह सौंधी महक लिए ।
    हृदय स्पर्शी सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  10. रीती गागर कौन भरेगा ?
    मन की वेदना को सुंदर शब्दों में अभिव्यक्त किया है ।

    जवाब देंहटाएं
  11. भावनाओं को सुंदर शब्दों में पिरोकर बहुत ही खूबसूरती से व्यक्त यह प्रथम रचना मन को छू गई।

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर भावों से सज्जित आपकी पहली रचना के लिए आपको बहुत शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है