गुरुवार, 6 नवंबर 2008

एक ख्वाहिश

जिस्म ज़ख्मों की जीती जागती नुमाइश है
फ़िर भी जीने की दिल मैं दबी दबी ख़्वाहिश है

दर्द पीछा नही छोड़ेगा मौत आने तक
साँस के साथ साथ दर्द की पैदाइश है

टूट कर बिखर जाने के नही कायल हम भी
साँस बाकी है जब तक सुबह की गुंजाईश है

यूँ न मायूस हो कर होंसले का दम तोड़ो
अभी तो ज़िंदगी से गीत की फरमाइश है

कही घायल, कहीं भूखे कहीं पंछी कफ़स में
हर तरफ़ मौत से जीवन की आज़मईश है

16 टिप्‍पणियां:

  1. दर्द पीछा नही छोड़ेगा मौत आने तक
    साँस के साथ साथ दर्द की पैदाइश है

    टूट कर बिखर जाने के नही कायल हम भी
    साँस बाकी है जब तक सुबह की गुंजाईश है
    bahut hi acchi gazal

    जवाब देंहटाएं
  2. अच्छी रचना
    निरन्तरता निखार की जननी है
    याद रखिये
    शेष शुभ

    जवाब देंहटाएं
  3. यूँ न मायूस हो कर होंसले का दम तोड़ो
    अभी तो ज़िंदगी से गीत की फरमाइश है

    bhai wah. Likhate rahiye janaab.

    Omprakash

    जवाब देंहटाएं
  4. तुकबंदी अच्छी कर लेते हैं. क्या आपके लिए ग़ज़ल की शैली अपनाना ज़रूरी है ?

    जवाब देंहटाएं
  5. माना आपकी गजल में दम है लेकिन,
    और भी ऊँचे विचार आने की गुंजाईश है.

    जवाब देंहटाएं
  6. achchi rachna hai.jijivisha jagrit rahni chahiye,har haal me.

    जवाब देंहटाएं
  7. sach bahut achhi gazal padhne mili aaj,har sher waah waah

    जवाब देंहटाएं
  8. दर्द पीछा नही छोड़ेगा मौत आने तक
    साँस के साथ साथ दर्द की पैदाइश है


    --गजब महाराज!! आजकल तो अब मेला लगने लगा है पाठकों का. हो भी क्यूँ न..लिखते ही इतना कातिल हो!!१

    जवाब देंहटाएं
  9. समीर भाई
    आप तो मेरे गुरु हैं
    ऐसे ही कृपा बनाये रखें

    जवाब देंहटाएं
  10. sir ji, aap ki rachnain hamein bahut pasand aaiyein.
    aap mujhse orkut par bhi mil sakte hain, ya fir e-mail kar sakte hain-manaskha@yahoo.co.in
    my phone no is 9889206089.
    please suggest me some tips for my blog development.
    is it necessary to type every thing online.
    i have got my poems typed from one of the typist but they don't appear correctly on blog.
    waiting for ur response..

    ur blog is great..
    KEEP IT UP.

    जवाब देंहटाएं
  11. भाई जबरदस्त..... बहुत-बहुत-बहुत अच्छी लगी आपकी रचनाएँ...वाकई जिन्दगी भी एक आजमाईश है.... इस आजमाईश में हमारा स्थान कहाँ है...यह भी हम नहीं जानते.....

    जवाब देंहटाएं
  12. टूट कर बिखर जाने के नही कायल हम भी
    साँस बाकी है जब तक सुबह की गुंजाईश है

    Bhai kya khoob likhte ho, Lagta hai dil cheer ke rakh diya ho....
    Sadhubaad

    जवाब देंहटाएं
  13. दिगम्बर जी

    बहुत आनन्द आया आपके यहाँ.


    आपकी लेखनी हमें बार बार यहाँ लाएगी

    जवाब देंहटाएं
  14. द्विज जी
    आप मेरे ब्लॉग पर आए, ये मेरा सोभाग्य है
    आप को मेरी ग़ज़ल अच्छी लगी तो मैं मान सकता हूँ की मैं भी ठीक लिख सकता हूँ.
    आप का बहुत बहुत धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है