रविवार, 25 जनवरी 2009

ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं

हमारे पाव फ़िर ज़मीन में गड़े हैं
हम पेड़ जैसे रास्तों में खड़े हैं

आदतें आज भी संघर्ष की छोड़ी नही
भूख और प्यास से अभी अभी लड़े हैं

सच्च तो ये है इस खूबसूरत ताज में
ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं

भूख और प्यास के डर से खुदा भी
झोंपडे छोड़ कर मंदिरों में पड़े हैं

एक सच्चाई है इन खोखले जिस्मों की
छोटे से ज़ख्म मौत आने तक सड़े हैं

होठ सूखे, धंसी आँखें चिथडा सा बदन
जिस्म जैसे किसी पतझर में पत्ते झडे हैं

वो प्यासा था या कोई चोर जो गुजरा यहाँ
तमाम रास्तों में खाली खाली घड़े हैं

25 टिप्‍पणियां:

  1. digambar bhaaee

    bahut hee saarthak prastuti.
    maiN yahaaN aataa rahoomgaa.

    saadar
    द्विजेन्द्र द्विज

    जवाब देंहटाएं
  2. हमारे पाव फ़िर ज़मीन में गड़े हैं
    हम पेड़ जैसे रास्तों में खड़े हैं

    आदतें आज भी संघर्ष की छोड़ी नही
    भूख और प्यास से अभी अभी लड़े हैं

    सच्च तो ये है इस खूबसूरत ताज में
    ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं

    वाह्! क्या खूब लिखा है.बहुत उम्दा...
    दिगम्बर जी, आप तो कमाल करते जा रहे हैं.

    जवाब देंहटाएं
  3. आदतें आज भी संघर्ष की छोड़ी नही
    भूख और प्यास से अभी अभी लड़े हैं
    सच्च तो ये है इस खूबसूरत ताज में
    ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं
    ये ऐसे शेर हैं जिन्हें कहने के लिए ज़िन्दगी का गहरा तजुर्बा होना जरूरी है और साथ ही उस्तादों वाला हुनर भी...और ये दोनों ही इन शेर में बहुत खूबी से नजर आते है...वाह दिगंबर जी वाह...
    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  4. वो प्यासा था या कोई चोर जो गुजरा यहाँ
    तमाम रास्तों में खाली खाली घड़े हैं
    ---
    सच्च तो ये है इस खूबसूरत ताज में
    ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं
    -वाह!वाह!बहुत ही उम्दा शेर हैं!
    बेहद अनूठा ख्याल,

    -ग़ज़ल पूरी ही दमदार बनी है.
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत अच्‍छा.........गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  6. "भूख और प्यास के डर से खुदा भी
    झोंपडे छोड़ कर मंदिरों में पड़े हैं
    "
    लाजवाब!
    दिगंबर जी, आपको आपके परिवार एवं मित्रों को गणतंत्र दिवस पर हार्दिक बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  7. बेहतरीन ख्याल हैं इस रचना में... एकदम मौलिक... वाह वाह..

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत लाजवाब रचना.

    गणतंत्र दिवस की बधाई.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह वाह!! क्या बात है..गजब. मजा आ गया.

    आपको एवं आपके परिवार को गणतंत्र दिवस पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    जवाब देंहटाएं
  10. आदतें आज भी संघर्ष की छोड़ी नही
    भूख और प्यास से अभी अभी लड़े हैं

    सच्च तो ये है इस खूबसूरत ताज में
    ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं


    ये दो शेर ख़ास पसंद आये

    जवाब देंहटाएं
  11. अच्छी पोस्ट और गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत लाजवाब रचना.

    गणतंत्र दिवस की बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  13. आदतें आज भी संघर्ष की छोड़ी नही
    भूख और प्यास से अभी अभी लड़े हैं

    भूख और प्यास के डर से खुदा भी
    झोंपडे छोड़ कर मंदिरों में पड़े हैं"

    Waah...! yun to her she'r umda hai pr ye jyada pasand aaye...!

    जवाब देंहटाएं
  14. bhookh aur pyaas se dar devta bhi
    jhompde chhod mandir men pade hain

    aisa karen to kaisa rahe ; kul mila kar bahut khoobsoorat, uttam.

    जवाब देंहटाएं
  15. आपकी सोच मौलिक है....
    बढिया रचना

    जवाब देंहटाएं
  16. आज आपका ब्लॉग देखा.... बहुत अच्छा लगा.

    जवाब देंहटाएं
  17. वाह्! क्या खूब लिखा है.बहुत उम्दा...

    जवाब देंहटाएं
  18. सच्च तो ये है इस खूबसूरत ताज में
    ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं

    भूख और प्यास के डर से खुदा भी
    झोंपडे छोड़ कर मंदिरों में पड़े हैं

    एक सच्चाई है इन खोखले जिस्मों की
    छोटे से ज़ख्म मौत आने तक सड़े हैं

    WAH YE KUCH LAENE PAKAR MAI KUCH CHOCHNE PAR MAJBOOR HO GAYA...AAPNE SACH ME EK BAHUT-BAHUT-BAHUT ACHHI GAZAL LIKHI HAI

    जवाब देंहटाएं
  19. kiyaa baat hai bouth he aacha post

    shayari,jokes,recipes,sms,lyrics and much more so visit

    copy link's
    http://www.discobhangra.com/shayari/

    http://shayaridilse-jimmy.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  20. "भूख और प्यास के डर से खुदा भी
    झोंपडे छोड़ कर मंदिरों में पड़े हैं।"

    गजल के शैर का जवाब नहीं।

    मौलिक विचारों के साथ एक बढियां रचना।


    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  21. सच्च तो ये है इस खूबसूरत ताज में
    ईंट गारे की जगह आदमी जड़े हैं...

    wah wah...
    bahut kboob.....

    जवाब देंहटाएं
  22. nliludxunsjaxw [URL=http://bingolinerbonus.com]bingo lotterie[/URL] hwlsazddnebler

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है