शनिवार, 6 जून 2009

तुम

१)

ख़ामोशी को
लग गयी ज़ुबां
बोलती रही
बीते लम्हों की दास्ताँ
कोहरे की चादर लपेटे
गुज़रता रहा कारवाँ

२)

काश मैं वक़्त को रोक पाता
घड़ी की सूइयों को मोड़ पाता
देखता रहता उम्र भर
पूजा की थाली लिए
पलकें झुकाये
गुलाबी साड़ी में लिपटा
सादगी भरा तेरा रूप........

३)

चाँद जब समुन्दर में उतरे
नूर तारों का
लहरों में बिखरे
तुम आसमाँ पर चली आना
रोक लूँगा यूँ ही इस रात को
तुम चाँद बन कर मुस्कुराना
मैंने सुना है इस धरती का
एक ही चाँद है

35 टिप्‍पणियां:

  1. rok loonga yoonhi is raat ko
    tum chaand ban k muskurana........
    WAAH WAAH
    badhai

    जवाब देंहटाएं
  2. दिगंबर जी, बेहतरीन रचनाएँ...तीनो एक से बढ़ कर एक...
    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  3. sacha maaniye aapne jo likha hai usame prawah itana hai ki shabdad our bhaw dono ek dusare me ghule mile hai.....bahut badhiya

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भावनामय कविता है विशेषत्य चाँ द जब समुन्दर मे उतरे नूर तारों का--------------बहुत सुन्दर शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  5. bhaav poorna kavita....shabdon ko bahut hi dhyaan se chuna hai aapne....

    जवाब देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बेहतरीन रचनाएं. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  8. DIGAMBAR JI WESE TO TINO HI RACHANAA BEHAD UMDAA KAHI HAI AAPNE MAGAR DUSRE JANAAB BAAT HI KYA HAI... KIS SAADAGI SE AAPNE EK SAADAGI KA CHITRAN KIYAA HAI KAMAAL KI BAAT HAI YE... BAHOT KHUB... MAGAR HUZUR AAPKI GAZALEN BHI PADHANAA CHAHTAA HUN ... ???


    ARSH

    जवाब देंहटाएं
  9. teenon hi rachnayein shandaar....dil ko choo gayin....lajawaab

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह जबाब नही तीनो एक से बढ कर एक, लाजबाब
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  11. मैने सुना है इस ……….…………………,

    क्या बात है।एक से बढकर एक रचना।

    जवाब देंहटाएं
  12. ख़ामोशी को
    लग गयी ज़ुबां
    बोलती रही
    बीते लम्हों की दास्ताँ
    कोहरे की चादर लपेटे
    गुज़रता रहा कारवाँ

    वाह्! अति सुन्दर भाव......भई दिगम्बर जी, बहुत खूब लिखा है।

    जवाब देंहटाएं
  13. aapki kavitaaon par tippani karne ki kshamta hm me nahi hai..bss ye kahenge ki saari kavitaaein dil se likhi gayi aur dil ko sukoon dene waali hain..

    जवाब देंहटाएं
  14. तीनो रचनाएँ शानदार,,
    पर नम्बर दो को जाने कितनी ही बार पढ़ गया,,,,,

    देखता रहता उम्र भर
    पूजा की थाली लिए
    पलकें झुकाये
    गुलाबी साड़ी में लिपटा
    सादगी भरा तेरा रूप........

    हाय,,,,, कमाल लिखा है,,,

    जवाब देंहटाएं
  15. अन्तस से झरने की मानिन्द फ़ूटी अनन्यत्तम अनुभूति को शब्दों की पौशाक-वाह क्या बात है


    ख़ामोशी को
    लग गयी ज़ुबां
    बोलती रही
    बीते लम्हों की दास्ताँ
    कोहरे की चादर लपेटे
    गुज़रता रहा कारवाँ
    जिन्दगी
    भटकती रही कहां-कहां
    होती रही धुआं-धुआं

    २)

    काश मैं वक़्त को रोक पाता
    घड़ी की सूइयों को मोड़ पाता
    देखता रहता उम्र भर
    पूजा की थाली लिए
    पलकें झुकाये
    गुलाबी साड़ी में लिपटा
    सादगी भरा तेरा रूप....

    जवाब देंहटाएं
  16. 'कोहरे की चादर लपेटे
    गुज़रता रहा कारवाँ'

    वाह !क्या पंक्ति है!

    खूबसूरत भाव अभिव्यक्ति!
    सभी रचनाये अच्छी लगीं.

    जवाब देंहटाएं
  17. तुम्हारे पाँव के छाले,
    उभर आये हैं सीने में।
    हमारे पास आ जाओ,
    मजा आ जाये जीने में।।

    जवाब देंहटाएं
  18. तुम्हारे पाँव के छाले,
    उभर आये हैं सीने में।
    हमारे पास आ जाओ,
    मजा आ जाये जीने में।।

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत ही सुन्दर.बधाई.

    काश मैं वक़्त को रोक पाता
    घड़ी की सूइयों को मोड़ पाता
    देखता रहता उम्र भर
    पूजा की थाली लिए
    पलकें झुकाये
    गुलाबी साड़ी में लिपटा
    सादगी भरा तेरा रूप........

    जवाब देंहटाएं
  20. pehli wali to wakai kabile tarif hai..
    dusari bhi achchi hai ..lekin pehli ki tulna me kam..
    parntu .teesri wali to hme samjh hi nahi aayi.. :(

    by d way.. ek hi bhavon ki teen alag alag dang se prastut karna.. vakai nayi kala dekhi hmne.. :)

    जवाब देंहटाएं
  21. चाँद जब समुन्दर में उतरे
    नूर तारों का
    लहरों में बिखरे
    तुम आसमाँ पर चली आना
    रोक लूँगा यूँ ही इस रात को
    तुम चाँद बन कर मुस्कुराना
    मैंने सुना है इस धरती का
    एक ही चाँद है

    meri pratikriya bas yehi thi...mazaa aa gayaa :)

    www.pyasasajal.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  22. थोड़ी-सी तुकबंदी...

    सारी रचनाएँ एक से एक बढ़कर एक
    ऐसी कविताएँ आप लिखें अनेक...

    जवाब देंहटाएं
  23. काश मैं वक़्त को रोक पाता
    घड़ी की सूइयों को मोड़ पाता
    देखता रहता उम्र भर
    पूजा की थाली लिए .....
    what a thinking.....!
    nice poem...

    जवाब देंहटाएं
  24. चाँद जब समुन्दर में उतरे
    नूर तारों का
    लहरों में बिखरे
    तुम आसमाँ पर चली आना
    रोक लूँगा यूँ ही इस रात को
    तुम चाँद बन कर मुस्कुराना
    मैंने सुना है इस धरती का
    एक ही चाँद है
    तीनो रचनायें बहुत बढ़िया.... इसका तो जवाब ही नहीं...इस धरती का
    एक ही चाँद है

    जवाब देंहटाएं
  25. काश मैं वक़्त को रोक पाता
    घड़ी की सूइयों को मोड़ पाता....
    बहुत ही सुन्दर भाव बन पडा है इन लाइनों में ... आप की कलम ऐसे ही चलती रहे...मेरी यही शुभकामना है.

    जवाब देंहटाएं
  26. इस अनूठे आशिक को नमन...
    पोस्ट-दर-पोस्ट ये प्र्म-कविताओं का रस जो चखा रहे हैं आप, कसम से आशिकी करने को जी चाह रहा है।

    जवाब देंहटाएं
  27. रोक लूँगा यूँ ही इस रात को
    तुम चाँद बन कर मुस्कुराना
    ...बहुत सुन्दर, सभी रचनाएँ एक-से-बढकर एक हैं !!!!!!

    जवाब देंहटाएं
  28. क्या खूब लिखें हैं अतिसुन्दर भावः........
    ये शब्द निकले आपकेर दिल से और पहुँच रहें हैं अब हमारे दिल में......बहुत ही अच्छी रचनाये......
    अक्षय-मन

    जवाब देंहटाएं
  29. कम शब्दों में बडी बात कहना दुष्कर कार्य है। और आपको इसमें महारत हासिल है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    जवाब देंहटाएं
  30. digambar ji , teenon rachnayen behatareen. badhai sweekaren.

    जवाब देंहटाएं
  31. प्रीत की अनन्त बगिया में अनगिनत फूल है, आपकी यह कविता- "तुम' की तो महक ही कुछ और है। इस फूल को प्रेम-भाव के कोई समर्थ कवि ही चून सकते हैं । हम तो सिर्फ इसke आदिम-आकर्षण ko ही महसूस कर पाते हैं। आप लिखते रहें, हम महसूसते रहें....

    जवाब देंहटाएं
  32. sach me bahut hi shaandar hai .sabhi laazwaab hai mujhe padhne ke baad aanand ki anubhuti hui .

    जवाब देंहटाएं
  33. आपका बहुत सुन्दर रचना अत्यंत भावः पूर्ण

    प्रदीप मनोरिया
    09425132060

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है