सोमवार, 15 जून 2009

शब्द कुछ भटके हुवे

१)

कोहरे से छन कर आती
लैंप पोस्ट की पीली रौशनी तले
पश्मीना की शाल ओढे
गुमसुम
खंभे से सर टिकाये
खामोश बैठी थी वो रात
ठण्ड से कांपती हवा
तेरे होठों को छू कर
गुज़र गयी थी उस रोज़……
बस तभी से दो आंसू
जमें रहते हैं मेरी पलकों में...........

२)

रूई गिर रही थी उस पल
बर्फ की सफ़ेद चादर पर
फ़र की नीली टोपी पहने
तुमने कुछ कहा था जिस पल
हवा में गिरने से पहले
जम गए थे वो शब्द.........
आज भी जाग उठते हैं वो शब्द
बर्फ की सफ़ेद चादर
जब धीरे धीरे पिघलती है........
नया मौसम भी तो अंगडाई लेता है उस पल

31 टिप्‍पणियां:

  1. बर्फ की सफ़ेद चादर
    जब धीरे धीरे पिघलती है........
    नया मौसम भी तो अंगडाई लेता है उस पल

    जिन्दगी की भी कुछ ऐसे ही मौसम होते है जिसमे कई मौसम आते है और जाते है ...........पर जिन्दगी खत्म नही होती.......बहुत सुन्दर .....

    पर इन मौसम को एहसास करने की जरुरत होती है.

    उन्दा अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  2. shabdo ka jamna aour pighal kar fir jaagnaa shabdo ka nayaa jivan hi to he/// vo do aansoo bhi palko se ojhal ho jaate he jo kabhi jame the...//ek nai shuruaat///shayad fir isi maahol ko naye andaaz me kahne ke liye//
    wah/ achha laga kavita ka yah roop bhi///aapki baat hi kuchh aour he//aanand hi aanad//shbdo ke sang pryogo ka khoobsoorat avishkaar...///

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचनाएं हैं।बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत लाजवाब रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  5. dono hi kavitawon ka apna apna hi rang hai khub parvarish kari hai aapne inki... padhte hi bantaa hai... dhero badhaayee sahib...


    arsh

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह दो बहुत ही उम्दा कविताएँ!आपकी ग़ज़लों को पढ़े जमाना हुआ कोई ग़ज़ल भी छोड़िये न!:D

    जवाब देंहटाएं
  7. aapki dono rachana khoosurat hai .main to kho gayi thi padhate huye .shaandar bhavpurn .swapan ji ke blog se is rachana ka sukh le payi .

    जवाब देंहटाएं
  8. आज भी जाग उठते हैं वो शब्द
    बर्फ की सफ़ेद चादर
    जब धीरे धीरे पिघलती है........
    नया मौसम भी तो अंगडाई लेता है उस पल

    --वाह वाह!!

    क्या बात है जनाब!!

    जवाब देंहटाएं
  9. नव-गीत की श्रंखला में अनूठी रचनाकारी के लिए बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  10. अद्भुत रचनाएँ हैं दोनों!दूसरी वाली ज्यादा पसंद आई.

    जवाब देंहटाएं
  11. बेहद ख़ूबसूरत और उम्दा रचना लिखा है आपने जिसके लिए ढेर सारी बधाइयाँ!

    जवाब देंहटाएं
  12. बेहतरीन , एक बात गर्मी में बर्फ ठंडक पंहुचा रही है

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत अच्छा लिखा है आपने। पढ़ते ही सारे दृश्य आखों के सामने तैर जाते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  14. आपकी ये छोटी छोटी और मन को लुभाने वाले ये शब्द हमेशा बहुत ही अच्छे लगते हैं......
    एक बार फिर से बहुत ही अच्छा लिखा है..........

    जवाब देंहटाएं
  15. इस सुखनवरी के क्या कहने। ऐसा लगता है कि अभी-अभी हमने जिंदगी के सबसे हसीन पल को सीने में कुर्क कर लिया है। ऐसा लगता है जैसे किसी ने क्षण को शब्दों में कैद कर लिया हो और हम उनके करतब पर मोहित हो रहे हों।

    जवाब देंहटाएं
  16. आपकी कविता में शब्द भी बर्फ की रूई की तरह झर रहे हैं। बधाई।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    जवाब देंहटाएं
  17. laaazabab,umda, behtareen aur mere paas shabd hi nahi hai

    जवाब देंहटाएं
  18. बहुत ही उम्दा रचनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत ही अच्छा लिखा है.बधाइयाँ!

    जवाब देंहटाएं
  20. शब्द कोष और अभिव्यक्ति बहुत ही खूबसूरत है

    सादर !!

    जवाब देंहटाएं
  21. दिगम्बर जी,

    मेरी पहली यात्रा थी "स्वपन मेरे...." की, इससे पहले आपका नाम बहुत बार टिप्पणियों में पढा था, पर कभी आया नही था।

    बहुत ही नर्म-नर्म गीत मखमली मुलायम से या यूँ कह लूँ जिस तरह हाथ पर मक्खन पिघल जाता है उसी तरह ही ये शब्द पढते पढते मानस में घुल जाते है।

    बधाई।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  22. ठण्ड से कांपती हवा
    तेरे होठों को छू कर
    गुज़र गयी थी उस रोज़……
    बस तभी से दो आंसू
    जमें रहते हैं मेरी पलकों में...........
    लगता है किन्हीं कोमल भावनाओं के हिल स्टेशन पर मन पहुँच गया है और बर्फ की ठंडी रिमझिम मे भाव दिल के अंदर जम से गये हैं
    तीनो अभिव्यक्तियां बहुत ही लाजवाब हैं बधाई

    जवाब देंहटाएं
  23. रचना बहुत अच्छी लगी....बहुत बहुत बधाई....
    एक नई शुरुआत की है-समकालीन ग़ज़ल पत्रिका और बनारस के कवि/शायर के रूप में...जरूर देखें..आप के विचारों का इन्तज़ार रहेगा....

    जवाब देंहटाएं
  24. रचना बहुत अच्छी लगी....बहुत बहुत बधाई....
    एक नई शुरुआत की है-समकालीन ग़ज़ल पत्रिका और बनारस के कवि/शायर के रूप में...जरूर देखें..आप के विचारों का इन्तज़ार रहेगा....

    जवाब देंहटाएं
  25. आपका ब्लॉग नित नई पोस्ट/ रचनाओं से सुवासित हो रहा है ..बधाई !!
    __________________________________
    आयें मेरे "शब्द सृजन की ओर" भी और कुछ कहें भी....

    जवाब देंहटाएं
  26. बर्फ की सफ़ेद चादर
    जब धीरे धीरे पिघलती है........
    नया मौसम भी तो अंगडाई लेता है उस पल
    aapki is kavita ne nishabd kar diya, kabhi kabhi shabdon ki kami kitni khalti hain na ?

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है