सोमवार, 13 जुलाई 2009

मौन आमंत्रण

1)

पूनम का चाँद
तुम्हें पा लेने का
मौन आमंत्रण
उष्रंखल होती मुक्त लहरें
तुझमे समा जाने का पागलपन
किनारों से टूट कर बिखरने का उन्माद
अपने अस्तित्व को खो देने की चाहत

पानी की बिखरी बूँदों में
मेरा अक्स चमकने लगा है

2)

तपती दोपहरी
पिघलता रेगिस्तान
पानी की स्याही से
रेत पर लिखा
मौन आमंत्रण
कतरा कतरा जागती प्यास
तू करीब हो कर भी कितना दूर
दहकती रेत पर
उतरने लगी है सुरमई चादर

आ दो पल बिता लें
जुदा होने से पहले

42 टिप्‍पणियां:

  1. waah aa do pal bitaale jaane se pahle bahut dard bharaa lagaa mera bhi apnaa koi bichhdne waala hai !! yahi baat main use kah rahaa hun!! sahi waqt par sahi post padhi!!

    जवाब देंहटाएं
  2. आ दो पल बिता लें
    जुदा होने से पहले
    बहुत सुन्दर एहसास -- ख्वाहिश है.
    रचना लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  3. अहा ! कितनी सुंदर है यह चाहत ! कितना पवित्र !! कितना शश्वत !!! ... जो सौंदर्य की श्रेष्ठ रचना के सामने भी व्यक्त हो सकता है और रेगिस्तान की तपतपाती असहनीय बीहड़ में भी और लहरों की निरुद्देश्य जिद में भी ... प्रेम सच में सुंदर बनाता है। सबको बनाता है, सब चीजों को बनाता है। जो प्रेम में है, वह निश्चित रूप से सुंदर भी है। शायद यही कारण है कि आपकी कविता हमेशा सुंदर बन जाती है। शब्दों और पंक्तियों की सीमा से परे जाती हैं आपकी कविताएं।
    आ दो पल बिता लें
    जुदा होने से पहले
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  4. आ दो पल बिता लें
    जुदा होने से पहले
    aur kya chahiye!!!!!!!!!bahut khoob!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत उम्दा!! बस, लिखते चलो, हम पढ़ रहे हैं अभिभूत हो!!

    जवाब देंहटाएं
  6. ye shama banata rahe ,aur hame khichata raha ,kuchh kahate -sunte huye safar yu hi chalata raha .
    marmsparshi rachana .bahut khoobsurat .

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह बहुत लाजवाब..मन गदगद हो गया, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  8. पूनम का चाँद
    तुम्हें पा लेने का
    मौन आमंत्रण
    उष्रंखल होती मुक्त लहरें
    तुझमे समा जाने का पागलपन
    किनारों से टूट कर बिखरने का उन्माद
    अपने अस्तित्व को खो देने की चाहत

    IN PANKTIYO ME AAPKE ANUPAM PYAAR KA DARSHAN HO RAHA HAI .....JAHA CHAHAT AAPANE CHARMOTKARSH PAR HAI
    TO BHAWANAYE JANM JANMANTAR KO KHATM KAR DENE KO AATUR .....WAAH ...WAAH
    तपती दोपहरी
    पिघलता रेगिस्तान
    पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण
    कतरा कतरा जागती प्यास
    .....BAHUT .....BAHUT....BAHUT SUNDAR MERE PAAS KAHANE KO KUCHH NAHI HAI .......SIRF EHASAAS KE SIWAY....BAHUT BAHUT DHNYAAWAAD
    AABHAR
    OM ARYA

    जवाब देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह वाह वाह आप ने तो मदहोश कर दिया जनाब बहुत सुंदर.आ
    दो पल बिता लें
    जुदा होने से पहले
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  11. पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण

    - सुन्दर.

    जवाब देंहटाएं
  12. इस मौन आमंत्रण को गुंजायमान समर्थन दिगम्बर भाई।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर एवं भावनाप्रधान रचना ...बधाई

    जवाब देंहटाएं
  14. किनारों से टूट कर बिखरने का उन्माद
    अपने अस्तित्व को खो देने की चाहत

    पानी की बिखरी बूँदों में
    मेरा अक्स चमकने लगा है
    waah behad khubsurat ehsaas,aisa jaise dil ke kuch armann lafz banke nikle ho,lajawab.

    जवाब देंहटाएं
  15. खूबसूरत अभिव्यक्ति,
    मन गद-गद् हो गया।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  16. आ दो पल बिता लें
    जुदा होने से पहले .....वाह ...वाह

    जवाब देंहटाएं
  17. पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण
    bhut khubsurt kalpna .sb kuch hai aur kuch bhi nhi .man ko khushbu dene vale shabd.
    bdhai

    जवाब देंहटाएं
  18. पानी की बिखरी बूँदों में
    मेरा अक्स चमकने लगा है

    बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  19. वाह ! आप मखमली अहसासों को शब्दों का जामा पहना कर कविता बना देते हैं.
    दोनों ही भावों की अभिव्यक्ति की खूबसूरत प्रस्तुति हैं.

    जवाब देंहटाएं
  20. digambarji,
    yes, mujhe intjaar rahataa he aapki rachnao ka, man-mohak si, marm ko chhuti rachnao ka me aashiq ho gayaa hu. aapki shbd komalta ka deevana ho gayaa hu../aour meri is deevangee ko aap bhi khoob sambhaal rahe he, shandaar lekhan ke jariye.

    moun aamantran-
    poonam ka chand
    mukt lahre
    aour fir paani ki bikhari boonde..
    prateeko ka esa istmaal aakhir kise nahi pagal karega?

    registaan ka pighalna fir paani ki syaahee, wah ji behtreen.., ret par likhna bhi moun aamantran hota he,,,bavjud katra katra pyaas...jo savaal khada kare isake pahle hi isakaa uttar bhi mil jataa he turant ki 'too kareeb ho kar bhi kitanaa door....///'

    aamantran ki
    ab to aa..
    aa do pal bita le
    juda hone se pahle./"""""

    maza aa gaya ji.

    जवाब देंहटाएं
  21. खूबसूरत शब्दों व भावों से सजी सुन्दर अभिव्यक्ति !!!

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत बढ़िया और सुंदर एहसास के साथ लिखी हुई आपकी ये लाजवाब रचना बहुत पसंद आया !

    जवाब देंहटाएं
  23. पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण
    वाह्! कितनी खूबसूरत अभिव्यक्ति है!यूं ही लिखते रहिए......

    जवाब देंहटाएं
  24. तपती दोपहरी
    पिघलता रेगिस्तान
    पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण
    कतरा कतरा जागती प्यास
    तू करीब हो कर भी कितना दूर
    दहकती रेत पर
    उतरने लगी है सुरमई चादर
    बेहद शानदार अभिवयक्ति लिखा है आपने । शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  25. उष्रंखल होती मुक्त लहरें
    तुझमे समा जाने का पागलपन
    किनारों से टूट कर बिखरने का उन्माद
    अपने अस्तित्व को खो देने की चाहत
    ....Behad sundar Abhivyakti.

    जवाब देंहटाएं
  26. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ---शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  27. लाजवाब अभिव्यक्ति,

    मन गद-गद् हो गया।

    बधाई स्वीकार करें

    चन्द्र मोहन गुप्त

    जवाब देंहटाएं
  28. किनारों से टूट कर बिखरने का उन्माद
    अपने अस्तित्व को खो देने की चाहत

    पानी की बिखरी बूँदों में
    मेरा अक्स चमकने लगा है
    अति सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  29. दिगंबर जी,
    बहुत सुंदर शब्द-चित्र खींचा है आपने!!बिल्कुल जीवंत!! अच्छा है।

    जवाब देंहटाएं
  30. पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण

    Ye panktiyan khas taur par bahut achchi lagin.

    जवाब देंहटाएं
  31. दिगम्बर जी,

    दो कविताओं अलग-अलग भाचों मिलन और बिदा की बेला को इतनी खूबसूरती से जोड़ती है कि मैं तो स्तब्ध रह गया आपके हुनर पर।

    उपमाओं का अप्रतिम और अनूठा प्रयोग, साधुवाद!

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  32. पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण
    कतरा कतरा जागती प्यास
    तू करीब हो कर भी कितना दूर
    दहकती रेत पर
    उतरने लगी है सुरमई चादर
    भावनाओं के सागर मे से निकले मोती शब्दो के्रूप मे कगज़ पर बिखर कर प्रेम रस बहा गये लाजवाब्

    जवाब देंहटाएं
  33. तपती दोपहरी
    पिघलता रेगिस्तान
    पानी की स्याही से
    रेत पर लिखा
    मौन आमंत्रण
    कतरा कतरा जागती प्यास
    तू करीब हो कर भी कितना दूर
    दहकती रेत पर
    उतरने लगी है सुरमई चादर

    आ दो पल बिता लें
    जुदा होने से पहले .
    bahut sundar pankti .

    जवाब देंहटाएं
  34. आ दो पल बिता लें
    जुदा होने से पहले
    आपकी रचना के ये 'दो पल' दो जन्मों का सुख दे गए हैं..
    बहुत खूबसूरत....
    इसके आगे सिर्फ मौन...

    जवाब देंहटाएं
  35. ye rachana kai baar padha chuka..
    bahut badhiya hai..
    next ka wait kar raha hoon..

    dhanywaad

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है