मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

प्रेम की ये कैसी इब्तदा

कभी कभी बातों ही बातों में मन के आस पास उमड़ते घुमड़ते अनजाने कुछ शब्द, कोई कल्पना या रचना का रूप ले लेते हैं ..... प्रस्तुत है ऐसी ही एक रचना जो अनजाने ही उग आयी मन के आँगन में ..........


खूब है मासूम सी अदा
बोलती आँखें यदा कदा

होठ से तेरे जो निकले
गीत मैं गाता रहूँ सदा

स्पर्श से महका जो तेरे
खिल रहा वो फूल सर्वदा

ग्वाल में राधा तू मेरी
बांसुरी बजती यदा यदा

हाथ में सरसों खिली है
प्रेम की ये कैसी इब्तदा

मेघ धरती अगन वायु
कायनात तेरी सम्पदा

हूँ पथिक विश्राम कैसा
आपसे लेता हूँ मैं विदा

59 टिप्‍पणियां:

  1. हूँ पथिक विश्राम कैसा
    आपसे लेता हूँ मैं विदा
    बिलकुल विश्राम मत करिए , लिखते रहिये
    सुन्दर लगा

    जवाब देंहटाएं
  2. ग्वाल में राधा तू मेरी
    बांसुरी बजती यदा यदा

    हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    सुन्दर शब्दों का समागम किया आपने नासवा साहब ! बहुत खूब !!

    जवाब देंहटाएं
  3. हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा
    इब्तदा ए इश्क है रोता है क्या ....
    आगे आगे देखिये होता है क्या ...!!

    जवाब देंहटाएं
  4. हूँ पथिक विश्राम कैसा
    आपसे लेता हूँ मैं विदा

    इतने सजीव शब्‍दों का चयन कर हर पंक्ति को आपने तो जीवंत ही कर दिया, बहुत ही लाजवाब प्रस्‍तुति, बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  5. हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    यही प्रेम होता है ..:) बहुत सुन्दर लगी आपकी यह रचना ..शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  6. स्पर्श से महका जो तेरे
    खिल रहा वो फूल सर्वदा
    वाह क्या कहने
    और भी
    हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    जवाब देंहटाएं
  7. खूब है मासूम सी अदा
    बोलती आँखें यदा कदा

    होठ से तेरे जो निकले
    गीत मैं गाता रहूँ सदा

    स्पर्श से महका जो तेरे
    खिल रहा वो फूल सर्वदा
    एक रुमानी एहसास को जगाती हुई पंक्तियाँ......
    जिसमे कुछ भिंगा भिंगा एहसास है जो मन मानस को मदहोशी के आलम तक ले कर जा रही है ......

    हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    मेघ धरती अगन वायु
    कायनात तेरी सम्पदा
    मन के आंगन मे खिली धूप से प्रेम का सरसो लहलहा रही है और महबूबा एक कायनात की महारानी बन प्रकृति के सौन्दर्य से आपकी चाहत को मानो सजा रही हो ............
    बहुत बहुत सुन्दर रचना.......बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  8. खूब है मासूम सी अदा
    बोलती आँखें यदा कदा

    होठ से तेरे जो निकले
    गीत मैं गाता रहूँ सदा

    स्पर्श से महका जो तेरे
    खिल रहा वो फूल सर्वदा
    एक रुमानी एहसास को जगाती हुई पंक्तियाँ......
    जिसमे कुछ भिंगा भिंगा एहसास है जो मन मानस को मदहोशी के आलम तक ले कर जा रही है ......

    हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    मेघ धरती अगन वायु
    कायनात तेरी सम्पदा
    मन के आंगन मे खिली धूप से प्रेम का सरसो लहलहा रही है और महबूबा एक कायनात की महारानी बन प्रकृति के सौन्दर्य से आपकी चाहत को मानो सजा रही हो ............
    बहुत बहुत सुन्दर रचना.......बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर शब्द संयोजन, उतने ही गहरे भाव, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  10. हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    ye panktiyan bahut achchhee lagin.

    urdu aur hindi ke shuddh shbdon ka sundar prayog kiya hai.
    prem bhaav bhari yah rachna achchhee lagi.

    जवाब देंहटाएं
  11. vida le lo hona na juda
    bha gai ye aapki ada

    bahut khoob digambar ji,

    जवाब देंहटाएं
  12. एक एक शब्द मन को छू रहा है भाव बहुत आत्मीय और सघन हैं . बधाई

    जवाब देंहटाएं
  13. हूँ पथिक विश्राम कैसा
    आपसे लेता हूँ मैं विदा

    Babut umda lagi aapki rachana. Videsh mein rahakar aapka hindi ke prati prem bahut achha laga.
    Likhate rahiyega.
    Badhai

    जवाब देंहटाएं
  14. सहज में बन गई रचना बड़ी खूब रचना है जी,,,,,,,,,,,,,,,

    बधाई होई......

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत ही सुंदर लगी आप की यह रचना.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  16. bahut sunder rachna par esse pichhli apki 3 rachnaye bahut bahut sunder thi..awesome...

    जवाब देंहटाएं
  17. हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    बहुत खुबसूरत रचना है.

    जवाब देंहटाएं
  18. दिगंबर जी नमस्कार फीड ना मिलाने के नाते मै अभी आपके ब्लॉग पर आया ....
    आपके लिखे की क्या तारीफ़ करू बस अभिवादन स्वीकार करे

    जवाब देंहटाएं
  19. ग्वाल में राधा तू मेरी
    बांसुरी बजती यदा यदा
    हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा ।।

    बहुत ही बढिया कविता! शब्दों और भावों का लाजवाब संयोजन !!

    जवाब देंहटाएं
  20. हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    बेमिसाल, बेहतरीन वाह, वाह.......................

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  21. य्e ीसे ही केवल शब्दों से उपजी रचना नहीं है इसे आपकी संवेदनाओं ने खाद पानी दिया है और आप्के दिल की उपजाऊ धरती पर सुन्दर फूल बन के खिली है।
    हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    मेघ धरती अगन वायु
    कायनात तेरी सम्पदा लाजवाब रचना हमेशा की तरह बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  22. ग्वाल में राधा तू मेरी
    बांसुरी बजती यदा यदा..........waah

    जवाब देंहटाएं
  23. हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    मेघ धरती अगन वायु
    कायनात तेरी सम्पदा
    "jaki rhi bhavna jaisi tin murt dekhi taisi "
    prem ki koi prakashtha nhi hoti
    shbdo ka khubsurat sanyojan.

    जवाब देंहटाएं
  24. Bhaavpoorn बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर रचना....वाह !!!

    जवाब देंहटाएं
  25. बगैर किसी अलंकार के सुन्दर रचना.....दिल को छु लेने वाली ग़ज़ल नुमा कविता...

    जवाब देंहटाएं
  26. दिगम्बर जी,

    हूँ पथिक विश्राम कैसा
    आपसे लेता हूँ मैं विदा

    क्या खूब लिखा है।

    स्पर्श से महका जो तेरे
    खिल रहा वो फूल सर्वदा

    बहुत ही मासूमियत भरा अशआर।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  27. anjane me hi to rachna ka uday hota he, aour jab is tarah ki rachna ka uday hota he to ise bagiya ka khoobsoorat ful mana jaa sakta he.
    हूँ पथिक विश्राम कैसा
    आपसे लेता हूँ मैं विदा,
    yah darshata he aapke safar ko jo chareveti chareveti ...se prabhavit he...,ham katai nahi chahenge ki aap ruke..khoob likhe likhate rahe..anjane me hi sahi magar bemisaal likhte he.

    जवाब देंहटाएं
  28. अच्छी भली रोमांटिक कविता मगर अंत में विदा क्यों?

    जवाब देंहटाएं
  29. लिखते रहिए ऐसे ही सुंदर कविता सर्वदा,
    बेहतरीन है आपके लिखने की यह अदा,
    कुछ इस तरीके से शब्द पिरोए गये हैं,
    जो भी पढ़ेगा निश्चित हो जाएगा फिदा,

    गीत किसी भी प्रकार का हो आप उसमें जान डाल देते हैं..सुंदर कविता ..धन्यवाद जी..

    जवाब देंहटाएं
  30. खूब है मासूम सी अदा
    बोलती आँखें यदा कदा

    होठ से तेरे जो निकले
    गीत मैं गाता रहूँ सदा

    स्पर्श से महका जो तेरे
    खिल रहा वो फूल सर्वदा

    ग्वाल में राधा तू मेरी
    बांसुरी बजती यदा यदा

    हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    मेघ धरती अगन वायु
    कायनात तेरी सम्पदा

    हूँ पथिक विश्राम कैसा
    आपसे लेता हूँ मैं विदा.......


    kya baat hai..... aapne to nishabd kar diya......

    जवाब देंहटाएं
  31. bahut sundar kahana hi kya ,main sabse pahale tippani karne aai thi aur bahut khush rahi ki aage tippani karungi magar box bahut koshish pe bhi nahi khula aur lautna pada .

    जवाब देंहटाएं
  32. ्बहुत ही सुन्दर एवं भा्वपूर्ण रचना --हार्दिक बधाई।
    पूनम

    जवाब देंहटाएं
  33. प्रेम पर लिखी गयी बेहतरीन रचना। दिगंबर जी हार्दिक बधाई।
    हेमन्त

    जवाब देंहटाएं
  34. बहुत ही सुंदर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने अत्यन्त सुंदर रचना लिखा है जो काबिले तारीफ है ! दिल को छू गई आपकी ये शानदार रचना!

    जवाब देंहटाएं
  35. नासवा जी मुझे एक शब्द में "बेहतरीन'' कहने दीजिये...

    जवाब देंहटाएं
  36. सीधी, सादी, नदी के बहते हुए शांत प्रवाह की तरह है आपकी यह गजल।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    जवाब देंहटाएं
  37. सुन्दर रचना ...

    हूँ पथिक विश्राम कैसा
    आपसे लेता हूँ मैं विदा...

    ये अंदाज़ पसंद आया

    जवाब देंहटाएं
  38. इतने कम शब्दों में बड़ी बात कहना कठिन होता है ।

    जवाब देंहटाएं
  39. मेघ धरती अगन वायु
    कायनात तेरी सम्पदा
    kya baat hai! badhai!

    जवाब देंहटाएं
  40. हाथ में सरसों खिली है
    प्रेम की ये कैसी इब्तदा

    itanaa gahra aur bhari she'r??..kya kha kar likha tha sir ji..humen bhi dijiye aisi koi recipe..Ultimate hai!!!
    gagan ki spelling check kar lijiyega..second last sher me!!

    जवाब देंहटाएं
  41. maaf kijiyega thoda galat padh gaya tha is second last sher ko..ekdum sahi hai..sorry!

    जवाब देंहटाएं
  42. बेहतरीन भावाभिव्यक्ति हेतु साधुवाद....

    जवाब देंहटाएं
  43. लिखते रहें आप ऐसा ही सदा
    देता हूं आपको ये दिल से दुआ

    अभी तो सरसों खिली है इश्क मे
    कुछ दिनों के बाद बोलेंगे अरे ये क्या हुआ

    जवाब देंहटाएं
  44. vहरबार की तरह सुंदर रचना ,मगर यह विदा क्यूँ ?

    जवाब देंहटाएं
  45. अनजाने ही उग आयी मन के आँगन में .......... ati khoobsurti se ugii ye rachna !!

    स्पर्श से महका जो तेरे
    खिल रहा वो फूल सर्वदा

    जवाब देंहटाएं
  46. होठ से निकले
    तो शब्द
    आँख से निकले
    तो अर्थ ......
    Kya khoob kah diya...kuch aisa hi aaj likh raha hoon apne blog par...
    Neelesh Jain

    जवाब देंहटाएं
  47. दिल से निकली हुई रचना हमेशा ही अनजाने ही उग आती है. बहुत सुन्दर भावों से ओतप्रोत रचना है.

    जवाब देंहटाएं
  48. अद्भुत भाव,परफ़ेक्ट मीटर. एक मनभावन रचना.

    जवाब देंहटाएं
  49. अच्छा लगा .विदा , शायद फिर आने के लिए .

    जवाब देंहटाएं
  50. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है