रविवार, 4 अप्रैल 2010

कैसा भविष्य ..

बेरहम वक़्त
जीवन की डोर
लंबी कतार
मरीज़ों का शोर

प्रसूता कक्ष से आती
साँसों की सुगबुगाहट
मुनिया की आँखों में
भविष्य की आहट

जीवन का खेल
किरण की आशा
हल्का सा डर
कुछ कुछ निराशा
अटकी साँसें
कल के सपने

प्रतीक्षा और प्रसूता कक्ष के बीच
सदियों का फांसला

मटमैला
फटा पाजामा पहने
मुनिया का पति

कुछ लम्हे को अटका वक़्त
निस्तब्धता का शोर

अचानक
लंबी चीख के साथ गूँजती बच्चे की आवाज़
करवट बदलती श्रीष्टि
समय की अंगड़ाई
साँसों का प्रवाह
नयी सुबह की आहट

भड़भड़ा कर खुलते दरवाजे की चरमराहट की बीच
सफेद चादर में लिपटा मुनिया का बेजान शरीर
साथ ही गुलाबी चोला पहने
खिलखिलाता बचपन

साँसों के बदले
साँसों का सौदा

भविष्य की चाह में
वर्तमान से टूटा नाता

बाहर लगा मुस्कुराता होर्डिंग
बच्चे - हमारे आने वाले कल का भविष्य ....

66 टिप्‍पणियां:

  1. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा
    ....क्या बात कही है...?...वाह...
    .
    http://laddoospeaks.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  2. अपने भारत के कई गाँवों में बनते ऐसे क़िस्से...बेहद भावपूर्ण कविता ..दिल छू लिया दिगंबर जी क्या बताएँ कितने बढ़िया भाव वर्णित किया आपने एक संदेश देने के साथ साथ....बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. ओह ! बेहद मार्मिक।
    चिकित्सा समाज का प्रयास तो यही है कि ऐसा न हो।

    जवाब देंहटाएं
  4. ओह , बहुत मार्मिक चित्रण...दर्दभरी रचना....

    भावुक कर गयी ये रचना.

    जवाब देंहटाएं
  5. वास्तविकता से परिचय कराती ये ....मार्मिक रचना .....बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  6. कुछ लम्हे को अटका वक़्त
    निस्तब्धता का शोर'
    --और इसी शोर में खो जाती एक जिंदगी!
    'भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता '

    **स्थिति का सटीक आंकलन करती पंक्तियाँ

    -मर्मस्पर्शी रचना .

    जवाब देंहटाएं
  7. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    क्या बात है ,लाजबाब

    जवाब देंहटाएं
  8. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    मार्मिक

    जवाब देंहटाएं
  9. बड़ा ही सम्वेदनशील शाब्दिक कोलाज़...."

    जवाब देंहटाएं
  10. मर्मस्पर्शी. कहां से कहां ले गये आप !

    जवाब देंहटाएं
  11. The last verse really touches the heart and brings tears to the eyes..
    "Saanson ke badle,
    Saanson ka sauda.."

    Bahut hi bhavpoorn rachna..

    जवाब देंहटाएं
  12. The last verse really touches the heart and brings tears to the eyes..
    "Saanson ke badle,
    Saanson ka sauda.."

    Bahut hi bhavpoorn rachna..

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत ही गजब की रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  14. एक हर्ट-ब्रेकिंग कविता..

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    भारत मे प्रसव के दौरान होने वाली मृत्यु के आँकड़े हैरान कर देने वाले हैं..एक मातृत्व-विहीन बचपन कितना कष्टप्रद होता है..सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है..गहरे और जरूरी निहितार्थ छिपे हैं कविता मे..

    जवाब देंहटाएं
  15. सादर वन्दे!
    यही हमारे नेताओं के व व्यवस्था की सच्चाई है.
    फिर वही बात कम शब्द अर्थ हजार.
    रत्नेश त्रिपाठी

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत ही भावपूर्ण और मार्मिक रचना लिखा है आपने जो सराहनीय है! बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  17. शीर्षक से ही भावनाओं की गहराई का एह्सास होता है। इस विषय पर इससे बेहतरीन रचना मैंने नहीं पढ़ी है। बहुत मार्मिक कविता।

    जवाब देंहटाएं
  18. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    .......बहुत मार्मिक कविता।

    जवाब देंहटाएं
  19. आपने बहुत ही मार्मिक रचना प्रस्तुत की है!
    पढ़कर मन भर आया!

    जवाब देंहटाएं
  20. dil ko dahaladene wala sajeev chitran......
    bahut sunder prastuti .

    जवाब देंहटाएं
  21. वास्तविकता से रूबरू कराती रचना रोंगटे खडी कर गई। बहुत बधाई नासवा जी।

    जवाब देंहटाएं
  22. जीवन का खेल
    किरण की आशा
    हल्का सा डर
    कुछ कुछ निराशा
    waah waah kya baat hai...
    behtareen....

    जवाब देंहटाएं
  23. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    great poem

    जवाब देंहटाएं
  24. जीवन का खेल
    किरण की आशा
    हल्का सा डर
    कुछ कुछ निराशा
    अटकी साँसें
    कल के सपने
    adbhut rachna ,vedana ke swar gunj rahe hai har shabdo me .

    जवाब देंहटाएं
  25. ...बहुत सुन्दर, बेहद प्रसंशनीय रचना, बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  26. आपने कठिन भावों को शब्द दिया है.
    मार्मिक अभिव्यक्ति है. अपने उद्देश्य में सफल कविता है यह.

    जवाब देंहटाएं
  27. अचानक
    लंबी चीख के साथ गूँजती बच्चे की आवाज़
    करवट बदलती श्रीष्टि
    समय की अंगड़ाई
    साँसों का प्रवाह
    नयी सुबह की आहट
    ..........बहुत बधाई नासवा जी।

    जवाब देंहटाएं
  28. संवेदनशील हृदयस्पर्शी रचना, गज़ब का सुक्ष्मावलोकन और एक करारा व्यंग
    साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    बाहर लगा मुस्कुराता होर्डिंग
    बच्चे - हमारे आने वाले कल का भविष्य ....

    जवाब देंहटाएं
  29. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    atyant marmik aur samvedansheel rachna.

    जवाब देंहटाएं
  30. प्रसूता कक्ष से आती
    साँसों की सुगबुगाहट
    मुनिया की आँखों में
    भविष्य की आहट

    जीवन का खेल
    किरण की आशा
    हल्का सा डर
    कुछ कुछ निराशा
    अटकी साँसें
    कल के सपने

    प्रतीक्षा और प्रसूता कक्ष के बीच
    सदियों का फांसला

    वाह नासवा साहब, आपकी कल्पना की दौड़ ने जीवन का क्या खाका खींचा डाला, बहुत खूब !

    जवाब देंहटाएं
  31. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    बाहर लगा मुस्कुराता होर्डिंग
    बच्चे - हमारे आने वाले कल का भविष्य ....
    Ek kaduwa sach, dardbhari jeeti-jaati dastaan jisse man ko gahri thes pahunchti hai ki aakhir kab tak jhute sapne ke sahare jeeta rahega aam aadmi...

    जवाब देंहटाएं
  32. नसवा साहब
    बेहतरीन रचना हरबार की तरह
    इस बार भी लाजबाब |

    जवाब देंहटाएं
  33. सारी पीड़ा आँखों के सामने सजीव हो उठी
    बधाई स्वीकार करे

    जवाब देंहटाएं
  34. दिल को छु लेने वाली मार्मिक रचना बहुत पसंद आई यह ...सच के लफ्ज़ हमेशा दिल को भावुक कर देते हैं

    जवाब देंहटाएं
  35. भड़भड़ा कर खुलते दरवाजे की चरमराहट की बीच
    सफेद चादर में लिपटा मुनिया का बेजान शरीर
    साथ ही गुलाबी चोला पहने
    खिलखिलाता बचपन
    साँसों के बदले
    साँसों का सौदा
    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता
    बाहर लगा मुस्कुराता होर्डिंग
    बच्चे - हमारे आने वाले कल का भविष्य ....

    मानवीय संवेदनाओं और जाग्रत विवेक को रेखांकित करती पंक्तियां।
    हमारी व्यवस्था के दोगलेपन पर तमाचा
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  36. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    कहीं अस्पताल के किनारे बैठ लिखी लगती है ये दर्द से जुडी नज़्म......!!

    जवाब देंहटाएं
  37. भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    बहुत सुंदर, धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  38. भावुक कर देने वाली बेहद मार्मिक प्रस्तुति!!
    आभार्!

    जवाब देंहटाएं
  39. shuruvaat ki lainepadhate padhte jab antim panktiyo par pahunchitolaga ki kya likhun nihshabd ho ho gai. vastutahaajki sachchai yahi .sanso ke badale sanso ka souda dil ko kchot gai ye pankti.

    जवाब देंहटाएं
  40. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    बाहर लगा मुस्कुराता होर्डिंग
    बच्चे - हमारे आने वाले कल का भविष्य ....

    सत्य का कसैलापन लिए एक भावप्रणव कविता! अब तो होर्डिंग और प्रोपेगैंडा ही सब कुछ है.

    जवाब देंहटाएं
  41. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    सच्चाई बयां करती रचना ...........

    जवाब देंहटाएं
  42. बहुत करारा व्यंग्य ,करुण दशा का चित्रण ।अचानक लम्बी चीख के साथ गूंजती बच्चे की आवाज ,और सफ़ेद चादर मे लिपटा.......दुख व्यक्त किया जाये या क्रोध कुछ भी करो क्योंकि भविष्य के लालच मे बर्तमान की बलि चढती आई ही है

    जवाब देंहटाएं
  43. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा.....jane vidhi ka vidhaan kya hai

    जवाब देंहटाएं
  44. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता

    इन चन्‍द शब्‍दों ने पूरी जिन्‍दगी को सामने लाकर खड़ा कर दिया है, गहरे भावों के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  45. aapki rachnaon ka intzaar hai.....
    http://i555.blogspot.com/ mein is baar तुम मुझे मिलीं....
    jaroor padhein....

    जवाब देंहटाएं
  46. सीधे सरल शब्दों में बहुत बड़ी बात कह दी आपने।
    अच्छी कविता के लिए बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  47. नासवा साहब
    क्या खाका बुना है आपने......उफ़.....प्रसूता के साथ का एहसास.......वाकई क्या रचना संसार है आपका.....!दिल से बधाई....

    जवाब देंहटाएं
  48. साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता
    ओह बहुत ही गहरी बात कह दी...इन शब्दों के माध्यम से

    जवाब देंहटाएं
  49. बहुत ही दर्द भरी अभिव्यक्ती ।
    साँसों के बदले
    साँसों का सौदा

    भविष्य की चाह में
    वर्तमान से टूटा नाता ।
    आह और वाह !

    जवाब देंहटाएं
  50. नासवा जी, भाव विभोर कर दिया आपकी रचना ने.

    इस साहित्यिक बुलंदी के लिये बधाई.

    विलंब के लिये क्षमा सहित.

    जवाब देंहटाएं
  51. सादर वन्दे !
    हाथ भर दूरी पे पड़ा
    इच्छा मृत्यु का वरदान
    धीरे धीरे मुस्कुराता है ...
    यही आखिरी सत्य है!
    भावपूर्ण रचना |
    रत्नेश त्रिपाठी

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है