गुरुवार, 20 मई 2010

प्रगति

कुछ नही बदला
टूटा फर्श
छिली दीवारें
चरमराते दरवाजे
सिसकते बिस्तर
जिस्म की गंध में घुली
फ़र्नैल की खुश्बू
चालिस वाट की रोशनी में दमकते
पीले जर्जर शरीर

लंबी क़तारों से जूझता
चीखती चिल्लाती आवाज़ों के बीच
साँसों का खेल खेलता
पुराना
सरकारी अस्पताल का
जच्चा बच्चा
वार्ड नंबर दो
जहाँ मैने भी कभी
पहली साँस ली

अस्पताल के बाहर
मुँह चिड़ाता होर्डिंग
हमारा देश - प्रगति के पथ पर

68 टिप्‍पणियां:

  1. अस्पताल के बाहर
    मुँह चिड़ाता होर्डिंग
    हमारा देश - प्रगती के पथ पर

    Yah bhi sach hai..par apne deshme chahe desvasi ho ya pardesi, sarkaari asptaal me kuchh to tavajjo
    mil jati hai..pardes me marne ke liyehi chhod diya jata hai! Yah mera wyaktigat anubhav hai!

    जवाब देंहटाएं
  2. ek dam sahi jagah chot ki hai..
    bahut khoob.
    (laptop problem de raha hai ..roman men likhne par majboor hoon .)

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत से गहरे एहसास लिए है आपकी रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  4. हा-हा-हा... काश की इस सच्ची कविता को अपना मौन सिंह भी पढ़ पाता, बढ़िया प्रस्तुति नासवा साहब !

    जवाब देंहटाएं
  5. सच्चाई बयान करती , न जाने कितने और साल लगेंगे प्रगति की राह में कदम बढ़ाने के लिए..देश अभी तो राह पर तो आया है लेकिन खड़ा है!
    हमेशा की तरह एक बहुत अच्छी कविता.
    --अल्पना वर्मा

    जवाब देंहटाएं
  6. "प्रगति" की स्पेल्लिंग ठीक करें... सही स्पेल्लिंग मैंने लिखा है.

    जवाब देंहटाएं
  7. हमारा देश - प्रगती के पथ पर .बहुत अच्छी कविता

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी कविता.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  9. आपने सही कहा है .. प्रगति तो बस कहने के वास्ते है ... हाथी के दांत है ...

    जवाब देंहटाएं
  10. यह कहाँ देख लिया नासवा जी ?
    हम तो चमकाने में लगे हैं ।
    वैसे दर्द बहुत छुपा है रचना में ।

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ख़ूब दिगंबर भाई .... उम्दा रचना !!

    जवाब देंहटाएं
  12. शुक्रिया किन्तु कविता में अभी भी यह गलती मौजूद है... वैसे मुझे लगा था आप शीर्षक में भूल जायेंगे :)

    जवाब देंहटाएं
  13. सागर जी ... बहुत बहुत शुक्रिया ... ग़लती सुधार ली है ...
    मुझे मालुम है अगर आप रचना पर भी टिप्पणी करेंगे तो सुधार की गुंजाइश ज़रूर निकलेगी ... इसलिए कंजूसी न करें इस बार ...

    जवाब देंहटाएं
  14. badi kadvi sachchayi kah di hai.........bahut khoob.

    जवाब देंहटाएं
  15. सच्चाई से रु-ब-रु करती संवेदनशील रचना.....

    जवाब देंहटाएं
  16. हमारा देश - प्रगति के पथ पर
    अजी हमे तो हमेश वेसा ही देखते है जेसा बचपन से देखते आय है भारत को

    जवाब देंहटाएं
  17. ek aour naraa he- 'kaam pragati par he' kher..hamara desh vikaas me is mamale me sabase aage he...

    rachna me samvedna ke ansh bhi he aur ek karaaraa vyang bhi he../ kataaksh bhe he./

    aapki khoobi he yah.

    जवाब देंहटाएं
  18. सादर वन्दे !
    आज भी सब कुछ वैसा ही है, अंतर सिर्फ इतना है की 40 वाट की बल्ब की जगह 20 वाट के सी ऍफ़ एल ने ले ली है |
    जय हो !
    रत्नेश त्रिपाठी

    जवाब देंहटाएं
  19. bahut hi umdaah rachna..
    yun hi likhte rahein...
    -----------------------------------
    mere blog par meri nayi kavita,
    हाँ मुसलमान हूँ मैं.....
    jaroor aayein...
    aapki pratikriya ka intzaar rahega...
    regards..
    http://i555.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  20. अस्पताल के बाहर
    मुँह चिड़ाता होर्डिंग
    हमारा देश - प्रगति के पथ पर

    रचना में आपने बहुत सुन्दर खाका खींचा है!

    जवाब देंहटाएं
  21. लंबी क़तारों से जूझता
    चीखती चिल्लाती आवाज़ों के बीच
    साँसों का खेल खेलता
    पुराना
    सरकारी अस्पताल का
    जच्चा बच्चा
    वार्ड नंबर दो
    जहाँ मैने भी कभी
    पहली साँस ली


    agar koi mere desh se poochhe... kaise ho bhai? tau jwaab milega bas "jaise the..." bahut khoob kaha..pasand ayee aapki tippni.

    Digamber ji Dubai ke airport par 4 ghante maine bitaye.It was a return journey from England via Dubai on 30th April.dil karta thaa milne ko lekin Dubai ka visa nahi thaa mere paas..

    जवाब देंहटाएं
  22. हाँ कुछ लोग प्रगति के पथ पर हैं

    जवाब देंहटाएं
  23. जो प्रगति हो रही है उसका लाभ किस दिशा को अग्रसर है ये भी किसी से छुपा नहीं है

    सार्थक रचना के लिए बधाई

    जवाब देंहटाएं
  24. बहुत ही सटीक बात ........ पर समझता कौन है होर्डिंग लगाने के लिये तो पैसे हैं पर स्वास्थय सुरक्षा के लिये नहीं ये है प्रगतिशील देश

    जवाब देंहटाएं
  25. लगभग हर किसी की जिन्दगी से जुड़ी सी है आपकी ये कविता सर.. बेहतरीन ख्याल से उपजी, उत्कृष्ट शब्दों की मिट्टी लेकर और बहुत सुन्दर कविता के साँचे में ढाली आपने. पर तजुर्बे की आंच में तपकर उसे चट्टान का सा दृढ बना दिया.

    जवाब देंहटाएं
  26. purn viram k liye shift+\ dabaiyega auchha nahi lg raha uske bina post ||||||
    yaa copy past kr len
    kavita k saath ye sab bhi use krenge to rachna nikhrege .,?'
    ';

    जवाब देंहटाएं
  27. सच है, वाकई कुछ नही बदला

    जवाब देंहटाएं
  28. उफ्फ्फफ्फ्फ्फ़!!!! इतना तीखा व्यंग्य! हिंदी साहित्य के इतिहास से एक जुमला आपकी खिदमत में पेश करता हूँ---"समझदार की मौत है" .
    नन्हीं सी कविता ने तथाकथित विकास की पोल पट्टी खोल कर रख दी.
    व्यंग्य की इस धार पर मैं जल मरा भाई.

    जवाब देंहटाएं
  29. वाकई कुछ नही बदला.....
    "चालिस वाट की रोशनी में दमकते
    पीले जर्जर शरीर.."

    दिगम्बर जी, आपने सब बयाँ कर दिया

    जवाब देंहटाएं
  30. kavita padhkar lambee saans liya.... aur socha yah kee Swarth ne sab kuch chaupat kar diya...

    जवाब देंहटाएं
  31. व्यंगात्मक से रूप से बहुत ही संवेदनशील कविता.... अन्दर तक छू गई...

    जवाब देंहटाएं
  32. कुछ नही बदला......
    और
    हमारा देश - प्रगति के पथ पर
    नासवा जी....व्यवस्थाओं पर ये रचना प्रभावशाली रही.

    जवाब देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है! बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  34. अस्पताल के बाहर
    मुँह चिड़ाता होर्डिंग
    हमारा देश - प्रगति के पथ पर

    लाजवाब व्यंगात्मक प्रस्तुति!
    सच में प्रगति तो सिर्फ कागजों में ही सिमट कर रह गई....

    जवाब देंहटाएं
  35. अस्पताल के बाहर
    मुँह चिड़ाता होर्डिंग
    हमारा देश - प्रगति के पथ पर
    ...सीधी-सच्ची बात लिखो तो हो जाता है व्यंग्य..!
    ...बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  36. कुछ नही बदला
    टूटा फर्श
    छिली दीवारें
    चरमराते दरवाजे
    सिसकते बिस्तर
    जिस्म की गंध में घुली
    फ़र्नैल की खुश्बू
    चालिस वाट की रोशनी में दमकते
    पीले जर्जर शरीर

    बहुत खूब......!

    जवाब देंहटाएं
  37. बहुत खूब..देश की प्रगति का अच्छा नमूना दिखाया आपने.. हस्पतालों कि जगह बड़े बड़े नर्सिंग होम, पोस्ट ऑफिस की जगह कूरियर सर्विस ने और पुलिस की जगह प्राइवेट गार्ड हैं.. हमारे देश को प्रगति मुबारक..

    जवाब देंहटाएं
  38. देस का पालनहार लोग को देखिये नहीं देता है कि सच्चाई का है..उ होर्डिंग कि आंख के सामने दम तोडता हुआ हस्पताल जहां उ लोग का नहीं त उनके बाप का जनम हुआ होगा... आपको धन्यवाद कि आप अइसा सोचते हैं..

    जवाब देंहटाएं
  39. आपकी दोनो रचनायें, आज के हालात को दर्शाती हुई, सुन्दर प्रस्तुती है। काश देश को चलाने वाले, थोड़े से प्रेणना ले पाते ।

    जवाब देंहटाएं
  40. आप ठीक से देखिये आपको प्रगति दिखेगी.अल सुबह हाथ में पानी की बोतल लिए मोबाइल पर बतियाते खुले में शौच को जाते लोग प्रगति की निशानी ही तो हैं. शौचालय भले ही न हों , मोबाइल तो है.

    जवाब देंहटाएं
  41. देश की प्रगति की मुहिम को मुंह चिडाती आपकी रचना सार्थक है।

    जवाब देंहटाएं
  42. चर्चा मंच देखें

    http://charchamanch.blogspot.com/2010/05/163.html

    जवाब देंहटाएं
  43. apni vyastata se baahar aaker jo pragati dikhi uski sachchaai jehan me kulbulane lagi....

    जवाब देंहटाएं
  44. बहुत ही सुन्दर और उम्दा रचना!

    जवाब देंहटाएं
  45. क्या कहूँ....लाजवाब...सुपर्ब...

    जवाब देंहटाएं
  46. अस्पताल के बाहर
    मुँह चिड़ाता होर्डिंग
    हमारा देश - प्रगति के पथ पर ..
    ...देश का एक कडुवा सच ...
    जमीनी हकीकत को बयां करती आपकी रचना मन में एक गहरी टीस उत्पन्न करती हुई......
    सार्थक संवेदनशील रचना के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  47. 'प्रगति' के नकली आवरण के पीछे की कडवी सच्चाई को बड़ी बेबाकी से बयान कर दिया है नासवाजी आपने ! देश की दुर्दशा की हालत जानते बूझते भी पता नहीं क्यों आपकी रचना पढ़ कर मन अवसाद से भर गया ! सशक्त प्रस्तुति के लिए आपको बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  48. ghuskhori(corruption) aur badhti abaadi ke chalte desh ki pragati namumkin hai!

    जवाब देंहटाएं
  49. मुँह चिड़ाता होर्डिंग
    हमारा देश - प्रगति के पथ पर

    मुँह चिढ़ाते होर्डिंग
    ये सच को झुठलाते होर्डिंग
    अब तो सच यही है

    जवाब देंहटाएं
  50. बहुत सही सुन्दर सार्थक रचना बहुत पसंद आई

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है