सोमवार, 13 सितंबर 2010

बीती यादें ...

अक्सर
गुज़रे हुवे वक़्त की सतह पर
तेरी यादों की काई टिकने नही देती
एक बार फिसलने पर
फिसलता चला जाता हूँ
खुद को समेटने की कोशिश में
और बिखर जाता हूँ
बीते लम्हों के घाव
पूरे जिस्म पर उभर आते हैं

बीती यादों का जंगल
निकलने नही देता है
वर्तमान में जीने की कोशिश
तेरा ख्वाब रोक देता है
उंगलियों की पकड़
मौका पकड़ने नही देती
बाहों में कोई ख्वाब
जकड़ने नही देती

घर की हर चौखट पर
तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
बीते लम्हों की सीलन
दीवारों पर उतर आई है

अगली बरसात से पहले
हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
बरसों से जमी काई
खुरच देना चाहता हूँ
हर साल की तरह अपने आप से
नया अनुबंध करना चाहता हूँ
इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ

72 टिप्‍पणियां:

  1. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ

    वाह. खूबसूरत..

    जवाब देंहटाएं
  2. हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ

    सुन्दर रचना नासवा साहब !बेहतरीन ख्याल, चलो कुछ ख्वाब इस तरह ही बुन लिए जाये !

    जवाब देंहटाएं
  3. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है

    अतिसुन्दर भावाव्यक्ति , बधाई के पात्र है

    जवाब देंहटाएं
  4. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ
    mujhe bhi aapke shabdo ka jaal behad pasand aaya ,ant to kamaal ka hai ,sapne bache rahe inhi koshisho se .....aur kya kahoon ?

    जवाब देंहटाएं
  5. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ...
    दिगंबर नासवा जी,
    बस इतना ही कहना मुनासिब होगा...
    नज़्म लेखन में महारथ हासिल है आपको.

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहद खूबसूरती से मन के भाव लिखे हैं..यादों को भुलाने की असफल कोशिश..बहुत सुन्दर.

    जवाब देंहटाएं
  7. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है
    ...bahut hi sundar bhaav.

    जवाब देंहटाएं
  8. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है


    फिर भी कुछ कर गुजरने की चाह है ...


    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ

    बहुत सुन्दर और सकारात्मक भाव ....बहुत अच्छी प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह , यादों को कितना दर्दीला बना दिया है आपने ।

    अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ

    आशावादी ।
    सुन्दर रचना नासवा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  10. बेहतरीन...ऐसा लगता है मन के भाव बिना किसी अवरोध के सीधे कागज पर छाप दिए हों| बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  11. दिगम्बर जी… यादों का रीन्युअल है या दर्द का … बहुत सुंदर हमेशा की तरह!!

    जवाब देंहटाएं
  12. aapke lekhan aapke bhavo ka humsaya hai....mai vyastta ke karan post adhik nahee pad paee aur Arna ke godee me bane rahne se comment likhana to sambhav tha hee nahee........ koi baat nahee 26th sep lout rahee hoo fir samay hee samay hai.........

    जवाब देंहटाएं
  13. कभी-कभी रचनाकार की रचना पढ़कर कुछ कहने का मूड नहीं बन पाता....इस समय मैं इसी स्थिति में हूँ

    जवाब देंहटाएं
  14. हर साल आप क्‍या नया अनुबंध करते हैं यह बात कुछ समझ में नहीं आई।

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!!!!
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  16. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ
    --
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!

    जवाब देंहटाएं
  17. यादें ............... कितनी भी खुरचे मिटती नही

    जवाब देंहटाएं
  18. सुंदर और उम्दा रचना सर जी ....

    इस नारे के साथ कि...... चलो हिन्दी अपनाएँ
    आप सभी को हिन्दी दिवस पर शुभकामनाएँ

    आपको बधाई और आभार

    जवाब देंहटाएं
  19. pataa nahi kyo tippani nahi ho paa rahi he..chaar baar likh chukaa...kheir..koshish jaari he

    जवाब देंहटाएं
  20. अगले बरसात के लिये खूबसूरत तैय्यारी ।

    जवाब देंहटाएं
  21. हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ

    इच्छाएँ भी...कितना लोहा माँगती हैं..

    जवाब देंहटाएं
  22. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है
    बहुत गहरी संवेदना मे लिखी गयी इस रचना के लिये बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  23. ..इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ.
    ..जीने की उर्जा देता इस बेहतरीन कविता के लिए बधाई।
    ..लेकिन दुःख भरी यादें भी कुछ न कुछ तो देती ही हैं..कुछ नहीं तो यह एहसास कि इतने दुःख भरे समय में भी हमने जिंदगी की मुश्किलों का सामना कितने साहस से किया!

    जवाब देंहटाएं
  24. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ

    सुंदर रचना.बधाई!!

    जवाब देंहटाएं
  25. @-.इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ.

    The moment it comes in our mind to weave a new dream, means a new birth . One must dream !

    जवाब देंहटाएं
  26. हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ
    बहुत गहरी संवेदना बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!

    जवाब देंहटाएं
  27. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है
    bahut khoob bahut sunder

    जवाब देंहटाएं
  28. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है
    ..........................
    सुंदर रचना......बधाई!!

    जवाब देंहटाएं
  29. ओह! मेरी कहानी...क्या गजब उकेरी है!!




    हिन्दी के प्रचार, प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है. हिन्दी दिवस पर आपका हार्दिक अभिनन्दन एवं साधुवाद!!

    जवाब देंहटाएं
  30. बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ

    वाह्……………बेहद खूबसूरत ………………।काश ! ऐसा हो पाये……………ज़िन्दगी को एक नयी दिशा मिल पाये।

    जवाब देंहटाएं
  31. एक स्वाभाविक सा सरल सा बहाव है रचना में ...

    जवाब देंहटाएं
  32. इन काइयों को उतार पाना क्या सचमुच संभव है ....?
    हाँ वर्तमान में जीने की कोशिश तो करनी ही है .....
    बहुत गहरे से जोड़ लेते हैं शब्दों को आप ....इस उदासी को और गहरा जाती है आपकी नज़्म .....!!

    जवाब देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर बिम्ब चुने हैं आपने भावों को पैनापन देने के लिए...

    सदैव की भांति मोहक मर्मस्पर्शी रचना...

    जवाब देंहटाएं
  34. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  35. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ
    ......... अंतर्मन में गहराती उदासी को नया सकारात्मकता कलेवर देना बहुत अच्छा लगा..
    गणेशोत्सव की हार्दिक शुभकामना

    जवाब देंहटाएं
  36. निराशा के बादलों से निकलकर आशा की किरण की और अग्रसर होती हुई सुन्दर रचना |

    जवाब देंहटाएं
  37. मन को छूती कविता |बधाई
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  38. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है
    ---------------------बेहतरीन कविता की सुन्दर और भावपूर्ण पंक्तियां।

    जवाब देंहटाएं
  39. घर की हर चौखट पर
    तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है


    waah ! gazab kar diya fir se aapne sir bahut hi sunder abhivyakti "

    ------ eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  40. बहुत ख़ूबसूरत और शानदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! आपकी लेखनी को सलाम! उम्दा रचना के लिए बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  41. खुद को समेटने की कोशिश में
    और बिखर जाता हूँ
    बीते लम्हों के घाव
    पूरे जिस्म पर उभर आते हैं


    गहरे भाव लिये हुये बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  42. जितनी मर्जी खुरच लें ये यादें पीछा कहाँ छोडती हैं । भावनाओं को प्रस्तुत करने काापका अंदाज निराला तो है ही भाने वाला भी है ।

    जवाब देंहटाएं
  43. तेरी यादों की काई
    यादों का जंगल
    यादों की दीमक

    वाह...क्या विलक्षण प्रयोग किये हैं...कमाल किया है आपने...बहुत बहुत बधाई..
    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  44. बेहतरीन अभिव्यक्ति,
    यहाँ भी पधारें:-
    अकेला कलम...

    जवाब देंहटाएं
  45. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ

    इतना आसान तो नहीं काई को खुरच देना.
    इतना आसान तो नहीं पुराने अनुबंध तोड़ पाना.

    सुंदर कृति.

    जवाब देंहटाएं
  46. बीती यादों का जंगल
    निकलने नही देता है
    वर्तमान में जीने की कोशिश ...

    बहुत भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  47. आज सभी अच्छी रचनाएँ पढने को मिल रहीं हैं

    जवाब देंहटाएं
  48. तेरी यादों की दीमक रेंग रही हैं
    बीते लम्हों की सीलन
    दीवारों पर उतर आई है

    unchuye bimbon ka behatreen istamal. Har baar kee tarah behad bhavuk Rachnaa...

    जवाब देंहटाएं
  49. सुन्दर रचना नासवा साहब !बेहतरीन ख्याल,

    जवाब देंहटाएं
  50. दिगम्बर जी… ......... बहुत सुंदर हमेशा की तरह!

    जवाब देंहटाएं
  51. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ

    kya khub kaha hai sir aapne...:)

    जवाब देंहटाएं
  52. it is good to plan for new dreams,good wishes,sunder bhav ki kavita.

    जवाब देंहटाएं
  53. बहुत सुंदर भावोक्ति!...सुंदर अहसास!

    जवाब देंहटाएं
  54. बहुत सुंदर भावोक्ति!...सुंदर अहसास!

    जवाब देंहटाएं
  55. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता

    बहुत ही करीने से तराशे गये ख्वाब हैं..इंशाअल्ला जरूर पूरे होंगे।

    जवाब देंहटाएं
  56. उंगलियों की पकड़
    मौका पकड़ने नही देती
    बाहों में कोई ख्वाब
    जकड़ने नही देती ..

    जवाब देंहटाएं
  57. Seems as if my feelings r described in your words.. n dat too very beautifully...

    जवाब देंहटाएं
  58. अगली बरसात से पहले
    हर कमरे को धूप लगाना चाहता हूँ
    बरसों से जमी काई
    खुरच देना चाहता हूँ
    हर साल की तरह अपने आप से
    नया अनुबंध करना चाहता हूँ
    इक नया ख्वाब बुनना चाहता हूँ

    mindblowing creation !

    .

    जवाब देंहटाएं
  59. यादो की काई,यादों के जंगल सुन्दर प्रतिबिम्ब ....किन्तु यादो की दीमक ???उफ़ जैसे मेरे चारों ओर दीमके रेंगने लगी है और मैं अपने पैरों को समेट कर कुर्सी पर उपर करके बैठ जाती हूँ.विभत्स बिम्ब !
    इन्हें क्यों खुरचना चाहते हो ?जानते नही सीलन भरी दीवारों पर बड़े सुन्दर मोरपंख उग आते हैं.

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है