मंगलवार, 26 अक्तूबर 2010

कहने को दिल वाले हैं ...

गुरुदेव पंकज जी के आशीर्वाद से इस ग़ज़ल में कुछ परिवर्तन किए हैं .... ग़ज़ल बहर में आ गयी है अब ... आशा है आपको पसंद आएगी .....

छीने हुवे निवाले हैं
कहने को दिल वाले हैं

जिसने दुर्गम पथ नापे
पग में उसके छाले हैं

अक्षर की सेवा करते
रोटी के फिर लाले हैं

खादी की चादर पीछे
बरछी चाकू भाले हैं

जितने उजले कपड़े हैं
मन के उतने काले हैं

न्‍योता जो दे आए थे
घर पर उनके ताले हैं

कौन दिशा से हवा चली
बस मदिरा के प्याले हैं

98 टिप्‍पणियां:

  1. दिगम्बर नासवा जी
    "ला-जवाब" जबर्दस्त!!

    ....बहुत बड़ी हकीकत -आज के दौर की।

    जवाब देंहटाएं
  2. तन पर जिनके उजले कपड़े
    मन से उतने काले हैं आज का इस से बड़ा सच क्या होगा ...बहुत खूब ...और यह तो विशेष रूप से पसंद आया ...कौन दिशा से हवा चली है
    बस मदिरा के प्याले हैं .........बेहतरीन शेर आज का

    जवाब देंहटाएं
  3. @ नासवा जी
    पसंद आया यह अंदाज़ ए बयान आपका. बहुत गहरी सोंच है

    जवाब देंहटाएं
  4. sabhee ek se bad kar ek......
    bahut acchee soch hee aisee abhivykti de saktee hai.......
    aapko padna sadaiv hee bahut accha lagta hai....
    Aabhar

    जवाब देंहटाएं
  5. छोटी बहर में खूबसूरत अश’आर...

    छीने हुवे निवाले हैं
    कहने को दिल वाले हैं
    बहुत उम्दा...
    जिसने दुर्गम पर्वत नापे
    पग में उन के छाले हैं
    बेहतरीन.

    जवाब देंहटाएं
  6. सच केवल सच और सच के सिवाय कुछ नहीं।

    जवाब देंहटाएं
  7. खादी की चादर के पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं....

    बिलकुल ऐसा ही है!

    जवाब देंहटाएं
  8. छोटी बहर में बहुत शानदार ग़ज़ल...बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  9. जिसने दुर्गम पर्वत नापे
    पग में उन के छाले हैं
    Kya gazab kee rachana hai!

    जवाब देंहटाएं
  10. सच को दर्शाती एक बेहतरीन रचना सोचने को मजबूर करती है ।

    जवाब देंहटाएं
  11. अक्षर की जो सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं
    सीधी साधी भाषा में गंभीर बात कहने का ढंग , अच्छा लगा बधाई

    जवाब देंहटाएं
  12. आप्की इस की कविता से सहमत हे जी बहुत अच्छी रचना धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  13. जवाब मांगो तो कह देतें,
    सब खुदा के हवाले है !

    बहुत उम्दा रचना... लिखते रहिये ....

    जवाब देंहटाएं
  14. तन पर जिनके उजले कपड़े
    मन से उतने काले हैं

    यथार्थ को दर्शाती रचना ।
    बहुत खूब ।

    जवाब देंहटाएं
  15. खादी की चादर के पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं
    यही सब तो हो रहा है
    बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    जवाब देंहटाएं
  16. 6/10

    छोटी बहर में लिखी गयी पठनीय रचना.
    कई पंक्तियाँ यथार्थ प्रस्तुत कर गहरा प्रभाव
    छोड़ने में सक्षम हैं

    जवाब देंहटाएं
  17. हर शेर स्वतः ही दाद का भण्डार बटोर गया.....

    क्या लिखा है आपने...वाह !!!

    विद्रूपताओं को उघारकर और तीक्षण बना दिया आपने...

    शब्दों के जादूगर हैं आप...

    जवाब देंहटाएं
  18. खादी की चादर के पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं

    तन पर जिनके उजले कपड़े
    मन से उतने काले हैं
    --
    आज तो परोक्ष को प्रत्यक्ष कर दिया!
    --
    सत्य पर से परदा हटा दिया!
    --
    नज्म के सभी शेर दिल को छू गये!

    जवाब देंहटाएं
  19. हमारे विचार से आप डुबकी लगाकर ग़ायब होते हीइसलिए हैं कि अगली बार जब दिखाई पडें तो एक नायाब रचना हमारे लिए तैयार हो! और यह रचना तो लाजवाब है! छोटी बहर, गहरे मानी और सामयिक बिम्ब!

    जवाब देंहटाएं
  20. दिगंबर जी एक और लाजवाब रचना...आपकी व्यस्तता कभी कभी बोझिल लगती है....सोचता हूँ प्रतिदिन आपकी पोस्ट आती तो कितना अच्छा होता..

    जवाब देंहटाएं
  21. जब चलते बादल लहरा कर, उनको कौन सम्हाले।

    जवाब देंहटाएं
  22. दिगम्बर भाई! चुपचाप आकर निकल जाते हैं और शिकायत का मौका तक नहीं देते... मेरी पोस्ट पर किए गए कमेंट का जवाब भी लगे हाथों दे लूँ कि वो वाक़या दुबई का नहीं था. दुबई में तो फोन उठाते ही कोई पूछता, “ मलयाळियाणो?” और मैं जैसे ही कहता, “इल्ला.” उधर से आवाज़ आती, “मलयाळी को फोन दो.” बहुत इंसल्टिंग लगता...
    ख़ैर वो सब अपार्ट! आपकी इस रचना पर बस अपना एक शेर अर्ज़ करना चाहूँगाः
    अपनी खादी की सफ़ेदी देखो,
    ख़ून का इसपे इक निशान भी था.

    जवाब देंहटाएं
  23. यही तो हो रहा है.... हकीकत का सही चित्रण किया आपने....

    जवाब देंहटाएं
  24. अक्षर की जो सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    वाह!!

    पूरी गज़ल सीधे दिल में उतर गई.

    जवाब देंहटाएं
  25. अक्षर की जो सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं
    खादी की चादर के पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं...

    अधिकांशतः सत्य तो यही है..
    एक -एक पंक्ति लाजवाब है ..

    जवाब देंहटाएं
  26. @दिन में जो न्योता दे आए
    घर पर उनके ताले हैं

    अभिनव अभिव्यक्ति! सुन्दर।

    जवाब देंहटाएं
  27. द्वैध को लक्ष्य कर बेहतर लिखा है आपने ! भला क्या किया जाये जो हम भी ऐसे ही हैं और हमारा समाज भी द्वैध की कोख से जाया लगता है :)

    बहरहाल बेहतरीन प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं
  28. chhoti bahar men aise kamaal ke ash'aar ! waah!

    छीने हुवे निवाले हैं
    कहने को दिल वाले हैं

    अक्षर की जो सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    bahut khoob!

    जवाब देंहटाएं

  29. क्यों नहीं जी,
    तबहिन तो दुल्हिन पाले हैं !
    दिल को हम रोयें क्यों,
    क्या दुल्हिन के लाले हैं ?
    हाँ नहीं तो...

    जवाब देंहटाएं
  30. अक्षर की जो सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं .....
    बहुत ही बढियां ...आज के हालात का सटीक चित्रण

    जवाब देंहटाएं
  31. छीने हुवे निवाले हैं
    कहने को दिल वाले हैं
    --
    जिसने दुर्गम पर्वत नापे
    पग में उन के छाले हैं
    -- बहुत खूब !!
    अक्षर की जो सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं ...

    सीधा सच !!

    जवाब देंहटाएं
  32. दिगम्बर जी,

    श्रेष्ठ सार्थक प्रस्तूति

    जवाब देंहटाएं
  33. अक्षर की सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    जीवन का सच यही है.
    लाज़बाब ग़ज़ल...हर एक शेर बेहतरीन है...

    जवाब देंहटाएं
  34. दिगंबर जी, अच्छी कविता बन पड़ी है.


    अक्षर की सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं


    कहने को दिलवाले हैं.

    जवाब देंहटाएं
  35. जितने उजले कपड़े हैं
    मन के उतने काले हैं
    न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं
    कौन दिशा से हवा चली
    बस मदिरा के प्याले हैं
    .....aaj ke daur ka sateek chitran... bahut achhi rachna...

    जवाब देंहटाएं
  36. अक्षर की सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    खादी की चादर पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं

    छोटी बहर में बेहद खूबसूरत और अर्थपूर्ण ग़ज़ल

    जवाब देंहटाएं
  37. छीने हुवे निवाले हैं
    कहने को दिल वाले हैं

    bahut hee ytharth line..pooree gazal seedhe dil me utar gayee

    जवाब देंहटाएं
  38. न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं

    लाजवाब शेर...बेहतरीन दिगंबर भैया किस-किस शेर की दाद दूँ..एक से बढ़ कर एक शेर बन पड़े है....सहज ही दिल में बस जाते है..सुंदर ग़ज़ल के लिए बधाई

    जवाब देंहटाएं
  39. मस्त......
    मजेदार.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    जवाब देंहटाएं
  40. बहुत खूब नासवाजी। आपके अन्दाज़ की बात ही निराली होती है।

    जवाब देंहटाएं
  41. मन को छूती लाजवाब अभिव्यक्ति ,शुभकामनायें ।

    जवाब देंहटाएं
  42. भावपूर्ण रचना के लिए बधाई
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  43. न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं
    अरे नहीं .. क्या वाकई
    बहुत सुन्दर गज़ल .. लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  44. अक्षर की जो सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    वाह...बहुत खूब...
    हर शेर में आपने गहरी बात कही है ....
    शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  45. लाजवाब अभिव्यक्ति !
    सुंदर ग़ज़ल के लिए बधाई !
    KABHI HAMARI GALI ME BHI AAYIYE -
    www.sudhirmahajan.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  46. जिसने दुर्गम पथ नापे
    पग में उसके छाले हैं

    अक्षर की सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    खादी की चादर पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं

    पूरी गज़ल ही बहुत कुछ कहती सी है ..हर शेर एक नयी बात कह रहा है ..बहुत अच्छा लगा पढ़ना

    जवाब देंहटाएं
  47. छीने हुवे निवाले हैं
    कहने को दिल वाले हैं !!

    वाह! अत्योत्तम प्रस्तुति!

    जवाब देंहटाएं
  48. अक्षर की सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं !


    बहुत ही सुन्‍दर एवं बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  49. खादी की चादर पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं

    न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं

    बेहतरीन ग़ज़ल और ये डॉ शेर तो लाजवाब हैं !

    जवाब देंहटाएं
  50. भई वाह क्या बात है ...मेरे पास तो तारीफ़ के लिए भी शब्द नहीं है. आपकी ये पोस्ट दिल में उतर गई.

    जवाब देंहटाएं
  51. जीवन के अंतर्विरोधों को खूबसूरती से उकेरती सुंदर प्रस्तुति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    जवाब देंहटाएं
  52. Sorry for my bad english. Thank you so much for your good post. Your post helped me in my college assignment, If you can provide me more details please email me.

    जवाब देंहटाएं
  53. हम भी शाइर की मानिंद,
    ग़ज़लें कहने वाले हैं.

    please visit my blog.

    जवाब देंहटाएं
  54. जितने उजले कपड़े हैं
    मन के उतने काले हैं
    न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं
    कौन दिशा से हवा चली
    बस मदिरा के प्याले हैं

    दिगम्बर साहब बहुत ही सच्छी बात आप कहे है ....

    जवाब देंहटाएं
  55. इसके बाद कुछ नहीं रह जाता कहने को.

    सुंदर सटीक गज़ल.

    जवाब देंहटाएं
  56. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    आनंद! आनंद! आनंद!
    आशीष
    --
    पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

    जवाब देंहटाएं
  57. अक्षर की सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    खादी की चादर पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं

    जितने उजले कपड़े हैं
    मन के उतने काले हैं

    न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं
    हर एक शेर कमाल का है समझ नही आ रहा किसे कोट करूँ\ ये चारों शेर तो कमाल के हैं। पंकज जी का आशीर्वाद हो आपकी कलम हो फिर कमाल न दिखे ऐसा कैसे हो सकता है। बहुत बहुत बधाई। दीपावली की अपको व परिवार को हार्दिक शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  58. ab kahne ko kya raha ...... gazal ki tareef me wo sabkuch hai jo aapki kamam ko maan deta hai

    जवाब देंहटाएं
  59. ab kahne ko kya raha ...... gazal ki tareef me wo sabkuch hai jo aapki kamam ko maan deta hai

    जवाब देंहटाएं
  60. सुंदर रचना, सुंदर प्रस्तुति...धन्यवाद! ...दिपावली की शुभ-कामनाएं!

    जवाब देंहटाएं
  61. वहां दीवाली मुस्‍काए
    अपने यहां दि‍वाले हैं

    जवाब देंहटाएं
  62. न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं

    कौन दिशा से हवा चली
    बस मदिरा के प्याले हैं

    Bahut Khoob kahaa

    जवाब देंहटाएं
  63. सुंदर प्रस्तुति !! दिपावली की शुभ-कामनाएं!

    जवाब देंहटाएं
  64. बहुत खूबसूरत ग़़ज़़लें अा रही हैं आजकल आपकी तरफ से, बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  65. 100/100

    मेरे ख़याल से इस रचना को अंक दिए जाएँ तो इससे कम नहीं होने चाहिए

    सारा सच कह दिया
    वो भी कितने कम शब्दों
    अदभुद , लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  66. वाह दिगंबर जी! छोटी बहार मैं आपने बहुत असरदार ग़ज़ल कही है...............ये शेर विशेषकर पसंद आये

    अक्षर की सेवा करते
    रोटी के फिर लाले हैं

    खादी की चादर पीछे
    बरछी चाकू भाले हैं

    जवाब देंहटाएं
  67. क्या बात है दिगंबर जी बड़ी मार्मिक बात कह दी आपने

    जवाब देंहटाएं
  68. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  69. गज्ज़ब की गज़ल है सर...बेहद उम्दा..लाजवाब. :)

    जवाब देंहटाएं
  70. सुन्दर रचना। बधाई।आपको व आपके परिवार को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  71. दिगम्बर जी शानदार रचना के लिए बधाई। हरेक शेर जबरदस्त।
    आपको और आपके परिवार को महापर्व दीपोत्सव की शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  72. आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
    मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

    जवाब देंहटाएं
  73. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    इस ज्योति पर्व का उजास
    जगमगाता रहे आप में जीवन भर
    दीपमालिका की अनगिन पांती
    आलोकित करे पथ आपका पल पल
    मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
    सुख समृद्धि शांति उल्लास की
    आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

    आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    जवाब देंहटाएं
  74. बहुत खूबसूरत रचना
    दीपावली की ढेर सारी शुभकामनायें ।

    जवाब देंहटाएं
  75. अरे ये क्या... आप तो शायद छूट ही गये थे मेरी पहुँच से...? मैं तो वंचित ही रह गया था इतनी अच्छी रचनाओं से...!

    इस रचना में व्यंग्य तो है ही, हास्य-रस भी यत्र-तत्र बहता देखा जा सकता है। जैसे यहीं देख लीजिए-

    न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं

    ...बधाई, मेरे भाई!

    जवाब देंहटाएं
  76. अरे ये क्या... आप तो शायद छूट ही गये थे मेरी पहुँच से...? मैं तो वंचित ही रह गया था इतनी अच्छी रचनाओं से...!

    इस रचना में व्यंग्य तो है ही, हास्य-रस भी यत्र-तत्र बहता देखा जा सकता है। जैसे यहीं देख लीजिए-

    न्‍योता जो दे आए थे
    घर पर उनके ताले हैं

    ...बधाई, मेरे भाई!

    जवाब देंहटाएं
  77. आपको एवं आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  78. छोटी बहर में अच्छी गज़ल।
    ..वाह ! यह तो छूट ही रहा था।

    जवाब देंहटाएं
  79. आपको पढ़ते हुए कितना आनंद आ रहा है...बता नहीं सकता...मैं इतने समय से कहाँ भटक रहा था पता नहीं...आज यहाँ पहुंचा हूँ...लगता है सुबह का भूला शाम पड़े घर लौट आया है...

    नीरज

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है