रविवार, 14 नवंबर 2010

प्याज बन कर रह गया है आदमी

मौन स्वर है सुप्त हर अंतःकरण
सत्य का होता रहा प्रतिदिन हरण

रक्त के संबंध झूठे हो गए
काल का बदला हुवा है व्याकरण

खेल सत्ता का है उनके बीच में
कुर्सियां तो हैं महज़ हस्तांतरण

घर तेरे अब खुल गए हैं हर गली
हे प्रभू डालो कभी अपने चरण

आपके बच्चे वही अपनाएंगे
आप का जैसा रहेगा आचरण

प्याज बन कर रह गया है आदमी
आवरण ही आवरण बस आवरण

81 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दिगम्बर जी
    नमस्कार !
    बहुत खूबसूरती से रचना के माध्यम से प्रेरणा दी है
    सुन्दर प्रवाहमान रचना ! आपकी लेखनी भी निरंतर चलती रहे यही कामना है !

    जवाब देंहटाएं
  2. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण
    ........समाज को सन्देश देती एक सार्थक प्रस्तुति!

    जवाब देंहटाएं
  3. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण
    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण
    ....aadmi ke badalti fidrat ka bhavpurn chitran.. ek samajik sandesh deti rachna..aabhar

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर ग़ज़ल. गंभीरता लिए हुए.
    "प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण"
    प्याज का बिम्ब बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  5. रक्त के संबंध झूठे हो गए
    काल का बदला हुवा है व्याकरण

    खेल सत्ता का है उनके बीच में
    कुर्सियां तो हैं महज़ हस्तांतरण

    और सच है बस आवरण ही आवरण रह गया है ..बहुत अच्छी प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह क्या बात है! सचमुच प्याज बनकर ही रह गए हैं हम!

    जवाब देंहटाएं
  7. "खेल सत्ता का है उनके बीच में
    कुर्सियां तो हैं महज़ हस्तांतरण"
    वाह
    अच्छी चल रही है आपकी क़लम .
    बढ़िया ग़ज़ल है,नासवा जी

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत खूब....
    सुन्दर रचना !!

    जवाब देंहटाएं
  9. जीवनी को कुछ नया सा रंग दो,
    हर तरफ उत्साह का हो संचरण।

    बहुत गजबिया पोस्ट।

    जवाब देंहटाएं
  10. मज़ा आ गया पढकर .... एकदम लाजवाब !

    बाल दिवस की शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  11. abhibhut ho yahi kahungi ki ise vatvriksh ke liye bhejen ... taki main isse sambandhit vichaaron ko likh sakun

    जवाब देंहटाएं
  12. ये है इस पहेली का सही जवाब
    पंडित जवाहर लाल नेहरु

    जवाब की जाँच के लिए इस लिंक का प्रयोग करे
    http://thebollywoodactress।com/pandit-jawaharlal-nehru-biography/

    आप अपना जवाब यहाँ पर दे सकते है
    http://i555.blogspot.com/2010/11/4_14.html

    जवाब देंहटाएं
  13. अच्‍छी रचना के लिए बधाई। प्‍याज बनकर रह गया बस आदमी। दूसरों की आँखों में आँसू भी लाता है।

    जवाब देंहटाएं
  14. दिगंबर जी, प्याज में तो बहुत कम आवरण होते हैं...इंसान तो पत्ता गोबी बन गया है.. हा हा हा...बहुत ही खुबसूरत रचना...
    बधाई स्वीकार करें...

    जवाब देंहटाएं
  15. बेहतरीन रचना दिल को छू गयी।
    बाल दिवस की शुभकामनायें.
    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (15/11/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  16. खेल सत्ता का है उनके बीच में
    कुर्सियां तो हैं महज़ हस्तांतरण
    सच मे आज की राजनीति मे पार्टी या व्यक्ति कोई हों सब अन्दर से एक हैं। चोर चोर मौसेरे भाई जैसे


    घर तेरे अब खुल गए हैं हर गली
    हे प्रभू डालो कभी अपने चरण
    हर कोई प्रभु के नाम पर अपनी हाट सजाये बैठा है।

    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण
    बिलकुल सही बात है। आपने खूब अच्छी तरह उधेडे हैं इस प्याज के आवरण। बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  17. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण
    बेहतरीन रचना दिल को छू गयी।

    जवाब देंहटाएं
  18. भाव तो सर्वदा आपके अद्वितीय बंधू ,
    जो चिंतन भी सकारात्मक करे भ्रमण

    लिखते रहिये ....

    जवाब देंहटाएं
  19. प्याज वाला बिम्ब पसंद आया !

    जवाब देंहटाएं
  20. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण

    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण


    वाह, क्या बात है, बहुत खूब। अंतिम शेर बहुत अच्छा लगा।

    जवाब देंहटाएं
  21. जोरदार प्रस्तुति. मैं तो चली अपने प्याज़ के छिलकों में दुबकने

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है!
    --
    बाल दिवस की शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  23. दिगम्बरजी,

    बेमिसाल। हिन्दी की ताल में बही रचना का यह रूप और इसका अर्थ सचमुच मन को छूता है। हर शब्द का गहरा प्रभाव है..
    "प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण.."

    कितना सच है यह..अब न उसकी आत्मा रही है न ही आदमीयत..।
    वैसे इधर भारत में प्याज बहुत महंगा है..इस दृष्टि से आदमी प्याज की तरह हो जाये तो भी ठीक है, मगर आज आदमी की कीमत बहुत सस्ती हो चुकी है और प्याज उससे महंगा है..

    जवाब देंहटाएं
  24. सही मे आवरण ही आवरण ....... बहुत सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  25. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण ...

    ---

    How true !

    We are indeed role models for our children .

    .

    जवाब देंहटाएं
  26. बहुत ही सामयिक और प्रभावशाली रचना है यह---हार्दिक शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  27. बहुत खूब दिगंबर जी , प्याज के छिलके की तरह कितने सतह पर मुखौटे लगा रखा है इन्सान ने . प्रशंशनीय अभिव्यक्ति .

    जवाब देंहटाएं
  28. सबसे सत्य ये रहा कि बच्चे हम को ही अपनाएंगे और हम खुद को नहीं सभाल पाएंगे तो खाक उनसे नेक होने की आशा कर पाएंगे. प्याज की उपमा देकर एक और उपमा इंसान के लिए तैयार कर दी.

    जवाब देंहटाएं
  29. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण

    वाह .. लाजवाब रचना
    बिम्बों से लैस

    जवाब देंहटाएं
  30. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण

    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण

    पूरी ग़ज़ल बहुत पसंद आई ... ख़ास तौर पर ये दो शेर ... बहुत गहराई है रचना में...

    जवाब देंहटाएं
  31. बहुत ही बढ़िया और आदमी की सच्चाई को उजागर करती पोस्ट लिखी हैं आपने.
    फर्क मात्र यही हैं कि -- "प्याज के आवरण और कडवाहट में गुण होते हैं और आदमी की कडवाहट और आवरण में अवगुण ही अवगुण छुपे होते हैं."
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    जवाब देंहटाएं
  32. खेल सत्ता का है उनके बीच में
    कुर्सियां तो हैं महज़ हस्तांतरण
    वाह.... कविता एक मात्र ऐसी विधा है, जो चंद शब्दों में कितनी बड़ी बात कह जाती है. बहुत सुन्दर.

    जवाब देंहटाएं
  33. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण

    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण

    बहुत उम्दा और ख़ूबसूरत मतले से शुरू हो कर इन बा मानी अश’आर पर ख़त्म होने वाली इस मुकम्मल ग़ज़ल के लिये मुबारकबाद क़ुबूल करें

    जवाब देंहटाएं
  34. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण
    सीधा सच्चा शेर...बच्चों से अच्छे संस्कार की उम्मीद करने से पहले खुद ये पथ अपनाना होगा.

    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण
    ये तो हासिले-ग़ज़ल है आपका शेर.
    बहुत अच्छी ग़ज़ल है....मुबारकबाद.

    जवाब देंहटाएं
  35. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण


    ...एकदम सटीक बात कही आपने

    जवाब देंहटाएं
  36. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण
    सटीक कहा है भाई....

    जवाब देंहटाएं
  37. जीवनी को कुछ नया सा रंग दो,
    हर तरफ उत्साह का हो संचरण।

    बहुत अर्थपूर्ण ..... बहुत सुंदर .....बेहतरीन रचना

    जवाब देंहटाएं
  38. are sahab ghazab ka kamaal kiya hai aapne kya sahdi hui zabaan me har sher utra hai.... :) ek dum dharashai kar diya ghazal ne .....hats off

    जवाब देंहटाएं
  39. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण

    वाह सही बहुत खूब ...खूब सही कहा आपने इस शेर के जरिये ..

    जवाब देंहटाएं
  40. नासवा जी निश्चित तौर पर
    सच कहा पर प्याज के आवरण गिने जा सकते
    है पर आदमी के नहीं
    इस बेहतरीन गजल के लिए बधाई..........

    जवाब देंहटाएं
  41. प्याज और आदमी में सिर्फ़ एक समानता है कि वह समय के साथ पर्त दर पर्त उधडता जाता है... और कुछ नहीं..

    वैसे प्याज आजकल ३० रुपये किलो है और बहुत रुला रहा है.

    जवाब देंहटाएं
  42. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 16 -11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  43. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण
    कितनी सच्ची बात कह दी आपने .और कितने सटीक तरीके से..

    जवाब देंहटाएं
  44. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण ....
    satya vachan.

    जवाब देंहटाएं
  45. आपका लेखन तो सदैव ही ह्रदय तक पहुँचने वाला अद्वितीय हुआ करता है,पर इसबार जो आपने हिंदी शब्दों का प्रयोग किया है...

    मनोरम , अतिसुन्दर , वाह !!!!

    जवाब देंहटाएं
  46. sachmuch ...aadmee pyaaz ho gayaa hai ....vahee to main bheee kahoon ki samaaz men itnee badboo kahaan se aa rahee hai !
    pyaaz ke saare taamsik gun aadmee men aa gaye hain ...
    ek shaaleen bhadaas .

    जवाब देंहटाएं
  47. बहुत सच्चाई बयां करती हुई रचना.... सचमुच आदमी के लिए प्याज का उदहारण सही बैठता है.

    जवाब देंहटाएं
  48. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण

    रक्त के संबंध झूठे हो गए
    काल का बदला हुवा है व्याकरण


    बहुत उम्दा ग़ज़ल कही है आपने......

    जवाब देंहटाएं
  49. भाव हैं बिलकुल अनूठे आपके
    भूल ना पाएंगे इनको आमरण..

    दिगंबर जी इस ग़ज़ल के किस शेर की तारीफ़ करूँ.. सारे एक से एक.. साधुवाद!!

    जवाब देंहटाएं
  50. आदमी की प्याज से तुलना बहुत सटीक है|
    बधाई
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  51. बहुत ही शानदार रचना ,और आदमी की प्याज से तुलना तो कमाल है ।

    जवाब देंहटाएं
  52. इस के शीर्षक से ही हम खींचे चले आये :)
    बहुत सुन्दर लिखा है आपने..एकदम सटीक बात.

    जवाब देंहटाएं
  53. इस के शीर्षक से ही हम खींचे चले आये :)
    बहुत सुन्दर लिखा है आपने..एकदम सटीक बात.

    जवाब देंहटाएं
  54. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण

    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण ।


    बहुत ही सुन्‍दर पंक्तियां ।

    जवाब देंहटाएं
  55. सुन्दर बहुत सुन्दर अंदाज.. प्याज और आवरण ही आवरण ..

    जवाब देंहटाएं
  56. digambar ji namaskaar, bahut umda/behatareen rachna hai, badhaai sweekaren.

    जवाब देंहटाएं
  57. jaanti hoon bahut der ho gai hai is rachna par tipanni dene ke liye par rok nahi paa rahi hoon khud ko..... saral vimbon se zindagi ki sachhai baya kar di aapne

    जवाब देंहटाएं
  58. jaanti hoon bahut der ho gai hai is rachna par tipanni dene ke liye par rok nahi paa rahi hoon khud ko..... saral vimbon se zindagi ki sachhai baya kar di aapne

    जवाब देंहटाएं
  59. jaanti hoon bahut der ho gai hai is rachna par tipanni dene ke liye par rok nahi paa rahi hoon khud ko..... saral vimbon se zindagi ki sachhai baya kar di aapne

    जवाब देंहटाएं
  60. रक्त के संबंध झूठे हो गए
    काल का बदला हुवा है व्याकरण
    waah!!!sundar panktiyan!
    saarthak rachna!

    जवाब देंहटाएं
  61. बेहद सटीक बात कह दी आपने कविता के माध्यम से!

    जवाब देंहटाएं
  62. खेल सत्ता का है उनके बीच में
    कुर्सियां तो हैं महज़ हस्तांतरण.....

    परते खोलती अापकी सभी पंक्तियां

    जवाब देंहटाएं
  63. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण ।


    बहुत ही सुन्‍दर......

    जवाब देंहटाएं
  64. रक्त के संबंध झूठे हो गए
    काल का बदला हुवा है व्याकरण

    खेल सत्ता का है उनके बीच में
    कुर्सियां तो हैं महज़ हस्तांतरण ------------------------दिगम्बर जी,बहुत ही खूबसूरत पंक्तियां हैं ये----आज की राजनीति का असली चेहरा दिखाया है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  65. 7.5/10

    बेहद उम्दा और यादगार रचना
    इतनी सटीक हिंदी ग़ज़ल यहाँ पहली बार पढने को मिली. हर एक शेर असरदार है, जो सीधे जहन से टकराता है.

    जवाब देंहटाएं
  66. आपके बच्चे वही अपनाएंगे
    आप का जैसा रहेगा आचरण

    आज कुछ ऐसा ही है और हम आने वाली पीढ़ी को दोष देते रहते है बल्कि यह भी सोचना चाहिए की हमने उन्हे क्या सिखाया

    दिगंबर जी....ऐसी भावपूर्ण और सशक्त ग़ज़ल के लिए बहुत बहुत बधाई....अंतिम शेर तो लाज़वाब बन पड़ा है....ऐसी खूबसूरत शेर के लिए जितनी प्रशंसा करें कम है.....

    माँ सरस्वती की कृपा सदा आप पर बनी रहे और आप ऐसे ही साहित्य जगत में लोकप्रियता पाते रहे..नमस्कार

    जवाब देंहटाएं
  67. !....प्याज के साथ मनुष्य की तुलना...सही में वास्तविकता जता रही है!...धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  68. उम्दा गज़ल। यह शेर तो याद हो गया...

    प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण
    ..बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  69. प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण

    लाजवाब...बेमिसाल...कमाल...
    नीरज

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है