मंगलवार, 4 जनवरी 2011

थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें

आप ख़्वाबों में नहीं आते हो जब तक
मैं हकीकत से जुड़ा रहता हुं तब तक

जिन्दगी की राह में चलना हे तन्हा
थाम कर रक्खोगे मेरा हाथ कब तक

प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक

गीत नगमें नज्म कविता शेर तेरे
बस तेरी ही बात तेरा नाम लब तक

थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक

100 टिप्‍पणियां:

  1. आप ख़्वाबों में नहीं आते हो जब तक
    मैं हकीकत से जुड़ा रहता हुं तब तक

    किसी एक पंक्ति की तारीफ करना मुश्किल है ...हर पंक्ति लाजवाब ...बधाई इस सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति के लिये ।

    जवाब देंहटाएं
  2. आप ख़्वाबों में नहीं आते हो जब तक
    मैं हकीकत से जुड़ा रहता हुं तब तक
    और जब किसी का ख्बाब आ जाता है तो सच में हकीकत की दुनिया से दूर हो जाता है व्यक्ति चाहे वो किसी तरह का भी ख्बाब क्योँ ना हो ...हर शेर का एक ख़ास मतलब है ...बढ़िया गजल ...शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह क्या खूब नज्मे लिखी है जनाब , दिल बाग बाग हुआ . बहुत खूबसूरत, हर नज़्म चश्मे बद्दूर .

    जवाब देंहटाएं
  4. आदरणीय नासवा जी
    नमस्कार !
    ..........हर पंक्ति लाजवाब दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती
    खुशियों भरा हो साल नया आपके लिए

    जवाब देंहटाएं
  5. नए साल की आपको सपरिवार ढेरो बधाईयाँ !!!!

    जवाब देंहटाएं
  6. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    बेहतरीन पोस्ट...बधाई

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह वाह
    एक एक शे'र नगीना हैं नासवा जी... गजल के सारे कानूनों में बंधा हुआ उन्मुक्त भाव रचना कोई आपसे सीखे...शुक्रिया बेहतरीन गज़ल पढवाने के लिए,

    जवाब देंहटाएं
  9. हर शेर का एक ख़ास मतलब है ...बढ़िया गजल ...

    जवाब देंहटाएं
  10. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    वाह , क्या ग़ज़ब बात कही है ।
    बहुत सुन्दर ।

    जवाब देंहटाएं
  11. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक
    बहुत बढ़िया.....

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह वाह …………गज़ब के शेर हैं सभी लाजवाब ……………एक से बढकर एक हैं……………दिल को छू गये।

    जवाब देंहटाएं
  13. नासवा जी , बहुत ही अच्छे एहसास के साथ लिखी गई है.... हर नज़्म बहुत ही सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  14. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    बिलकुल सही कहा आपने प्यार से बढ़िया कोई रास्ता नहीं बहुत बढ़िया लगा आपका लिखा हुआ नववर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  15. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक
    Wah! Kya alfaaz hain!Harek pankti waise to lajawaab hai!

    जवाब देंहटाएं
  16. जिन्दगी की राह में चलना हे तन्हा
    थाम कर रक्खोगे मेरा हाथ कब तक

    प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    Bahut sundar sir ji.

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत अच्छी ग़ज़ल कही है आपने. नववर्ष की शुभकामनाएं.

    जवाब देंहटाएं
  18. प्रतीक्षा की घड़ियों में सुख दुख की बरसती फुहार।

    जवाब देंहटाएं
  19. जिन्दगी की राह में चलना हे तन्हा
    थाम कर रक्खोगे मेरा हाथ कब तक
    jab tak mumkin hai saath chalo
    tanha hone se pahle kuch door chalo

    जवाब देंहटाएं
  20. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक
    नए साल पर कितना खूबसूरत पैग़ाम दिया है नासवा जी.
    बहुत उम्दा ग़ज़ल है.
    नए साल की मुबारकबाद.

    जवाब देंहटाएं
  21. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक
    चलिए आपकी इस बात पर भी अमल कर के देख लेते हैं. लाजवाब नगीने, कितनी सही बात कही है आपने

    जवाब देंहटाएं
  22. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक
    .
    bahut khoob

    जवाब देंहटाएं
  23. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक ....
    ..very nice sir...

    जवाब देंहटाएं
  24. सुन्दर रचना,

    श्रीमान को नव वर्ष मुबारक हो.

    जवाब देंहटाएं
  25. समर्पण के साथ लिखी सुन्दर गजल के लिए बधाई!
    नये साल की मुबारकवाद कुबूल करें!

    जवाब देंहटाएं
  26. एक बार फिर बेहरतीन रचना
    हर शेर बेहतरीन

    जवाब देंहटाएं
  27. वैसे तो सारे शेर एक से बढ़कर एक हैं.........लेकिन मतला बहुत ख़ास है..........सरल शब्दों में गहरी बात कही है.........

    जवाब देंहटाएं
  28. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक
    ... kyaa baat hai !
    थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक
    ... kyaa kahane !!

    जवाब देंहटाएं
  29. bahut sundar abhivyakti .badhai .nav varsh ki hardik shubhkamnaye .

    जवाब देंहटाएं
  30. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    waah kaabile tareef. waise to har sher par clap karne ka dil kar raha hai. bahut hi badhiya likhte hain aap.

    जवाब देंहटाएं
  31. निगाहों में आशा की चमक हो तो वे लौट आएंगे तुरंत.

    जवाब देंहटाएं
  32. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    आनंद! आनंद! आनंद!
    मैं जानता हूँ वो नहीं आएगा....
    फिर भी आ जाते हैं उसके ख्याल!!!
    न्यू ईअर में मेरे अलावा, होप, हैल्थ एंड हैप्पीनेस आपके रफ़ीक रहें!
    आशीष
    ---
    हमहूँ छोड़ के सारी दुनिया पागल!!!

    जवाब देंहटाएं
  33. तुम चमकती रौसनी से दूर रहना,
    जुगनुओं का साथ रहता है बस शब तक।

    दमदार शे'र , ख़ूबसूरत ग़ज़ल्।

    जवाब देंहटाएं
  34. सब बेहतर पर जुगनुओं वाला शेर कहीं ज्यादा बेहतर लगा !

    [ थाल पूजा ...पर व्यक्तिगत तौर पर विशेष सराहना स्वीकार कीजियेगा ]

    जवाब देंहटाएं
  35. जिन्दगी की राह में चलना हे तन्हा
    थाम कर रक्खोगे मेरा हाथ कब तक

    खूबसूरत शेर

    जवाब देंहटाएं
  36. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक

    Behatreen sher ! puri ghazal hi sundar hai par ye sher lajawaab hai ....

    जवाब देंहटाएं
  37. आप ख़्वाबों में नहीं आते हो जब तक
    मैं हकीकत से जुड़ा रहता हुं तब तक

    Ghazal to sampoorn behad kamaal ki hai.padhkar sach poochho to mazaa aa gaya.

    जवाब देंहटाएं
  38. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक...

    सुंदर गजल.

    जवाब देंहटाएं
  39. शुक्रिया ,
    नीला पुलोवर + सूनी आँखें
    पूजा की थाळी+अधूरा सत्य
    पूरा सत्य

    जवाब देंहटाएं
  40. सुंदर और शानदार गजल , बधाई

    जवाब देंहटाएं
  41. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक
    ]
    बहुत ही खूबसूरत शेर कहा है आपने !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    जवाब देंहटाएं
  42. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक
    लाजबाब शे‘र!बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  43. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक

    लाजबाब .गजल

    जवाब देंहटाएं
  44. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक

    खूब लिख रहे हैं आप नासवा जी.
    वाह वाह ,क्या बात है.

    जवाब देंहटाएं
  45. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक


    बस यही जो याद रख सके आदमी तो जीवन और जहान जन्नत बन जाए..

    हमेशा की तरह मन को छूती बेहतरीन रचना...

    जवाब देंहटाएं
  46. हर पंक्ति लाजवाब ...हमेशा की तरह ....बधाई इस सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति के लिये

    जवाब देंहटाएं
  47. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक
    जीवन की सच्चाई ही रख दी है आपने तो |बहुत सुन्दर गजल

    जवाब देंहटाएं
  48. आप ख़्वाबों में नहीं आते हो जब तक
    मैं हकीकत से जुड़ा रहता हुं तब तक
    बहुत सुन्दर गजल...हमेशा की तरह....

    जवाब देंहटाएं
  49. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक


    बेहतरीन गज़ल......

    जवाब देंहटाएं
  50. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक
    ...अलग अंदाज। वाह!

    जवाब देंहटाएं
  51. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    Taza hawa kee tarah.


    Nav varsha kee Hardik subhkamna.

    जवाब देंहटाएं
  52. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक

    कमाल की पंक्ति है....सारे ही शेर बेहतरीन हैं...सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति लिये

    जवाब देंहटाएं
  53. गीत नगमें नज्म कविता शेर तेरे
    बस तेरी ही बात तेरा नाम लब तक
    थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक
    ...प्यारभरी एक पूरी समर्पित रचना... नव वर्ष की हार्दिक शुभकामना

    जवाब देंहटाएं
  54. aadarniy sir
    aap jo kuchh bhi likhte hain har bar ek naya ahsas hota hai.kaise likh lete hai aapitne sundarta ke saath ,lagta sab ek sutra me bandha ho jaise .mujhe bhi aapse bahut kuchh seekhna hai .
    nav-varshh ki hardik badhai swikar karen----
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  55. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक

    bahut achhi lagi ye panktiyan---
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  56. papa this was great!!! im sooo proud of u papa!!! =)

    जवाब देंहटाएं
  57. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    जीना इसी का नाम है...उम्दा ग़ज़ल....धन्यवाद भाई

    जवाब देंहटाएं
  58. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है ...

    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ...

    जवाब देंहटाएं
  59. हर पंक्ति लाजवाब
    सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति .

    जवाब देंहटाएं
  60. बहुत ही प्‍यारी गजल है। हार्दिक बधाईयां।

    ---------
    पति को वश में करने का उपाय।

    जवाब देंहटाएं
  61. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक

    नासवा जी रब्ब का रह दिखा दिया आपने तो ....

    तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक

    वाह ....गज़ब लिखने लगे हैं आज कल ....
    बहुत खूब ....!!

    जवाब देंहटाएं
  62. यकीनन, बेमिसाल है। अंतिम पंक्तियां मर्म को छूती हैं तो रचना जीवन को..। नासवाजी, दिनों बाद आया.., यानी टिप्पणी दी क्योंकि आपके ब्लॉग पर मेरी आवाजाही निरंतर है, बगैर नागा..। हां टिप्पणी के लिहाज़ से..बहुत पीछे छूट जाता हूं। खैर..आपके ही शेर की तरह कि- "प्यार सबको बांटता चल इस सफर में....।"

    जवाब देंहटाएं
  63. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक.....

    बहुत ही बेहतरीन शेर. शुभकामना

    जवाब देंहटाएं
  64. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में ,
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक ।

    प्रत्येक पंक्ति में यथार्थ उतर आया है।

    बार-बार पढ़ने को जी करे, ऐसी ग़ज़ल है ये।

    बधाई, नासवा जी।

    जवाब देंहटाएं
  65. "प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक"

    सुन्दर गज़ल ।

    नये साल की बधाई स्वीकारे ।

    जवाब देंहटाएं
  66. जीवन के विविध रंगों को समेटे। सत्य के एकदम क़रीब।

    जवाब देंहटाएं
  67. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक !! सावधान करती कविता ! धोखे से बचाती कविता ! नव वर्ष की मंगलमय शुभकामनाओं सहित आभार !

    जवाब देंहटाएं
  68. आप ख़्वाबों में नहीं आते हैं जब तक
    मैं हकीकत से जुड़ा रहता हुं तब तक

    थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक

    बहुत उम्दा ,अश’आर हैं नासवा जी
    बहुत ख़ूब !

    जवाब देंहटाएं
  69. मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामना

    जवाब देंहटाएं
  70. आप kaise हैं? मैं आपकी सारी छूटी हुई पोस्ट्स इत्मीनान से पढ़ कर दोबारा आता हूँ...

    जवाब देंहटाएं
  71. हर शेर का एक ख़ास मतलब है| बढ़िया गजल|

    जवाब देंहटाएं
  72. हर शेर बढ़िया, शुभकामनाओं सहित आभार

    जवाब देंहटाएं
  73. थाल पूजा का लिए सूनी निगाहें
    पूछती हैं क्यों नहीं लौटे वो अब तक

    बहुत ख़ूब ......

    जवाब देंहटाएं
  74. सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें......सादर

    जवाब देंहटाएं
  75. गली के मोड़ पे सूना सा एक दरवाज़ा,
    तरसती आंखों से रस्ता किसी का देखेगा,
    निगाह दूर तलक जा के लौट आएगी,
    करोगे याद तो हर बात याद आएगी,
    गुज़रते वक्त की हर मौज ठहर जाएगी...

    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं
  76. दिगंबर जी, मकर संक्रांति की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामना...

    जवाब देंहटाएं
  77. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक

    बहुत उम्दा!

    बहुत अच्छी लगी यह ग़ज़ल .

    जवाब देंहटाएं
  78. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक

    बहुत उम्दा गज़ल ....

    जवाब देंहटाएं
  79. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक
    .

    bahut khoob

    जवाब देंहटाएं
  80. अनुभवजन्य पंक्तियां। प्रेम से सराबोर।

    जवाब देंहटाएं
  81. प्यार सबको बांटता चल इस सफ़र में
    बस इसी रस्ते से सब जाते हें रब तक


    बस यही तो समझना है...

    बहुत ही सुन्दर रचना...वाह !!!

    जवाब देंहटाएं
  82. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक

    जिस ग़ज़ल में ऐसा नायाब और उम्दा शेर
    पढने को मिल जाए ,,,
    उस ग़ज़ल पर तो हज़ारों-हज़ारों शेर क़ुर्बान... वाह !!

    दिगंबर जी
    ग़ज़ल के सारे शेर अपनी मिसाल आप हैं
    लफ्ज़ लफ्ज़ में आपकी सोच और तज्रबा झलक रहा है
    मुबारकबाद !!!

    जवाब देंहटाएं
  83. तुम चमकती रौशनी से दूर रहना
    जुगनुओं का साथ बस होता हे शब तक

    टिप्पणियों का शतक मेरी और से...आप ग़ज़ल लेखन में सचिन बने ये दुआ करता हूँ...गज़ब का कह रहे हैं...बेमिसाल...

    नीरज

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है