रविवार, 8 मई 2011

माँ .....

मैने तो जब देखा अम्मा आँखें खोले होती है
जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

बँटवारे की खट्टी मीठी कड़वी सी कुछ यादें हैं
छूटा था जो घर आँगन उस पर बस अटकी साँसें हैं
आँखों में मोती है उतरा पर चुपके से रोती है
जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है


मंदिर वो ना जाती फिर भी घर मंदिर सा लगता है
घर का कोना कोना माँ से महका महका रहता है
बच्चों के मन में आशा के दीप नये संजोती है
जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

चेहरे की झुर्री में अनुभव साफ दिखाई देता है
श्वेत धवल केशों में युग संदेश सुनाई देता है
इन सब से अंजान वो अब तक ऊन पुरानी धोती है
जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

75 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sunder bhav liye bahut sunder rachana.

    vishv kee her ma ko naman.

    जवाब देंहटाएं
  2. माँ पर आज ढेर सारी रचनाएं पढि.. किन्तु उनमे बेहतरीन कविता है यह... शुभकामना

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर रचना. मात् दिवस कि शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  4. जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है?
    इस प्रश्न का उत्तर नहीं है ,सार्थक पोस्ट के लिए आपका आभार मदर्स डे पर सभी माताओं को मेरी बधाई.....

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (9-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  6. क्या कहें दिगम्बर!!! रचना तो किन ऊँचाईयों पर है, इसका आंकलन करना ही संभव नहीं..

    मातृ दिवस की शुभकामनाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  7. माँ की ममता अकथ है। बहुत सुन्दर! मदर्स डे की शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  8. जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

    आपने तो हमें अपनी दादी की याद दिला दी । दादी हो या मां , सभी ऐसी होती हैं ।
    अति सुन्दर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत भावमयी रचना ... मातृ दिवस की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  10. माता के चरणों में यह शानदार श्रद्धा सुमन से शब्द है।

    मातृ दिवस की शुभकामनाएँ, मित्र!!

    जवाब देंहटाएं
  11. बँटवारे की खट्टी मीठी कड़वी सी कुछ यादें हैं
    छूटा था जो घर आँगन उस पर बस अटकी साँसें हैं
    आँखों में मोती है उतरा पर चुपके से रोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है
    bahut hi badhiyaa

    जवाब देंहटाएं
  12. मातृदिवस की शुभकामनाएँ!
    बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने!

    जवाब देंहटाएं
  13. एक व्यक्तित्व की छाँह में छिपा सारा जीवन। सुन्दर पंक्तियाँ।

    जवाब देंहटाएं
  14. ए माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी... आपके इस गीत में उस भगवान की छाया सिमट आई है!! माँ तुझे प्रणाम!!

    जवाब देंहटाएं
  15. कितना सुंदर ....सभी प्यारी प्यारी ममाओं को हैप्पी मदर्स डे

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत बहुत बहुत अछि रचना है, माँ के लिए तो सारा शब्द कोष ही खली पद जाता है, परन्तु आपके भावों ने इस रचना के साथ न्याय किया है!
    शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  17. maaf kijiyega * शब्द कोष ही खाली पड़ जाता है

    जवाब देंहटाएं
  18. दिगंबर जी,माँ.. शक्तिमयी ,शीतल ,ममता का बल ,निश्छल .....सबकुछ होती है...सारगर्भित कविता के लिए बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर रचना| मात् दिवस कि शुभकामनाएँ|

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत खूबसूरत...सच ऐसी ही होती हैं मां.

    जवाब देंहटाएं
  21. वाह।
    सही बात तो यह नासवा जी कि मैं इस ब्लॉग में आया तो देर तक आपकी पिछली गजल गुनगुनाता रह गया।

    जवाब देंहटाएं
  22. बँटवारे की खट्टी मीठी कड़वी सी कुछ यादें हैं
    छूटा था जो घर आँगन उस पर बस अटकी साँसें हैं
    आँखों में मोती है उतरा पर चुपके से रोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है
    Behad khoobsoorat ehsaas!

    जवाब देंहटाएं
  23. चेहरे की झुर्री में अनुभव साफ दिखाई देता है
    श्वेत धवल केशों में युग संदेश सुनाई देता है

    बहुत खूब !
    माँ के लिये जितना भी कहा जाए कम है

    जवाब देंहटाएं
  24. सुंदर रचना. मात् दिवस कि शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  25. बहुत प्यारा सा गीत भाई दिगम्बर जी बधाई और शुभकामनाएं |

    जवाब देंहटाएं
  26. बहुत प्यारा सा गीत भाई दिगम्बर जी बधाई और शुभकामनाएं |

    जवाब देंहटाएं
  27. मंदिर वो ना जाती फिर भी घर मंदिर सा लगता है
    घर का कोना कोना माँ से महका महका रहता है
    बच्चों के मन में आशा के दीप नये संजोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है
    हृदयस्पर्शी..... बहुत सुंदर भाव संजोये आपने..... हर पंक्ति मन छूने वाली....

    जवाब देंहटाएं
  28. माँ को प्रणाम!
    मातृदिवस पर बहुत सुन्दर रचना लिखी है आपने!
    --
    बहुत चाव से दूध पिलाती,
    बिन मेरे वो रह नहीं पाती,
    सीधी सच्ची मेरी माता,
    सबसे अच्छी मेरी माता,
    ममता से वो मुझे बुलाती,
    करती सबसे न्यारी बातें।
    खुश होकर करती है अम्मा,
    मुझसे कितनी सारी बातें।।
    --
    http://nicenice-nice.blogspot.com/2011/05/blog-post_08.html

    जवाब देंहटाएं
  29. चेहरे की झुर्री में अनुभव साफ दिखाई देता है
    श्वेत धवल केशों में युग संदेश सुनाई देता है


    माँ के जीवन के हर पहलु और हर भूमिका को आपने इन शब्दों में बांध दिया ...हर शब्द में गहरे अर्थ भर दिए हैं आपने ..आपका आभार

    जवाब देंहटाएं
  30. चेहरे की झुर्री में अनुभव साफ दिखाई देता है
    श्वेत धवल केशों में युग संदेश सुनाई देता है
    इन सब से अंजान वो अब तक ऊन पुरानी धोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है
    चेहरे की इन झुरिओं मेउसके जीवन के अनुभव छुपे होते हैं जो सोते जागते बच्चों को बाँटती है चेहरे पर मुस्कान लिये दुख दर्द दिल मे दबाये रखती है। जीवन की लू से ये झुरियाँ बच्चे के सिर पर आस्मान की तरह साया सा बन जाती हैं। मातृ दिवस पर सुन्दर रचना के लिये आभार और बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  31. इन सब से अंजान वो अब तक ऊन पुरानी धोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है...

    Great expression !

    .

    जवाब देंहटाएं
  32. चेहरे की झुर्री में अनुभव साफ दिखाई देता है
    श्वेत धवल केशों में युग संदेश सुनाई देता है
    इन सब से अंजान वो अब तक ऊन पुरानी धोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है
    माँ के ऊपर तो जितना लिखा जाये वो कम ही है......
    हर रिश्ते से ऊपर है माँ.
    अच्छी प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं
  33. अम्मा सचमुच अक्सर अपने महत्व से अंजान होती है...अंतिम दो पंक्तियाँ बड़ी ही प्यारी हैं....

    जवाब देंहटाएं
  34. आपकी माँ के प्रति सुन्दर भावनाओं को सादर नमन
    माँ की ममता और प्यार को भुलाया नहीं जा सकता.
    अनुपम प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.
    मेरे ब्लॉग पर आपका इंतजार है.

    जवाब देंहटाएं
  35. आह सुकून सा आया पढकर.एक उत्कृष्ट रचना.
    बहुत ही मन से लिखा है आपने.

    जवाब देंहटाएं
  36. मंदिर वो ना जाती फिर भी घर मंदिर सा लगता है

    वाह जी वाह, एक दम सही बात कह दी है आपने ... बहुत अच्छी रचना !

    जवाब देंहटाएं
  37. निशब्द हूँ आपकी इस श्रेष्ठ अभिव्यक्ति पर |

    जवाब देंहटाएं
  38. तू कितनी अच्छी है तू कितनी भोली है प्यारी -प्यारी है ओ माँ ..
    माँ तो है ही समर्पण की मूर्त

    जवाब देंहटाएं
  39. ये नज़्म तो संवेदनाओं के तार झंकृत कर दे रही है.
    ---देवेंद्र गौतम

    जवाब देंहटाएं
  40. मां के लिये कहा गया हर शब्‍द ... भावमय ।

    जवाब देंहटाएं
  41. बहुत ही अच्‍छा लिखा है ।

    जवाब देंहटाएं
  42. जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है..
    प्यारी -प्यारी भोली सी माँ तो बस माँ होती है...
    मातृ दिवस पर सुन्दर रचना के लिये आभार.......

    जवाब देंहटाएं
  43. सिर्फ़ आखिरी पैरा वाली मां मैने अपनी नही देखी . बाकि मेरी मां ऎसी ही थी

    जवाब देंहटाएं
  44. माँ तो किसी भी शब्द से परे है . सुँदर भावभीनी रचना के लिए आभार .

    जवाब देंहटाएं
  45. आँखों में मोती है उतरा पर चुपके से रोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

    बहुत ही बढ़िया लिखा है.....बिलकुल आँखों के आगे साकार हो गयी....माँ की तस्वीर

    जवाब देंहटाएं
  46. भावुक कर दिया आपने...

    सार्थक अतिसुन्दर रचना....

    वाह...वाह...वाह...

    जवाब देंहटाएं
  47. जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है ...

    बढ़िया जानकारी के लिए आभार !
    माँ से बड़ा कोई नहीं...शुभकामनायें नासवा जी !

    जवाब देंहटाएं
  48. बेहतरीन भाव .....
    पहली दोनो पंक्तियां ही बार-बार पढ़ती गयी ....जब आगे पढ़ा तो हर पंक्ति के साथ ऐसा ही हुआ ....लगा आप ने मेरी मां पर ही लिखा है..शायद ये मां होने की ख़ासियत है ....आभार !

    जवाब देंहटाएं
  49. घर का कोना कोना माँ से महका महका रहता है ।
    यही है माँ ।
    मातृदिवस पर इतनी भावभीनी रचना प्रस्तुति का आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  50. आदरणीय नासवा जी
    नमस्कार !
    माँ के प्रति सुन्दर भावनाओं को सादर नमन
    ..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती
    .....बहुत ही बढ़िया लिखा है

    जवाब देंहटाएं
  51. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    जवाब देंहटाएं
  52. झुर्रियों में अनुभव और सुफेदी मे युग संदेश सत्य है। कब सोती है कब जागती है पता नहीं हमने तो जब भी देखा उसे जागते हुये ही पाया ।और विशेष बात यह कि उसकी आंखें मोती उसी वक्त भिगोते है जब वह तनहा होती है।

    जवाब देंहटाएं
  53. चेहरे की झुर्री में अनुभव साफ दिखाई देता है
    श्वेत धवल केशों में युग संदेश सुनाई देता है
    इन सब से अंजान वो अब तक ऊन पुरानी धोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है
    ...maa aisee hi hoti hai...usko apne liye sochne ka samay hi kahan milta..
    bahut hi dil ko chhu jaane wali rachna...aabhar

    जवाब देंहटाएं
  54. माँ के प्रति भाव बहुत ही गहराई से उतर आये हैं..बहुत ही मर्मस्पर्शी और भावमयी प्रस्तुति..आँखों को नाम कर दिया आपकी रचना ने..

    जवाब देंहटाएं
  55. जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

    अन्तर्मन को झकझोरती मां की ममतामयी व्यथा...

    जवाब देंहटाएं
  56. bahut sundar rachna...maa aakhir maa hoti hai..sabse badhkar vahi hai..

    जवाब देंहटाएं
  57. चेहरे की झुर्री में अनुभव साफ दिखाई देता है
    श्वेत धवल केशों में युग संदेश सुनाई देता है
    इन सब से अंजान वो अब तक ऊन पुरानी धोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है
    bahut khoobsurat panktiyaan likhi hai man ko chhoo gayi

    जवाब देंहटाएं
  58. श्वेत धवल केशों में युग संदेश.............वाह दिगंबर नासवा भाई वाह| क्या कहन है आपकी| बहुत खूब|

    जवाब देंहटाएं
  59. मंदिर वो ना जाती फिर भी घर मंदिर सा लगता है
    घर का कोना कोना माँ से महका महका रहता है

    मां है तो घर मंदिर ही है।
    मां की महिमा का वर्णन करती यह रचना बहुत प्रियकर है।
    आभार, नासवा जी।

    जवाब देंहटाएं
  60. मंदिर वो ना जाती फिर भी घर मंदिर सा लगता है
    घर का कोना कोना माँ से महका महका रहता है
    बच्चों के मन में आशा के दीप नये संजोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

    माँ को समर्पित एक सुंदर कविता...त्याग की प्रतिमूर्ति माँ का स्थान ईश्वर से भी उँचा है..माँ को प्रणाम करता हूँ दिगंबर ही इस सुंदर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  61. भाई दिगंबर नासवा जी
    सादर अभिवादन !

    नेट से लगभग दूरी-सी रही पिछले दिनों… ( अभी भी ज़्यादा समय नहीं दे पा रहा )
    आपकी ताज़ा पोस्ट भी पढ़ ली है … लेकिन यह रचना इतनी भावविभोर कर गई कि इसके लिए आभार कहे बिना लौटना संभव नहीं मेरे लिए …

    मां मेरे लिए ऐसा विषय है कि मैं सम्मोहित हो जाता हूं …
    मंदिर वो ना जाती फिर भी घर मंदिर सा लगता है
    घर का कोना कोना माँ से महका महका रहता है

    नमन है बंधु !

    मेरी भी ग़ज़ल का मत्ला और एक शे'र मुलाहिजा फ़रमाएं …
    तेरे दम से है रौनक़ घर मेरा आबाद है अम्मा !
    दुआओं से मुअत्तर है ये गुलशन शाद है अम्मा !

    तेरे क़दमों तले जन्नत , दफ़ीने बरकतों के हैं
    ख़ुदा का नाम भी दरअस्ल तेरे बाद है अम्मा !


    एक बार फिर से सुंदर रचना के लिए आपको
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    जवाब देंहटाएं
  62. जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है ,
    लोरी सा गीत ,बहुत सुन्दर है माँ की ही तरह .

    जवाब देंहटाएं
  63. मंदिर वो ना जाती फिर भी घर मंदिर सा लगता है
    घर का कोना कोना माँ से महका महका रहता है
    बच्चों के मन में आशा के दीप नये संजोती है
    जाने किस पल जगती है वो जाने किस पल सोती है

    WAAH BAHUT BAHUT SUNDAR LIKHA HAI ..BAHUT HI MITHI SI RACHNA HAI YAH

    जवाब देंहटाएं
  64. http://shayari10000.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  65. मां का आशीवाद और आपकी कवितायेँ....यूं ही दिन रात आगे बढती रहें...:)

    जवाब देंहटाएं
  66. दिगंबर जी ! आपकी यह रचना मन को प्रभावित करती है और एक भारतीय मां का रूप सामने लाती है। ‘प्यारी मां‘ ब्लॉग पर आपकी यह रचना आज लगाई गई है।
    आपका सादर स्वागत है और आपके सभी पाठकों का भी !
    इस सुंदर रचना तक हमें पहुंचाया सुनीता शानू की प्रस्तुति ने जिसका लिंक उन्होंने ऊपर दिया हुआ है। हम आपके और सुनीता जी के दोनों के आभारी हैं।

    वो जाने किस पल सोती है ? No Sleep

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है