सोमवार, 13 जून 2011

मेरी जानी सी अंजान प्रेमिका ...

ग़ज़लों का दौर से अलग हट के प्रस्तुत है आज एक रचना ... आशा है आपको पसंद आएगी ...

मेरे तमाम जानने वालों के ख्यालों में पली
गुज़रे हुवे अनगिनत सालों की वेलेंटाइन
मेरी अंजान हसीना
समर्पित है गुलाब का वो सूखा फूल
जो बरसों क़ैद रहा
डायरी के बंद पन्नों में

न तुझसे मिला
न तुझे देखा
तू कायनात में तब आई
मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
डायरी से मिला

मेरी तन्हाई की हमसफ़र
अंजान क़िस्सों की अंजान महबूबा
ख्यालों की आडी तिरछी रेखाओं में
जब कभी तेरा अक्स बनता हूँ
अनायास
तेरे माथे पे बिंदी
हाथों में पूजा की थाली दे देता हूँ
फिर पलकें झुकाए
सादगी भरे उस रूप को निहारता हूँ

ओ मेरी जानी सी अंजान प्रेमिका
तु बरसों पहले क्यों नही मिली

82 टिप्‍पणियां:

  1. अनजान प्रेम के प्रति इतना समर्पण... फिर अनजान कहाँ ! आपका ह्रदय तो जानता है उसे.. बहुत खूबसूरत कविता...

    जवाब देंहटाएं
  2. उसे याद कर न दिल दुखा जो गुजर गया सो गुजर गया

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह ...बहुत खूब ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. आह यही प्रेमिका ही तो जीवन को महकाती है ……………बेहद उम्दा भाव सौन्दर्य्।

    जवाब देंहटाएं
  5. इतना सब कुछ फिर भी अनजानी ? कवि के हृदय में बसने वाली प्रेमिका के प्रति कवि के सुन्दर भावोद्दगार .

    जवाब देंहटाएं
  6. प्रेमिल भाव की इतनी खूबसूरत अभिव्यक्ति ..... बस नमन करने को जी चाह रहा है !

    जवाब देंहटाएं
  7. ओ मेरी जानी सी अंजान प्रेमिका
    तु बरसों पहले क्यों नही मिली
    agar vo barso pahle mil jati to ye abhivyakti kahan se aati digambar ji.bahut khoob.

    जवाब देंहटाएं
  8. ये जानी सी अंजान प्रेमिका ही हमेशा दिल के करीब रहेगी क्यूंकि वो कभी बदलेगी नहीं..

    प्यारी सी कविता

    जवाब देंहटाएं
  9. सच्ची प्रेमिका से हमेशा यह शिकायत रहती है कि वह देरी से जीवन में क्यों आई. बहुत सुंदर कहा है आपने.

    जवाब देंहटाएं
  10. ख्यालों की आडी तिरछी रेखाओं में
    जब कभी तेरा अक्स बनता हूँ
    अनायास
    तेरे माथे पे बिंदी
    हाथों में पूजा की थाली दे देता हूँ
    फिर पलकें झुकाए
    सादगी भरे उस रूप को निहारता हूँ ...

    वाह कितना सुन्दर लिखा है आपने, कितनी सादगी, कितना प्यार भरा समर्पण वो भी एक अंजान अनदेखी प्रेमिका के लिए जवाब नहीं इस रचना का........ बहुत खूबसूरत.......

    जवाब देंहटाएं
  11. प्रेम कि वो मूरत अमूर्त रहती तो अच्छा रहता .

    जवाब देंहटाएं
  12. दिगंबर भाई नज़्म हो या ग़ज़ल आपकी कलम से निकली हर रचना मोहक होती है.शब्द और भाव पाठक को अपने साथ बहा ले जाते हैं. प्रेम की कोमल तंतुओं से बुनी इस रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  13. न तुझसे मिला
    न तुझे देखा
    तू कायनात में तब आई
    मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
    डायरी से मिला ... waah , kitne pyaare ehsaas hain dayree me

    जवाब देंहटाएं
  14. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच- ५० ..चर्चामंच

    जवाब देंहटाएं
  15. नज़्म के लिहाज से...गज़ब के भाव और बहुत सुन्दर....

    अब नज़्म से बाहर...खैर, अभी जाने दो!!! :)

    जवाब देंहटाएं
  16. अमूर्त प्रेम का मूर्तन ,मानवीकरण ,प्रेमिकाकरण .वाह क्या बात है .दिल की बात जुबां पे आ ही जाती है .

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर नज़्म।
    प्यारए भाव।

    जवाब देंहटाएं
  18. आपने हममें से कइयों की टीस को आवाज़ दी।

    जवाब देंहटाएं
  19. कौन मिली, कब मिली, कैसे मिली ... सुन्दर भावनात्मक कविता !

    जवाब देंहटाएं
  20. "न तुझसे मिला
    न तुझे देखा
    तू कायनात में तब आई
    मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
    डायरी से मिला"

    और डायरी में दबा
    एक सूखा गुलाब
    कितनी यादें संजो गया ...!

    जवाब देंहटाएं
  21. सुंदर भाव लिए प्रभावित करती रचना .....

    जवाब देंहटाएं
  22. सच है सूखे हुए गुलाब कभी बहुत चुभन देते रहते हैं उम्र भर...बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति..

    जवाब देंहटाएं
  23. अनजानी कहाँ .कवि मन तो देखिये पहचानता है उसे.
    भावपूर्ण कविता.

    जवाब देंहटाएं
  24. पहले ही मिल जाती तो इतनी सुन्दर कविता कहाँ से आती।

    जवाब देंहटाएं
  25. प्यारे अंदाज में अंजान प्रेमिका के लिये लिखी गई रचना कमाल की है,

    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  26. अब पछताये होत क्या ..............

    ग़ज़ल और गीत के बाद ये कविता भी काफी प्रभावशाली लगी| एक से अधिक विधाओं में लिखने का शौक़ आप के हित में है मित्र|

    जवाब देंहटाएं
  27. न तुझसे मिला
    न तुझे देखा
    तू कायनात में तब आई
    मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
    डायरी से मिला

    बहुत खूब !!!!!!!
    कहीं ये अंजाना व्यक्तित्व आप की कविता ही तो नहीं ?????

    जवाब देंहटाएं
  28. जबरदस्त भाव ...
    चलो एक बार फिर से ...

    जवाब देंहटाएं
  29. हमारे एहसासों में साथ चलते हैं इसी तरह जाने अनजाने फिर भी पहचाने लोग !
    ये अंदाज़ भी जुदा है आपका !

    जवाब देंहटाएं
  30. अमूर्त रूप प्यार का .कविता के भाव अंजन प्रेमिका को मूर्त कर गए .

    जवाब देंहटाएं
  31. ये अंदाज़ भी प्यारा है.

    जवाब देंहटाएं
  32. प्रेम को अभिव्यक्त करना तो कोई आपसे सीखे , गजब की अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  33. न तुझसे मिला
    न तुझे देखा
    तू कायनात में तब आई
    मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
    डायरी से मिला ..

    आपकी लेखनी में जादू है आपकी कविताएं मन को छूने में कामयाब रहती हैं | बधाई और शुभकामनाएं |

    जवाब देंहटाएं
  34. न तुझसे मिला
    न तुझे देखा
    तू कायनात में तब आई
    मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
    डायरी से मिला
    .........अच्छी लगी ये नज़्म...सूक्ष्म जगत के सूक्ष्म अहसासात

    -----देवेंद्र गौतम

    जवाब देंहटाएं
  35. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने! बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  36. कल्पनायें भी जीने का सहारा होती हैं। भावमय रचना। शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  37. भाई दिगम्बर जी सुंदर और गहन अभिव्यक्ति बधाई

    जवाब देंहटाएं
  38. भाई दिगम्बर जी सुंदर और गहन अभिव्यक्ति बधाई

    जवाब देंहटाएं
  39. bhootkaal ki parchhaiyon se bani ye tasveer premika ki
    jeevant kar rahi hai vartmaan aur bhavishya bhi

    bahut hi sunder bhaav

    जवाब देंहटाएं
  40. अनायास
    तेरे माथे पे बिंदी
    हाथों में पूजा की थाली दे देता हूँ
    फिर पलकें झुकाए
    सादगी भरे उस रूप को निहारता हूँ


    बहुत ही प्यारी पंक्तियां...
    बहुत मासूम-सी रचना...
    बहुत खूब.

    जवाब देंहटाएं
  41. चाहत वही अब बदले हुए रुप में...

    जवाब देंहटाएं
  42. यह अन्दाज़ तो एकदम जुदा सा लगा...वैसे यही जानी अंजानी प्रेमिका ताउम्र दिल की किताब में सूखे फूल सी रहती है..

    जवाब देंहटाएं
  43. ये कविता बहू को सुनाई या पढवाई क्या...?

    पढवाना...अच्छी है...

    साधुवाद .......

    जवाब देंहटाएं
  44. उन तमाम गजलोंसे एकदम न्यारी -सी
    प्यारी रचना ! सुंदर .....

    जवाब देंहटाएं
  45. बहुत सुन्द..र दिल कोछूती पंक्तियां.....

    जवाब देंहटाएं
  46. न तुझसे मिला
    न तुझे देखा
    तू कायनात में तब आई
    मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
    डायरी से मिला ...
    Wow these lines a so lovely and fun to read !!!


    just want to say
    Waah Excellent.

    जवाब देंहटाएं
  47. यह प्रेम तो गहरा जान पड़ता है.. अनजान नहीं.. सुन्दर प्रस्तुति...

    जवाब देंहटाएं
  48. बहुत अच्छा लिखा है जी ऐसे ही लिखते रहे
    हमारे कुटिया पर भी दर्शन दे श्री मान

    जवाब देंहटाएं
  49. मुझे इतनी अच्छी लगी आपकी ये नज़्म कि देखिये नासवा जी, मैं दुबारा आ गई इसे गुनगुनाने.....

    जवाब देंहटाएं
  50. बहुत ही भावपूर्ण रचना ! कभी कभी कल्पना में उकेरी गयी तस्वीर से ही इतना प्यार हो जाता है कि उसमे सामने यथाथ का प्यार भी बेमानी सा हो जाता है ! नाज़ुक सी कोमल सी बेहद प्यारी रचना ! अति सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  51. जानबूझकर अंजान तो नहीं बना जा रहा है ?

    जवाब देंहटाएं
  52. अब देखिये इसमें एक वाक्यांश आया है "जानी सी अन्जान "
    जानी सी --अर्थात वो खयालों में पली है, डायरी से जब फूल मिला तब आभास हुआ । तनहाइयों की साथी भी रही । तेरा चित्र भी बनाया , तेरे माथे पर चांद जैसे मुखडे पर बिंदिया सितारा भी लगाया । और गाया भी ओ हो तेरी बिंदिया रे । पूजा का थाल भी तुझे दिया और तुझे निहारा भी।
    अब अनजान -- भले ही खयालो में पली मगर थी तो अन्जान ही । जिससे मिले नहीं देखा नहीं अन्जान तो होगी ही । भलेही हमसफर रहीे हो मगर थी तो अंजान किस्सों की अंजान ही । जो चित्र बनाया वह भी काल्पनिक ही था।

    जवाब देंहटाएं
  53. कल्पना में यह रूप तो शायद हर कोई गढ़ता है..पर उसे ऐसे कोमल भावांजलि हर कोई नहीं दे पाता...

    मोहक भावपूर्ण बहुत बहुत सुन्दर...

    जवाब देंहटाएं
  54. 'पूजा की थाली..माथे पर बिंदी'... आप की कविताओं की नायिका की पहचान है इसलिए यह जानी -अनजानी ..पहचानी सी ही लगी .

    ग़ज़लों से हटकर अभिव्यक्ति का यह रूप भी अच्छा लगा..

    जवाब देंहटाएं
  55. "न तुझसे मिला
    न तुझे देखा
    तू कायनात में तब आई
    मुद्दतों बाद जब सूखा गुलाब
    डायरी से मिला"

    और डायरी में दबा
    एक सूखा गुलाब
    कितनी यादें संजो गया ...!

    एक शब्द में अद्भुत. ऐसा लगा कि हवा का एक झोंका दिल के तारों को झनझना के चला गया.

    जवाब देंहटाएं
  56. बहुत प्यारी नज़्म रची है सर!
    --------------------------
    कल 17/06/2011 को आपकी कोई पोस्ट नयी-पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है.
    आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है .

    धन्यवाद!
    नयी-पुरानी हलचल

    जवाब देंहटाएं
  57. प्रेम निहायत ह्रदय से होती है,हम करते हैं,करते रहना चाहते है चाहे मूरत जैसी भी हो ..बहुत अच्छा लगा ये प्रयास .

    जवाब देंहटाएं
  58. मोहक भावपूर्ण बहुत बहुत सुन्दर|

    जवाब देंहटाएं
  59. aadarniy sir
    kya likhun ,sabne to sab kuchh kah diya.
    itni-itni pyari vo bhi anjaani premika ke liye itna samrpan ---bahut khoob.
    bahut hi sundarta ke saath hriday ke mano bhavo ko atyant hikhoob surat shbdon se sanjoya hai aapne ---Wah
    bahut bahut badhai
    vivek ji ki bhi hardik badhai itni sundar rachna ko padhvane ke liye
    dhanyvaad sahit--------
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  60. आज दुबारा पढी कविता, और फिर जी चाहा कि कमेंट लिखूं। लेकिन क्‍या लिखूं, यह समझ नहीं आ रहा। बस इतना कहूंगा कि मन को छू गये भाव।

    ---------
    ब्‍लॉग समीक्षा की 20वीं कड़ी...
    आई साइबोर्ग, नैतिकता की धज्जियाँ...

    जवाब देंहटाएं
  61. बड़ी अच्छी नज़्म है..मेरे एक मित्र की सुधांशू फिरदौस की "महानायिका" श्रृंखला की रचनाएँ याद आ गयीं..जल्दी ही कोना एक रुबाई का पर पोस्ट करूँगा...

    जवाब देंहटाएं
  62. अपनी स्वप्न सुंदरी की अद्भुत और प्रेमपूरित तस्वीर खींची है ......आपने अपनी प्यारी रचना में

    जवाब देंहटाएं
  63. बहुत सुन्दर, बहुत खूबसूरत....
    ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

    जवाब देंहटाएं
  64. दिगम्बर जी,

    खूबसूरत अहसास को किसी खूबसूरती से एक नज़्म में ढाला है......

    लेकिन समीरलाल जी ने जो कहा है कि "फिर....." उस बारे में फिर कभी कहियेगा हो सकता है कि कोई बेहतरीन गज़ल बने या कोई नज़्म।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  65. अभिव्यक्ति का आपका यह अंदाज़ बहुत खूबसूरत है।
    शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  66. कविता से सलवार तक का यह व्यंगात्मक सफ़र रोचक रहा |

    जवाब देंहटाएं
  67. आप के एहसास महसूस कर सकता हूँ ! पर बयाँ नही ...

    खुश रहिये!

    जवाब देंहटाएं
  68. कोमल और सुन्दर अहसास वाली कविता बहुत पसंद आई !
    इसीलिए आपको बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  69. यादे-माज़ी अज़ाब है यारब ...
    गुज़रे हुए यादगार पलों की सुहानी यादों को
    बरबस ही याद दिलाती
    यादगार रचना ... वाह !

    जवाब देंहटाएं
  70. ह्म्म्म खतरनाक खयालात नही है ये ?
    'ओ मेरी जानी सी अंजान प्रेमिका
    तु बरसों पहले क्यों नही मिली'
    अरे ! हमारी बहु से भी ज्यादा हसीन थी क्या 'वो' हा हा हा इस अजानी को उतार लो 'इनमे' फिर कोई शिकायत नही रहेगी जिंदगी से और 'उसे' खो देने का दुःख भी न् होगा.

    जवाब देंहटाएं
  71. सर , इस नज़्म के लिये मेरे पास कोई शब्द नहीं है .. क्या कहूँ , पढकर अपनी सी लगी ,,, कुछ भीगी हुई सी आँखे है .. मन में बस गए है आपके शब्द ,, कुछ तलाशने लगा है ह्रदय.....बस भाई. अब और नहीं लिखा जायेंगा

    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है