गुरुवार, 5 जनवरी 2012

बदलाव ...

वो रचना चाहते हैं नया इतिहास
पर नहीं भूलना चाहते
खरोच के निशान

बदलना चाहते हैं परम्पराएं
पर नहीं छोड़ना चाहते अधूरा विश्वास

बनाना चाहते हैं नए नियम
नहीं बदलना चाहते पुरानी परिपाटी

खुला रख के घावों को
करना चाहते हैं निर्माण

लहू के रंग से लिखना चाहते हैं
प्रेम की नयी इबारत

ज़ख़्मी ईंटों की नीव पे
खड़ा करना चाहते हैं
बुलंद इमारत

क्या सच में इतने मासूम हैं

73 टिप्‍पणियां:

  1. वो रचना चाहते हैं नया इतिहास
    पर नहीं भूलना चाहते
    खरोच के निशान
    बहुत सही कहा है इन पंक्तियों में .. आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  2. कमाना चाहते हैं पुण्य वो,
    भूखों का हक मारकर,
    भंडारे कराते हैं वो !

    जवाब देंहटाएं
  3. कष्टों से झूझ कर ही सुखों का निर्माण होता है ..?
    शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  4. जब तक पुराना नहीं भूलेंगे तब तक कैसे नयी इबारत लिखी जायेगी ?
    सशक्त अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  5. मासूमियत ही परिवर्तन के बीज को जिन्दा रखती है..

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत खूब...
    सच है...बदलाव तो सभी चाहते हैं....पर किस तरह...किन मूल्यों पर???

    सार्थक अभिव्यक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  7. कल 06/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  8. लहू के रंग से लिखना चाहते हैं
    प्रेम की नयी इबारत

    ज़ख़्मी ईंटों की नीव पे
    खड़ा करना चाहते हैं
    बुलंद इमारत

    वाह!!!बुलंद प्रस्तुति...

    जवाब देंहटाएं
  9. बदलाव ...kabhi dukhata hai katen ki tarah kabhi pyara sa lagta hai ......bahut hi sundar bhavnaye ...bahut hi sundar!!!

    जवाब देंहटाएं
  10. ज़ख़्मी ईंटों की नीव पे
    खड़ा करना चाहते हैं
    बुलंद इमारत
    सुंदर भावभिव्यक्ती..

    जवाब देंहटाएं
  11. शुक्रवार भी आइये, रविकर चर्चाकार |

    सुन्दर प्रस्तुति पाइए, बार-बार आभार ||

    charchamanch.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह बहुत खूब सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    जवाब देंहटाएं
  13. दोगलापन --मनुष्य का , या समाज का या फिर जाति धर्म या प्रान्त के नाम पर --यही आधुनिक मनष्य की परिभाषा है .

    बढ़िया प्रस्तुति .

    जवाब देंहटाएं
  14. क्या करें ..ऐसी ही हो गई है दुनिया.

    जवाब देंहटाएं
  15. बनाना चाहते हैं नए नियम
    नहीं बदलना चाहते पुरानी परिपाटी

    क्या सच में इतने मासूम हैं?

    आपने अपनी इस बेजोड़ रचना के अंत में ऐसा सवाल पूछा है जिसका जवाब नहीं...बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  16. जी नहीं ! वे इतने भी मासूम नहीं हैं ...
    बेजोड रचना

    जवाब देंहटाएं
  17. बदलाव तो सब चाहते है,सबके तरीके अलग२ है
    अच्छी अभिव्यक्ति सुंदर रचना,.....

    नई रचना --काव्यान्जलि--जिन्दगीं--में click करे

    जवाब देंहटाएं
  18. बदलाव ...

    वो रचना चाहते हैं नया इतिहास
    पर नहीं भूलना चाहते
    खरोच के निशान

    क्या सच में इतने मासूम हैं.....


    अब और क्या कहूँ.....????

    जवाब देंहटाएं
  19. सुन्दर रचना, नासवा जी ! मासूम नहीं बेवकूफ है, ये बात और है कि खुद को होशियार बताते है ! :)

    जवाब देंहटाएं
  20. ज़ख़्मी ईंटों की नीव पे
    खड़ा करना चाहते हैं
    बुलंद इमारत
    किन्चुल में लिपटे रहने की एक आदत सी हो गई है ......अच्छी रचना .नव वर्ष मुबारक

    जवाब देंहटाएं
  21. केंचुल में लिपटे रहने की एक आदत सी हो गई है ......अच्छी रचना .नव वर्ष मुबारक .

    जवाब देंहटाएं
  22. मेरे हिसाब से हर बदलाव की सोच के पीछे एक दोहरापन छुपा होता है...

    जवाब देंहटाएं
  23. चेहरों पर मुखौटे धरते हैं, रोज नया रूप ग्रहण करते हैं.

    जवाब देंहटाएं
  24. "क्या सच में इतने मासूम हैं...???

    ये तो गहरी उलझन है........

    कुँवर जी,

    जवाब देंहटाएं
  25. वो रचना चाहते हैं नया इतिहास
    पर नहीं भूलना चाहते
    खरोच के निशान
    tab kaise sambhaw hai itihaas rachna

    जवाब देंहटाएं
  26. खुला रख के घावों को
    करना चाहते हैं निर्माण

    लहू के रंग से लिखना चाहते हैं
    प्रेम की नयी इबारत

    बहुत सुंदर !!!
    और
    अंत में ऐसा सवाल कि जिसका जवाब हम सब जानते हैं लेकिन देना असंभव सा लगता है

    जवाब देंहटाएं
  27. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट " जाके परदेशवा में भुलाई गईल राजा जी" पर आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । नव-वर्ष की मंगलमय एवं अशेष शुभकामनाओं के साथ ।

    जवाब देंहटाएं
  28. मासूम नहीं हैं, दोगले भी नहीं हैं बस नपुंसक हैं और मजे की बात यह कि स्वीकार भी नहीं करते कि हम नपुंसक हैं।

    जवाब देंहटाएं
  29. ज़ख़्मी ईंटों की नीव पे
    खड़ा करना चाहते हैं
    बुलंद इमारत

    क्या सच में इतने मासूम हैं

    बहुत खूब
    सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    जवाब देंहटाएं
  30. बहुत ही सुन्दर रचना, बदलाव तो पुरानी राहों से होकर ही निकलता है।

    जवाब देंहटाएं
  31. जीवन का सदृश्य चित्रण मन में उठते विचारो का समागम |

    जवाब देंहटाएं
  32. jakhmo ko yaad rakhenge,
    kharocho k nisha na bharenge
    tabhi to fook fook k kadam rakhenge
    aur fir ek bina kisi dukh-risaav ka
    samaaj rachenge.

    sunder abhivyakti.

    जवाब देंहटाएं
  33. चाहते तो हम बहुत कुछ हैं, परन्तु शुभ बीज से ही शुभ फल निकलता है,....... पेड़ तो बोये बबूल के और आम खाने की कामना ?

    किन्तु - सब कुछ इतना बुरा तो नहीं है न ? जिस सत्य, शिव, सुन्दर ने यह दुनिया बनाई है, क्या उसकी रची दुनिया इतनी असत्य, इतनी अशुभ इतनी असुंदर हो सकती है ? आइये, इसकी सुन्दरता को खोजें, और इसकी शुभता को बढायें |

    नव वर्ष पर आपको हार्दिक शुभकामनायें |

    शिल्पा मेहता

    जवाब देंहटाएं
  34. बहुत ही बेहतरीन लिखा है...

    जवाब देंहटाएं
  35. बहुत खूब
    सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    जवाब देंहटाएं
  36. ऐसे में बदलाव कहाँ संभव है ?
    सुंदर सार्थक रचना !

    जवाब देंहटाएं
  37. वो रचना चाहते हैं नया इतिहास
    पर नहीं भूलना चाहते
    खरोच के निशान...
    सार्थक रचना

    जवाब देंहटाएं
  38. वे मासूम हैं या नहीं पर सोये हुए अवश्य है..खंडहर गिरा कर ही नई इमारत बन सकती है....बहुत सशक्त रचना!

    जवाब देंहटाएं
  39. ज़ख़्मी ईंटों की नीव पे
    खड़ा करना चाहते हैं
    बुलंद इमारत

    क्या सच में इतने मासूम हैं
    ..yahi masumiyat mein achhe-achhe dhoob jaate hai..
    bahut sundar prastutu..

    जवाब देंहटाएं
  40. क्या सच में इतने मासूम हैं
    यही है भौतिक द्वंद्व और आधुनिकता बोध .

    जवाब देंहटाएं
  41. मासूम नहीं है अधिक ही स्‍याणे हैं। झकझोरने वाली रचना।

    जवाब देंहटाएं
  42. बदलना चाहते हैं परम्पराएं
    पर नहीं छोड़ना चाहते अधूरा विश्वास
    बनाना चाहते हैं नए नियम
    नहीं बदलना चाहते पुरानी परिपाटी...
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ उम्दा प्रस्तुती!

    जवाब देंहटाएं
  43. DIL MEIN UTARTEE KAVITA KE LIYE
    AAPKO BADHAAEE DIGAMBAR JI .

    जवाब देंहटाएं
  44. इतिहास रचना है, बुलंद ईमारत खडी करना है लेकिन जख्मी ईंटों पर... काफी विचार किया पर जवाब नहीं मिला...
    क्या सच में इतने मासूम हो सकते हैं?
    गहन अर्थो से परिपूर्ण अभिव्यक्ति... आभार

    जवाब देंहटाएं
  45. दमदार अभिव्यक्ति.

    वो मासूम नहीं हम ही गफ़लत में हैं.

    जवाब देंहटाएं
  46. मनुष्य को उसकी आवश्यकताए और मजबूरिय कुछ करने / स्वपन देखने के लिए मजबूर कर देती है ! किन्तु बिन पर उड़ नहीं सकता ! कुछ फदफदते , कुछ कुदकते और कुछ लुप्त हो जाते है ! चाहत भरी सुन्दर कविता ! बधाई

    जवाब देंहटाएं
  47. नए पर भरोसा तो करना ही पड़ेगा...अगर बदलना है...जब पुराने को इतना समय दिया तो इसे भी आजमाइए...बिना भरोसे बदलाव की उम्मीद बेमानी है...

    जवाब देंहटाएं
  48. इस विरोधाभास में कहीं जीवन नहीं दिखता।

    जवाब देंहटाएं
  49. उनकी मासूमियत का जवाब नहीं।
    वजनदार कविता।

    जवाब देंहटाएं
  50. बने मासूम हैं....शानदार- तीखी रचना.

    जवाब देंहटाएं
  51. प्रभावशाली अभिवयक्ति.....

    जवाब देंहटाएं
  52. नववर्ष की देर से मुबारकबाद मित्र....वैसे में देर करता नहीं..हो जाती है

    जवाब देंहटाएं
  53. बदलना चाहते हैं परम्पराएं
    पर नहीं छोड़ना चाहते अधूरा विश्वास

    बनाना चाहते हैं नए नियम
    नहीं बदलना चाहते पुरानी परिपाटी........बहुत खूब

    बहुत कुछ बदला ...पर वक्त कभी नहीं बदला ...और ना बदलेगा ...आज हमारा हैं कल किसी और का होगा

    जवाब देंहटाएं
  54. डूबते उतराते लोग कई बार सचमुच ही तैरना नहीं जानते। उनकी मासूमियत पर यक़ीन भले न हो, हम इंसानियत कैसे छोड़ें?
    बहुत सुन्दर, सशक्त रचना!

    जवाब देंहटाएं
  55. वो रचना चाहते हैं नया इतिहास
    पर नहीं भूलना चाहते
    खरोच के निशान
    वाह लाजवाब.....
    vikram7: हाय, टिप्पणी व्यथा बन गई ....

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है