बुधवार, 25 जनवरी 2012

मेरा अस्तित्व ...

लम्हा लम्हा
तुम जलती रहीं
कतरा कतरा
मैं पिघलता रहा

बूँद बूँद टपकता मेरा अस्तित्व
धीरे धीरे समुन्दर सा होने लगा
मेरे होने का एहसास
कहीं गहरे में डूब गया

तुम अब भी जल रही हो

ये बात अलग है
तिल तिल ये समुन्दर अब सूखने लगा है
धुंवा धुंवा मेरा एहसास
अब खोने लगा है

गरमाने लगी है कायनात
सूख रहे हैं धरती के होठ

हाँ ... मुझे भी तो एक मूसलाधार बारिश की
सख्त जरूरत है

83 टिप्‍पणियां:

  1. आपके इस उत्‍कृष्‍ठ लेखन का आभार ...

    ।। गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर..
    हर शब्द में भीगे एहसास रचे बसे हुए...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर कविता... मुसलाधार बारिश एक बिम्ब बन कर उभरा है इस कविता में... गणतंत्र दिवस की शुभकामनाये...

    उत्तर देंहटाएं
  4. गरमाने लगी है कायनात
    सूख रहे हैं धरती के होठ

    हाँ ... मुझे भी तो एक मूसलाधार बारिश की
    सख्त जरूरत है ………………

    आखिर कब तक रेगिस्तान की रेत फ़ांके कोई…………बरखा तो वहाँ भी बरसती है

    उत्तर देंहटाएं
  5. Kya gazab kee rachana hai!
    Gantantr diwas kee anek shubh kamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं पिघलता रहा

    बूँद बूँद टपकता मेरा अस्तित्व
    इन पंक्तियों का सच ..बहुत ही गहरे उतर गया..नमन आपकी लेखनी को ...।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस शीतलहर में भी इतनी आग? मामला गंभीर है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हाँ ... मुझे भी तो एक मूसलाधार बारिश की
    सख्त जरूरत है

    और काश कि वह बारिश बिन बदरा गरजे, बिन तूफ़ान चले हो.....!

    बहुत सुन्दर नासवा साहब !

    उत्तर देंहटाएं
  9. गैर रूमानी सिम्बलों से एक रूमानी नज़्म लिखने का हुनर कोइ आपसे सीखे!! भीग रहा हूँ उस बारिश में!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हाँ ... मुझे भी तो एक मूसलाधार बारिश की
    सख्त जरूरत है

    bahut hi sundar !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. ’मुझे भी तो एक मूसलाधार बारिश की सख्त ज़रूरत है” भावों का सागर उमड-घुमड रहा है,आपकी इस प्रस्तुति में.-

    उत्तर देंहटाएं
  12. भावों को क्या खूब बाँधा है आपने ....

    बहुत बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  13. ओह हो...मूसलाधार बारिश की जरुरत..
    वाह बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  14. vah kya khoob likha hai apne ....Naswa ji badhai ....bhai ak photo to profile me laga dijiye shayad jindgi ke kisi mod pr mulakat ho to pahchan sakun.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत गहरे भाव लिए रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  16. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ।
    ----------------------------
    कल 26/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बूँद बूँद टपकता मेरा अस्तित्व
    धीरे धीरे समुन्दर सा होने लगा
    मेरे होने का एहसास
    कहीं गहरे में डूब गया

    तुम अब भी जल रही हो
    aur main pighal raha hun

    उत्तर देंहटाएं
  18. इसे ही निश्वार्थ प्रेम और त्याग कहते है ! जलती हुयी मोमबत्ती ! गहरे भाव ! बहुत - बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  19. अंतिम पंक्तियाँ जान डाल गईं हो जैसे पूरी रचना में...गहराई है शब्दों में समंदर सी... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  20. हाँ - बारिश की ज़रुरत तो होती ही है ......
    लेकिन -
    बारिश न हो तो समंदर भी सूख जाय करते हैं क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  21. बूँद बूँद टपकता मेरा अस्तित्व
    धीरे धीरे समुन्दर सा होने लगा
    मेरे होने का एहसास
    कहीं गहरे में डूब गया

    ....बहुत खूब! बेहतरीन प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  22. खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात....शानदार |

    उत्तर देंहटाएं
  23. दिगंबर जी सच कहूँ आपकी रचनाएँ मुझे हतप्रभ कर देती हैं...मुझे ये समझ नहीं आता कोई लगातार इतना अच्छा कैसे लिख सकता है ? कैसे आप अपने भावों को शब्द देते हैं ? कमाल है...आपकी इस रचना को पढ़ कर नि:शब्द हो गया हूँ...सहच अब शब्दों में प्रशंशा संभव नहीं लगती...जियो...भाई जियो

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  24. इस बारिश की ज़रूरत हम में से हरेक को होती है.

    उत्तर देंहटाएं
  25. वाह बेहद उत्कृष्ट लेखन...बहतरीन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  26. शब्द चयन और शिल्प के साथ यह रचना बेजोड़ है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. ओह!!.. गहरे अहसास से परिपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुंदर प्रस्तुति,रूमानी भावपूर्ण अच्छी रचना,..
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  29. लम्हा लम्हा
    तुम जलती रहीं
    कतरा कतरा
    मैं पिघलता रहा
    वाह...बेहद पसंद आई आप की यह रचना
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें
    vikram7: कैसा,यह गणतंत्र हमारा.........

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेहतरीन भाव।
    सुंदर रचना।

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं....

    जय हिंद... वंदे मातरम्।

    उत्तर देंहटाएं
  31. कभी तो होगी बारिश आपके भी अंगना !

    उत्तर देंहटाएं
  32. पहले समंदर सा विस्तार और फिर उसके सूखने का दर्द .....
    वाकई विचारणीय अहसास

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर, बारिश ज़रूर हो! दिगम्बर जी।

    उत्तर देंहटाएं
  34. ऐसी बरसात की शायद सभी को आवश्‍यकता रहती है। शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  35. गरमाने लगी है कायनात
    सूख रहे हैं धरती के होठ

    हाँ ... मुझे भी तो एक मूसलाधार बारिश की
    सख्त जरूरत है
    बहुत खूब भाई साहब .कभी कभार स्पेम भी चेक किया करें आपकी फतवों पर महत्वपूर्ण टिपण्णी अभी अभी स्पेम में से निकाली है .शुक्रिया आपके ब्लॉग दर्शन का .

    उत्तर देंहटाएं
  36. यही प्रेम है शायद. हम प्यार में जलने वालों को चैन कहाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  37. तिल तिल समंदर का सूखना और कतरा कतरा पिघलना .. खूबसूरत नज़्म

    उत्तर देंहटाएं
  38. .बढ़िया वृतांत... गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  39. ऐ अबरे करम जरा थम के बरस को वो आ सके .

    उत्तर देंहटाएं
  40. वाह बहुत खूब
    शब्द शब्द में गहराई छिपी हैं प्यार की

    उत्तर देंहटाएं
  41. गहरे अहसास एवं सुंदर भाव लिये बेहतरीन रचना है

    उत्तर देंहटाएं
  42. सुंदर प्रस्तुति..... आपको गणतन्त्र दिवस की शुभकामनायें.....

    उत्तर देंहटाएं
  43. अगर ऎसी भावनाएं शब्दों में पिरोयी जाएँ तो मूसलाधार बारिश ज़रूर होती है.

    उत्तर देंहटाएं
  44. बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति|
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  45. भींगने को बेताब अस्तित्व.. सुन्दर लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  46. राम राम जी,

    बहुत ही सुन्दर.... अति सुन्दर प्रस्तुति...


    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  47. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  48. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  49. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  50. बहुप्रतीक्षित है यह बारिश, सबके लिये..
    अत्यन्त प्रेरक कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  51. हमेशा की तरह गहरी रचना ने नि:शब्द कर दिया....वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  52. वाह ..बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  53. गलती से सारी टिप्पणियां डिलीट हो गयीं...

    लाब्बोलाबाब कुछ इस प्रकार था कि...ये ग्लोबल वार्मिंग के लक्षण हैं...बारिश कभी भी हो सकती है...

    उत्तर देंहटाएं
  54. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  55. होता है होता है नयी बारिशें कभी कभार ठूंठों में भी कोपलें उभार देती हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  56. ये बात अलग है
    तिल तिल ये समुन्दर अब सूखने लगा है
    धुंवा धुंवा मेरा एहसास
    अब खोने लगा है

    सुंदर भाव, सुंदर सृजन।

    उत्तर देंहटाएं
  57. अस्तित्व का ऐसा एहसास, अगर मौजूद हो, तो धरती हमेशा लहलहाती रहेगी। बिना बारिश के भी।

    उत्तर देंहटाएं
  58. बूँद बूँद टपकता मेरा अस्तित्व
    धीरे धीरे समुन्दर सा होने लगा
    मेरे होने का एहसास
    कहीं गहरे में डूब गया
    अति सुन्दर......

    उत्तर देंहटाएं
  59. बसंत पंचमी की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  60. ये बात अलग है
    तिल तिल ये समुन्दर अब सूखने लगा है
    धुंवा धुंवा मेरा एहसास
    अब खोने लगा है
    vartmaan ke ye bhav neeras banaa sakte. ras varsha ka bhav nahin khona chahiye .Behtareen abhivyakti!

    उत्तर देंहटाएं
  61. बहुत सुंदर रचना, प्रस्तुति अच्छी लगी.,
    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    उत्तर देंहटाएं
  62. वाह! बहुत ख़ूबसूरत नज़्म! बहुत खूब लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  63. गरमाने लगी है कायनात
    सूख रहे हैं धरती के होठ
    बारिश की सक्त जरुरत है .......
    बढ़िया रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  64. गौ वंश रक्षा मंच
    gauvanshrakshamanch.blogspot.com


    naye blog par aap saadr aamntrit hai....

    उत्तर देंहटाएं
  65. आपकी रचनाएं आवाक कर देती हैं....
    अद्भुत संयोजन...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  66. लम्हा लम्हा
    तुम जलती रहीं
    कतरा कतरा
    मैं पिघलता रहा

    बूँद बूँद टपकता मेरा अस्तित्व
    धीरे धीरे समुन्दर सा होने लगा
    मेरे होने का एहसास
    कहीं गहरे में डूब गया

    तुम अब भी जल रही हो
    .bahut hi khubsurat rachna .dil ko chu gayi . awasome . badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  67. bahut khoobsurat aahsas... ek ek shabd sagar se gahre hain... aabhar

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है ...