मंगलवार, 7 फ़रवरी 2012

आज ...

कभी कभी
पंख लगा के उड़ता समय
आभास नहीं होने देता किसी विशेष दिन का
खास कर
जब दिन ऐसे बीत रहे हों की इससे अच्छे दिन हो ही नहीं सकते

ऐसे में अचानक ही जादुई कायनात
अपने इन्द्रधनुष में छेद कर
किसी विशेष दिन को और सतरंगी कर देती है

पता है आज सुबह से
हवा की सरगोशी रह रह के कुछ कहना चाह रही है
महकती बसंत पंख लगा के उड़ना चाहती है
ओस की बूंदों पे लिखा पैगाम
किसी के नाम करना चाहती है

तुम्हें तो मालुम ही है इसका राज़
फिर क्यों नहीं आ जातीं मेरे पहलू में

मुझे पता है आज सब तुमसे बात करना चाहते हैं
हो सके तो मुलाक़ात भी करना चाहते हैं

पर मैं

तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
खो जाना चाहता हूँ ...

तुम चलोगी न मेरे साथ

आज ...

76 टिप्‍पणियां:

  1. तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...
    तुम चलोगी न मेरे साथ
    आज ...
    भाव पुर्ण सुंदर पंक्तियाँ बहुत आच्छी रचना

    जवाब देंहटाएं
  2. पता है आज सुबह से
    हवा की सरगोशी रह रह के कुछ कहना चाह रही है
    महकती बसंत पंख लगा के उड़ना चाहती है
    ओस की बूंदों पे लिखा पैगाम
    किसी के नाम करना चाहती है
    LAAZABAB !

    जवाब देंहटाएं
  3. पता है आज सुबह से
    हवा की सरगोशी रह रह के कुछ कहना चाह रही है
    महकती बसंत पंख लगा के उड़ना चाहती है
    ओस की बूंदों पे लिखा पैगाम
    किसी के नाम करना चाहती है ... ग़ज़ल है, नज़्म है या ख्याल है प्यार का

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह!!
    बहुत सुन्दर...
    बेहद भावपूर्ण और खूबसूरत अभिव्यक्ति..

    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  5. भावपूर्ण लेख ..
    kalamdaan.blogspot.in

    जवाब देंहटाएं
  6. तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ

    ...आपने कितनी बड़ी बात सरल शब्दों में कही है .....वाह क्या बात है बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  7. मन के भावों को व्यक्त कर दिया आपने अपनी सुन्दर कविता में। बहुत सुन्दर |

    जवाब देंहटाएं
  8. आँख बंद कर लो,वे साथ होंगे....चले जायेंगे वहाँ तक जहाँ तुम्हें जाना है,ख्वाब के टूटने तक साथ निभाना है !

    जवाब देंहटाएं
  9. कहीं आज सचमुच वो विशेष दिवस तो नहीं.. अगर है तो बधाई जो इतनी सुन्दर कविता जन्मी.. और ना भी हो तो इस दिवस को कैद करके रख लीजिए.. वक्त का घडा बड़ी जल्दी रीत जाता है!!

    जवाब देंहटाएं
  10. बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति! बहुत खूबसूरती से आपने मन के भावों को शब्दों में पिरोया है!

    जवाब देंहटाएं
  11. अहसासों की भावपूर्ण अभिव्यक्ति!

    जवाब देंहटाएं
  12. पर मैं

    तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...

    तुम चलोगी न मेरे साथ

    आज ...
    Kitna nafasat bhara andaaz hai ye!

    जवाब देंहटाएं
  13. पर मैं

    तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...

    तुम चलोगी न मेरे साथ

    आज ... .wow sunder shabdo ke sunder sansar ke kho jana chahata hoon .......aaj .........bahut khaas . bahut -bahut badhai .

    जवाब देंहटाएं
  14. अब जब भी स्वीकार कर लिया है तो मेरी ओर से बधाई, शुभकामनाएं.. आज तो जुमेरा बीच जाने का दिन है..आप बैठे कविता लिख रहे हैं!!

    जवाब देंहटाएं
  15. ऐसे में अचानक ही जादुई कायनात
    अपने इन्द्रधनुष में छेद कर
    किसी विशेष दिन को और सतरंगी कर देती है
    Kaash! Aisa ho jaye!

    जवाब देंहटाएं
  16. आज शायद फागुन का पहला दिन है !
    फाग में किसकी याद आ रही है ?

    जवाब देंहटाएं
  17. प्रीत का पैगाम देती भावपूर्ण कविता...बहुत सुंदर !

    जवाब देंहटाएं
  18. हकीकत के सपने ही सबसे सुंदर होते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  19. तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...
    तुम चलोगी न मेरे साथ

    बहुत खूबसूरत सा खयाल...

    जवाब देंहटाएं
  20. वाह ...बहुत खूब कहा है
    कल 08/02/2012 को आपकी कोई एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, !! स्‍वदेश के प्रति अनुराग !!

    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  21. पता है आज सुबह से
    हवा की सरगोशी रह रह के कुछ कहना चाह रही है
    महकती बसंत पंख लगा के उड़ना चाहती है
    ओस की बूंदों पे लिखा पैगाम
    किसी के नाम करना चाहती है
    अगर यह सिर्फ एहसास है तो भी बहुत खूबसूरत है .तसव्वुरे बारात है .

    जवाब देंहटाएं
  22. तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...

    तुम चलोगी न मेरे साथ
    waah.......

    जवाब देंहटाएं
  23. यह खास कविता किसी खास दिन का ही पैगाम दे रही है शायद...यदि यह सच है तो बधाई और शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  24. कविता से जाहिर होता है यह दिन आपके जीवन का अति महत्वपूर्ण दिन है। अच्छी कविता और खास दिन के लिए बधाई स्वीकार करें।

    जवाब देंहटाएं
  25. बहुत ही लजावाब भाव संयोजन किया है आपने समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    जवाब देंहटाएं
  26. आज तो उसे आना ही होगा..
    बहुत सुन्दर.

    जवाब देंहटाएं
  27. मन के भावो को शब्द दे दिए आपने......

    जवाब देंहटाएं
  28. बेहद, सुन्दर ,भावपूर्ण प्यारी सी प्यारभरी रचना है....

    जवाब देंहटाएं
  29. दिनों को स्वयं से जोड़कर उन्हें विशेष बना देते हैं हम..

    जवाब देंहटाएं
  30. man bheetar hi bheetar kaisi duniya basa leta hai aur insan uski udan k sath udta chala jata hai.

    bas kisi b bhaav me rah kar har insan khush rahe yahi dua hai.

    जवाब देंहटाएं
  31. काफी दिन हुए आपकी कविताओं को पढ़े हुए,आपकी कविता में उल्लिखित समय भले ही पंख लगाकर उड़ रहा हो पर अपना समय भदेस हो चुका है किस मुंह से आपकी कविताओं पे कमेन्ट करें जबकि आप इतना खूबसूरत लिख डालते हैं कि अपनी टिप्पणी उसके सामने लजाई शरमाई घबराई सकुचाई सी खड़ी रह जाये !

    जवाब देंहटाएं
  32. Hi I really liked your blog.

    I own a website. www.catchmypost.com Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well.
    We have social networking feature like facebook , you can also create your blog.
    All of your content would be published under your name, and linked to your profile so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will
    remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    Link to Hindi Corner : http://www.catchmypost.com/index.php/hindi-corner

    Link to Register :

    http://www.catchmypost.com/index.php/my-community/register

    For more information E-mail on : mypost@catchmypost.com

    जवाब देंहटाएं
  33. मुझे पता है आज सब तुमसे बात करना चाहते हैं
    हो सके तो मुलाक़ात भी करना चाहते हैं

    पर मैं

    तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...


    लो फिर बसंत आई.....
    और साथ में ये प्यार भरा पैगाम भी....
    कोई मना करे भी तो कैसे....!!

    जवाब देंहटाएं
  34. एक और अच्छी कविता, एक बार और धन्यवाद.

    जवाब देंहटाएं
  35. बस ऐसे ही पुकारते चलिए ....
    कौन कमबख्त नही चलेगा आपके साथ !
    उम्दा भाव !

    जवाब देंहटाएं
  36. बसंत बयार का असर है या फागुनी आहट का ? अतिसुंदर रचना, वाह !!!!!!!!!!!!

    जवाब देंहटाएं
  37. खूबसूरत ख्यालो से सजी रचना...बधाई!!

    जवाब देंहटाएं
  38. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!

    जवाब देंहटाएं
  39. तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...

    ...बहुत खूब! लाज़वाब अहसास...

    जवाब देंहटाएं
  40. समय पंख लगा कर उड जाता है, केवल सपने ही संजोए रह जाते हैं पलकों में ॥

    जवाब देंहटाएं
  41. इस रूमानियत पर कौन फ़िदा ना हो जाये...ए दोस्त...

    जवाब देंहटाएं
  42. इस रूमानियत पर कौन ना हो जाये फ़िदा...ए दोस्त...

    जवाब देंहटाएं
  43. वाह ...ये प्यार का जादू हैं या शब्दों का ...बेहद संजीदा प्यार से भरी प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  44. पता है आज सुबह से
    हवा की सरगोशी रह रह के कुछ कहना चाह रही है
    महकती बसंत पंख लगा के उड़ना चाहती है
    ओस की बूंदों पे लिखा पैगाम
    किसी के नाम करना चाहती है

    bahut sundar rachna ....

    जवाब देंहटाएं
  45. कुछ टेंशन लग रहा है उस साइड से!

    जवाब देंहटाएं
  46. जीवन की यह लय गेयता बनी रहे तो जीवन बड़ा सहज सुखद लगता है समय पंख लगा के उड़ जाता है लेकिन जब लय टूटती है तब सब कुछ तेज़ी से चुकने लगता है .भाई साहब आपकी टिपण्णी अपेम में पड़ी थी अभी - अभी निकाली है . आप भी कभी कभार देख लिया करें टिप्पणियाँ और उनका स्पेम में चले जाना .

    जवाब देंहटाएं
  47. शिद्दत से किया इसरार ..बहुत सुन्दर नज़्म

    जवाब देंहटाएं
  48. पता है आज सुबह से
    हवा की सरगोशी रह रह के कुछ कहना चाह रही है
    महकती बसंत पंख लगा के उड़ना चाहती है
    ओस की बूंदों पे लिखा पैगाम
    किसी के नाम करना चाहती है
    bhavon se bhari sunhari si panktiyan
    bahut sunder
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  49. रूमानियत टपक रही है ,भाई.

    जवाब देंहटाएं
  50. तुम चलोगी न मेरे साथ !!!
    इस यकीन के आगे तो कोई बात ही नही ! बेहद अपना ! बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  51. ऐसे में अचानक ही जादुई कायनात
    अपने इन्द्रधनुष में छेद कर
    किसी विशेष दिन को और सतरंगी कर देती है

    बहुत सुन्दर चित्रमयी प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  52. अपने इन्द्रधनुष में छेद कर
    किसी विशेष दिन को और सतरंगी कर देती है

    सुन्दर अहसासों से लबरेज़ कविता

    जवाब देंहटाएं
  53. अब तक तो वो आपके साथ ही होगी ना . सुँदर काव्य .

    जवाब देंहटाएं
  54. तो वह आपके साथ ही है न इतने मनुहार के बाद।

    जवाब देंहटाएं
  55. ऐसे में अचानक ही जादुई कायनात
    अपने इन्द्रधनुष में छेद कर
    किसी विशेष दिन को और सतरंगी कर देती है

    प्रेम दिवस आने ही वाला है आपकी ये रचना उसमें चार चांद लगा देगी ।

    जवाब देंहटाएं
  56. कविता के भाव मन को दुलरा गए।

    जवाब देंहटाएं
  57. सही है महाप्रभु...इतने के बाद तो चल ही देगी. :)

    जवाब देंहटाएं
  58. तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...

    तुम चलोगी न मेरे साथ
    bahut hi sundar Digambar ji ...kya khoob likha hai.... bhai blog pr apni photo to laga dijiye shayad kisi mod pr mulakat ho to pahchanane ka sankat na rahe.

    जवाब देंहटाएं
  59. भाव पुर्ण सुंदर पंक्तियाँ बहुत आच्छी रचना

    जवाब देंहटाएं
  60. पता है आज सुबह से
    हवा की सरगोशी रह रह के कुछ कहना चाह रही है
    महकती बसंत पंख लगा के उड़ना चाहती है
    ओस की बूंदों पे लिखा पैगाम
    किसी के नाम करना चाहती है ...
    ..sundar vimb .....vasant mein pyarbhare paigam likhne kee baat hi nirali hai..
    sundar sunhali yaadon mein hichkole khilani ko majboor karti prastuti..

    जवाब देंहटाएं
  61. भाव पुर्ण सुंदर और बहुत आच्छी रचना

    जवाब देंहटाएं
  62. तुम चलोगी न मेरे साथ
    आज ...
    इस एहसास और आग्रह के उद्घाटन के बाद तो चलना ही होगा

    जवाब देंहटाएं
  63. ॐ नमः शिवाय...शुभकामनाएँ पर्व विशेष की!!!

    जवाब देंहटाएं
  64. पर मैं

    तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...
    सौन्दर्य बोध से संसिक्त रचना हर शब्द खूब सूरत .

    जवाब देंहटाएं
  65. बसंती अहसासों में भिंगोती रचना..

    जवाब देंहटाएं
  66. इतनी खूबसूरत चाहत, इतनी खूबसूरत गुजारिश :) :)

    तुम्हें पलकों में बंद करके सो जाना चाहता हूँ
    तुम्हारे साथ सपनों की सतरंगी दुनिया में
    खो जाना चाहता हूँ ...

    तुम चलोगी न मेरे साथ

    आज ...

    :)

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है