बुधवार, 14 मार्च 2012

न ज़ख्मों को हवा दो ...

न ज़ख्मों को हवा दो
कोई मरहम लगा दो

हवा देती है दस्तक
चरागों को बुझा दो

लदे हैं फूल से जो
शजर नीचे झुका दो

पडोसी अजनबी हैं
दिवारों को उठा दो

मुहब्बत मर्ज़ जिनका
उन्हें तो बस दुआ दो

मेरी नाकामियों को
सिरे से तुम भुला दो

जुनूने इश्क में तो
फकत उनसे मिला दो

80 टिप्‍पणियां:

  1. अभिनव भाव अभिव्यंजन सुन्दर मनोहर रचना .छोटी बहर की बड़ी शानदार ग़ज़ल .आधुनिक जीवन स्थितियों को समेटे -


    पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो

    मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो

    क्या कहने हैं भाईसाहब .आदाब ,सलाम आपकी कलम को आपके कलाम को .

    जवाब देंहटाएं
  2. न ज़ख्मों को हवा दो
    कोई मरहम लगा दो
    ......क्या कह दिया जनाब आपने.... बहुत ही बेहतरीन पंक्तियाँ बेहतरीन गजल ....नसवा जी

    जवाब देंहटाएं
  3. पढ़ कर मज़ा आ गया...नासवा जी
    ...बधाई कुबूल करें !

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह!!!
    बहुत खूबसूरत गज़ल.....
    वाकई छोटे बहर की गज़ल का अपना सौंदर्य है...

    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  5. हमेशा कि तरह खूबसूरत गज़ल.

    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  6. अफ़सोस----

    नहीं सीख पा रहा हूँ ऐसी खूबसूरत
    भावों से भरी गजल रचना ।
    वैसे खूब मन लगाकर पढता हूँ --


    जख्म जिसने थे दिये वो आ रही है ।

    बुझ दिये, सुन हवा अस्तुति गा रही है ।

    वह फूल लादे डाल जब सजदा करे--

    वो मुहब्बत की बड़ी मलिका रही है ।।

    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक
    dineshkidillagi.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  7. कम शब्दों में बहुत कुछ कह दिया .
    शानदार ग़ज़ल .

    जवाब देंहटाएं
  8. मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो

    मेरी नाकामियों को
    सिरे से तुम भुला दो
    Kya gazab kee gazal kahee hai!

    जवाब देंहटाएं
  9. जख्मों पे मरहम का काम करती ...गज़ल !
    खुश रहिये !

    जवाब देंहटाएं
  10. मेरी नाकामियों को
    सिरे से तुम भुला दो प्रस्तुति,

    बहुत बढ़िया गजब की सुंदर रचना,.....

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    जवाब देंहटाएं
  11. नाकामियों को भुलाने नहीं याद रखने की जरूरत होती है।

    जवाब देंहटाएं
  12. लाजवाब ग़ज़ल !, शब्दों , भावो और कल्पनाओ का सुन्दर चित्रण . मैं तो कायल हो गया जनाब .

    जवाब देंहटाएं
  13. लाजवाब ग़ज़ल !, शब्दों , भावो और कल्पनाओ का सुन्दर चित्रण . मैं तो कायल हो गया जनाब .

    जवाब देंहटाएं
  14. पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो
    यही ठीक रहेगा आज के ज़माने में .
    बढ़िया सटीक रचना.

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह ...बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  16. जुनूने इश्क में तो
    फकत उनसे मिला दो

    waah

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
    आभार !

    जवाब देंहटाएं
  18. शब्द नहीं प्रसंशा के लिए.... बहुत सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  19. मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो
    bahut sundar prastuti.badhai.ये वंशवाद नहीं है क्या?

    जवाब देंहटाएं
  20. कल 15/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  21. क्या हो गया मान्यवर,कुछ परेशान से लग रहे हैं!

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर गजल!...उम्दा अभिव्यक्ति!

    जवाब देंहटाएं
  23. जख्मों को सूखने का समय मिले..बहुत ही सुन्दर रचना..

    जवाब देंहटाएं
  24. पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो

    मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो
    ..सच जिनको रोग मोहब्बत का लग जाता है उनका तो ऊपर वाला ही मालिक होता है
    ..बहुत सार्थक, सटीक प्रस्तुति ..

    जवाब देंहटाएं
  25. इस बहर में लिखी हर गज़ल मुझे बहुत प्यारी लगती हैं..और ये तो लाजवाब है!!

    जवाब देंहटाएं
  26. इस बहर में लिखी हर गज़ल मुझे बहुत प्यारी लगती हैं..और ये तो लाजवाब है!!

    जवाब देंहटाएं
  27. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल हर शेर लाजबाब , मुबारक हो

    जवाब देंहटाएं
  28. जुनूने इश्क में तो
    फकत उनसे मिला दो .waah....

    जवाब देंहटाएं
  29. खूबसूरत ग़ज़ल...देखन में छोटे लगे...पर घाव बहुत गहरे लगे...

    जवाब देंहटाएं
  30. पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो

    ....बेहतरीन गज़ल...

    जवाब देंहटाएं
  31. छोटे बहर गहरी बात ,बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  32. इसे पढ़कर लगता है आप विस्‍तृत जीवानुभाव के कवि हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  33. हम तो फकत पढ़े जाते है , गूढ़ भाव को गुने जाते है . सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  34. न ज़ख्मों को हवा दो
    कोई मरहम लगा दो

    बहुत ख़ूबसूरत शेर है और बड़ी मुनासिब ख़्वाहिश का इज़हार भी क्योंकि अक्सर मरहम की जगह नमक का इस्तेमाल होता है ज़ख़्मों पर

    जवाब देंहटाएं
  35. मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो

    बहुत खूब...सच..बस उन्हें दुआ की ही जरूरत होती है.

    जवाब देंहटाएं
  36. बहुत बहुत खुबसूरत लिखी है यह गजल ...हर शेर बधाई के लायक है ....

    जवाब देंहटाएं
  37. पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो
    bahut sundar ghazal har ashshaar ek se badhkar ek.

    जवाब देंहटाएं
  38. मुहब्बत मर्ज जिनका उन्हें तो बस दुआ दो
    मेरी नाकामियों को सिरे से तुम भुला दो.

    गर हो सके तो तुम मुझे बाँहों में सुला दो
    फिर चाहे जिंदगी भर ले लिए मुझको रुला दो.

    सुंदर गज़ल........

    जवाब देंहटाएं
  39. बहुत सुन्दर गज़ल शेयर करने के लिये बहुत बहुत आभार,
    " सवाई सिंह "

    जवाब देंहटाएं
  40. मुहब्बत मर्ज़ जिनका , उन्हें बस दुआ दो!
    बहुत बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  41. पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो...
    बहुत खूबसूरत गज़ल.

    जवाब देंहटाएं
  42. न ज़ख्मों को हवा दो
    कोई मरहम लगा दो
    lazabab.....wah.

    जवाब देंहटाएं
  43. मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो

    शायद दुआ काम कर जाए....!!

    जवाब देंहटाएं
  44. न ज़ख्मों को हवा दो
    कोई मरहम लगा दो

    हवा देती है दस्तक
    चरागों को बुझा दो

    लदे हैं फूल से जो
    शजर नीचे झुका दो
    ....waah bahut umda behatarin , anand aa gaya digambar ji , aapko hardik badhai

    जवाब देंहटाएं
  45. ये शेर बहुत पसन्द आये...
    "न ज़ख्मों को हवा दो
    कोई मरहम लगा दो
    मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो"
    वाह...वाह...वाह...

    जवाब देंहटाएं
  46. पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो

    मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो

    ग़ज़ल की ताजगी कम याब्दों में बहुत-कुछ कह रही है।

    जवाब देंहटाएं
  47. मनभावन ....
    शुभकामनायें आपको !

    जवाब देंहटाएं
  48. पडोसी अजनबी हैं
    दिवारों को उठा दो

    बहुत खूबसूरत ग़जल है...सभी पंक्तियाँ लाज़वाब!

    जवाब देंहटाएं
  49. मुहब्बत मर्ज़ जिनका
    उन्हें तो बस दुआ दो
    वाह, क्या बात कह दी आपने। मरीजे इश्क को दुआ ही काम आ सकती है। खूबसूरत ग़ज़ल।

    जवाब देंहटाएं
  50. बहुत उम्दा शायरी है ....सीधे मर्म तक पहुंचती हुई ....!बहुत सुंदर ....!!

    जवाब देंहटाएं
  51. उन्हें तो बस दुआ दो । वाह क्या बात है ।

    जवाब देंहटाएं
  52. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,

    जवाब देंहटाएं
  53. MUJHE GAJALON /KAVITAON KI JYADA SAMAJH NAHIN PAR JO DIL DIMAAG PAR ASAR KARE USE PADHATI HO ..AAPKI RACHANA BAHUT ACHHI LAGI.

    जवाब देंहटाएं
  54. छोटी बहर में यह कमाल तो ब्लॉग जगत में आप ही कर सकते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  55. "न ज़ख्मों को हवा दो
    कोई मरहम लगा दो"
    बहुत ही सुन्दर भाव ! बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  56. वाह बहुत ही खूब....

    जिंदगी के रंगों से सजी एक छोटी गज़ल

    जवाब देंहटाएं
  57. जुनूने इश्क में तो
    फकत उनसे मिला दो
    Beautiful lines sir...

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है