सोमवार, 16 अप्रैल 2012

दीदी के पीहर आते ही अब्बा हो जाता हूँ ...


छू लेती है जब मुझको तो अच्छा हो जाता हूँ  
अम्मा से जब मिलता हूँ तो बच्चा हो जाता हूँ  

करता हूँ अब्बा से छुप कर जब कोई शैतानी 
चहरे को मासूम बना के सच्चा हो जाता हूँ 

राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी  
दीदी के पीहर आते ही अब्बा हो जाता हूँ 

दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में 
दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ 

खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में 
उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ 

86 टिप्‍पणियां:

  1. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ
    alag alag saanche hain ... kabhi kuch kabhi kuch hota rahta hun . yahi jivan hai

    जवाब देंहटाएं
  2. यादोँ का सुहाना और सच्चा संगम ......
    मुबारक हो !

    जवाब देंहटाएं
  3. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ

    खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ

    उफ़ कितना मासूम सच कह दिया।

    जवाब देंहटाएं
  4. राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर जाते ही अब्बा हो जाता हूँ
    वाह...कितने रंग बदलती है जिंदगी..
    बहुत ही सुन्दर रचना.

    जवाब देंहटाएं
  5. राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर जाते ही अब्बा हो जाता हूँ
    वाह...कितने रंग बदलती है जिंदगी..
    बहुत ही सुन्दर रचना.

    जवाब देंहटाएं
  6. अंतिम शेर पढ़कर आँखे नम हो गईं.... बढ़िया ग़ज़ल...

    जवाब देंहटाएं
  7. राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर जाते ही अब्बा हो जाता हूँ
    Aisa pyar sada bana rahe!

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह क्या बात है बहुत ही बेहतरीन भाव संयोजन किया है आपने मज़ा आ गया पढ़कर...बहुत ही बढ़िया सार्थक अभिव्यक्ति....

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह........

    बहुत सुंदर....
    सभी शेर एक से बढ़ कर एक............
    दिल को छू लेने वाले............
    बहुत खूब सर

    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  10. राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर जाते ही अब्बा हो जाता हूँ
    अनुपम भाव संयोजन है इन पंक्तियों में ...

    जवाब देंहटाएं
  11. जिन्‍दगी कई कई रंग दिखा दिये हैं आपने इस गजल में। बहुत खूब।

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है..
    एक शेर समझने में थोड़ी परेशानी हो रही है - दीदी के पीहर जाते ही अब्बा हो जाता हूँ.. दीदी के पीहर या ससुराल? शायद कुछ है जो मुझे समझ नहीं आ रहा।

    जवाब देंहटाएं
  13. भावनाओ के कुशल चितेरे हो आप . हर शेर खास है .

    जवाब देंहटाएं
  14. एक अलग सी अनुभूति पिरोई हुई है...रचना में..

    जवाब देंहटाएं
  15. राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर जाते ही अब्बा हो जाता हूँ


    in panktiyon ne man ko chhoo liya. vaakai bhai aur bahan ke beech ke rishte men chhipe pyaar ka dyotak hai.

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत ही सुंदर...
    बचपन से बुढ़ापा तक को व्यक्त कर दिया.
    अन्तिम की सच्चाई...क़ाबिले तारीफ़ अभिव्यक्ति!

    जवाब देंहटाएं
  17. सीधी सादी बात...
    भोले भाले लेकिन बेहद प्रभावी अशार सर....
    सादर बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  18. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ

    बीतती यादों की दस्तक मन कच्चा ही कर देती है...

    जवाब देंहटाएं
  19. बदलते रंग |
    जीवन का सच |
    यही है जिंदगी |
    सादर ||

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत ही सुन्दर...राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर जाते ही अब्बा हो जाता हूँ

    जवाब देंहटाएं
  21. छूलेतीहैजबमुझकोतोअच्छाहोजाताहूँ
    अम्मासेजबमिलताहूँतोबच्चाहोजाताहूँ

    @ सच है... मन को छू लिया इस सच ने.
    @ जितना बुरा-बुरा बोले वो बेटा छोड़ बहु को.
    फिर भी अम्मा से मिलकर हो बच्चा-सा जाता हूँ.
    काश, प्रेम उतना ही बँटता जितना पुत्र-प्रेम में,
    यही न्याय सासू से पाकर गच्चा खा जाता हूँ.


    करताहूँअब्बासेछुपकरजबकोईशैतानी
    चहरेकोमासूमबनाकेसच्चा होजाताहूँ

    @ बहुत सुन्दर... बाल चपलता का एक पहलू यह भी है.


    राखीयाहोलीदीवालीयालोहडीबैसाखी
    दीदीकेपीहर आतेहीअब्बाहोजाताहूँ

    @ स्वानुभूत नहीं... सच ही होगा.

    दस्तकजबदेताहूँ बीतीयादोंकेकमरेमें
    दीवारोंकीसीलनसेमैंकच्चाहोजाताहूँ

    @ बहुत सुन्दर.... बहुत मार्मिक.


    खाँसीकरतारहताहूँजबबेटेकीबैठकमें
    उजलीसीदीवारोंकामैंधब्बाहोजाताहूँ
    @ संवेदना का चरम...

    जवाब देंहटाएं
  22. मन की सच्ची और प्यारी अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  23. करता हूँ अब्बा से छुप कर जब कोई शैतानी
    चहरे को मासूम बना के सच्चा हो जाता हूँ
    इस मासूमियत के क्या कहने ..
    बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  24. करता हूँ अब्बा से छुप कर जब कोई शैतानी
    चहरे को मासूम बना के सच्चा हो जाता हूँ '
    aur..main us masoom bchche ko dekh rhi hun ha ha ha riyli jise dil ko chhu jane wali rchna kahte hain wo hai yh. aapke jaisi..hmare bchpn jaisee ekdmnishchhl aur pyari see

    जवाब देंहटाएं
  25. आखिरी पंक्ति ने भाव विभुर कर दिया ..
    कितने उतार चढ़ाव हैं ज़िन्दगी में ..
    kalamdaan

    जवाब देंहटाएं
  26. बिलकुल नए अंदाज़ में...स्वाभाविक रचना !

    जवाब देंहटाएं
  27. करता हूँ अब्बा से छुप कर जब कोई शैतानी
    चहरे को मासूम बना के सच्चा हो जाता हूँ
    bahut khoob...

    जवाब देंहटाएं
  28. व्यक्तित्त्व के विभिन्न रूपों की शानदार प्रस्तुति ।
    बढ़िया ग़ज़ल ।

    जवाब देंहटाएं
  29. खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ

    सच्चाई शायद कड़वी होती है.

    एक और बढ़िया गज़ल.

    जवाब देंहटाएं
  30. करता हूँ अब्बा से छुप कर जब कोई शैतानी
    चहरे को मासूम बना के सच्चा हो जाता हूँ
    आपकी हर ग़ज़ल में कुछ खास होता है। इसकी बुनावट इतनी सरल होती है कि झट से जुबान पर चढ जाती है और भाव काफ़ी गहरे होते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  31. छू लेती है जब मुझको तो अच्छा हो जाता हूँ
    अम्मा से जब मिलता हूँ तो बच्चा हो जाता हूँ

    वाह....बहुत ही सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  32. हमेशा की तरह बहुत ही शानदार. हर एक शेर खूबसूरत..

    जवाब देंहटाएं
  33. राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर आते ही अब्बा हो जाता हूँ

    ..कमाल का शेर दिया है इस बेहतरीन गज़ल ने !

    जवाब देंहटाएं
  34. वाह दिगम्बर जी.. क्या बेहतरीन कविता लिखी है यादों पर.. बहुत ही अच्छा लगा पढ़कर..

    जवाब देंहटाएं
  35. वाह!!! हर छंद दूजे पर भारी...बहुत सुन्दर, मार्मिक और ओजपूर्ण कविता !!!!! नमन आपको ....

    जवाब देंहटाएं
  36. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ

    यूँ तो हर पंक्ति मन को छूने वाली है, इन पंक्तियों में हरेक के जीवन का सच छिपा है...बधाई इस सुंदर रचना के लिये.

    जवाब देंहटाएं
  37. shbd nahi mil rahe hai .....

    राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर आते ही अब्बा हो जाता हूँ

    mere saath bhi esa hee hota tha

    जवाब देंहटाएं
  38. ये पंक्तियां मानो जीवन का इन्द्रधनुषी रंग समेटे हैं।

    जवाब देंहटाएं
  39. खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ

    कमाल का शेर

    जवाब देंहटाएं
  40. खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ
    बुड्ढा खांसता रहता है ,सुनकर अपने ही घर में किसी और के घर के हो जातें हैं हम .

    जवाब देंहटाएं
  41. खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ
    बुड्ढा खांसता रहता है ,सुनकर अपने ही घर में किसी और के घर के हो जातें हैं हम .

    जवाब देंहटाएं
  42. बुड्ढा खांसता रहता है ,सुनकर अपने ही घर में किसी और के घर के हो जातें हैं हम .

    जवाब देंहटाएं
  43. लाजवाब रचना दिगंबर भाई ....
    जय हो ...

    जवाब देंहटाएं
  44. बच्चे सी मासूमियत और वृद्ध सी पीर
    हृदय कैमरे से खिंची, यह अद्भुत तस्वीर.

    वाह दिगम्बर जी, वाह !!!!!

    जवाब देंहटाएं
  45. ओह,
    कहाँ सोचा था ऐसे दिन भी होंगे
    वहाँ होंगे सभी इक हम न होंगे

    जवाब देंहटाएं
  46. बहुत सहजता से लिखे मन के भाव ... बहुत सुंदर गजल

    जवाब देंहटाएं
  47. "दीदी के पीहर आते ही अब्बा हो जाता हूँ "
    ......इस के बाद तो और कुछ चाहत हो ही नहीं सकती !!!

    जवाब देंहटाएं
  48. BAHUT HEE PYAREE GAZAL .EK - EK
    SHER MAN KO BHARPOOR CHHOTA HAI .
    BAHUT - BAHUT BADHAAEE .

    जवाब देंहटाएं
  49. खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ

    ....रिश्तों और जीवन के विभिन्न रंगों की सशक्त अभिव्यक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  50. खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ
    मन को छू गई आप की यह रचना,

    जवाब देंहटाएं
  51. छू लेती है जब मुझको तो अच्छा हो जाता हूँ
    अम्मा से जब मिलता हूँ तो बच्चा हो जाता हूँ

    करता हूँ अब्बा से छुप कर जब कोई शैतानी
    चहरे को मासूम बना के सच्चा हो जाता हूँ
    .......waah sabhi sher ek se badhkar ek kisi ek ko nahi chod sakte .......aur bitte yado ki silan se kaccha ho jata hoon .bahut khoob ....waah

    जवाब देंहटाएं
  52. क्या बात है!...अनेक रूपों में नजर आना आसान नहीं है!...सुन्दर प्रस्तुति!....आभार!

    जवाब देंहटाएं
  53. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ

    aap to hmesha hi rock krte h

    जवाब देंहटाएं
  54. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ
    बेहतरीन प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  55. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ


    वाह बहुत सुन्दर ... आभार

    जवाब देंहटाएं
  56. खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ

    WAH BHAI DIGAMBAR JI ...BILKUL LAJABAB GAJAL PAROSI HAI APNE.

    जवाब देंहटाएं
  57. अनूठे भाव... जीवन से सभी रंग सिमट आये हैं...सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  58. राखी या होली दीवाली या लोहडी बैसाखी
    दीदी के पीहर आते ही अब्बा हो जाता हूँ !!

    अब भी रिश्तों की यह मिठास बची है !
    बेहतरीन भाव !

    जवाब देंहटाएं
  59. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    जवाब देंहटाएं
  60. दीदी के पीहर आते ही अब्बा हो जाता हूँ

    खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ

    गज़ब की पंक्तियाँ

    जवाब देंहटाएं
  61. सभी शेर लाजवाब हैं..
    लेकिन मेरी फेवरिट :
    दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ

    :)

    जवाब देंहटाएं
  62. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ

    बहुत ही बेहतरीन रचना।
    ऐसा लगा जैसे मेरे ही घर की बात हो।

    जवाब देंहटाएं
  63. छू लेती है जब मुझको तो अच्छा हो जाता हूँ
    अम्मा से जब मिलता हूँ तो बच्चा हो जाता हूँ
    देर तक एहसासों को सहलाती रहती है ये ग़ज़ल . बारहा पढो हर बार लगे नै सी है .

    जवाब देंहटाएं
  64. जिंदगी के सब रंग पर हमारा रंग तो

    खाँसी करता रहता हूँ जब बेटे की बैठक में
    उजली सी दीवारों का मैं धब्बा हो जाता हूँ ।

    ये है ।

    जवाब देंहटाएं
  65. छू लेती है जब मुझको तो अच्छा हो जाता हूँ
    अम्मा से जब मिलता हूँ तो बच्चा हो जाता हूँ ..
    .
    बहुत ही बेहतरीन रचना....

    कभी-कभी मैं क्रोधित हो जाती हूँ, जब मेरां बच्चा सहयोग नहीं देता......

    जवाब देंहटाएं
  66. गजब है सर जी......बहुत बढ़िया लिखा है। बधाई। आभार।

    जवाब देंहटाएं
  67. दस्तक जब देता हूँ बीती यादों के कमरे में
    दीवारों की सीलन से मैं कच्चा हो जाता हूँ
    wah kya bhav hai bahut hiiiiiiiiiii
    sunder
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  68. दिल को छू गई रचना.. अंतिम शेर को पढ़ आँखें नम हो गईं...

    जवाब देंहटाएं
  69. सुन्दर कई बार और बार - बार पढ़ा !

    जवाब देंहटाएं
  70. यादों और बातों में इस जीवन को जीना शुरू कर दिया हैं आपने ...बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  71. करता हूँ अब्बा से छुप कर जब कोई शैतानी
    चहरे को मासूम बना के सच्चा हो जाता हूँ
    bahut khoob!!

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है