सोमवार, 11 जून 2012

खत ...


तेरी यादों से पीछा छुड़ाने के बाद
और नींद की आगोश में जाने से पहले
न जाने रात के कौन से पहर
तेरे हाथों लिखे खत  
खुदबखुद दराज से निकलने लगते हैं  

कागज़ के परे  
एहसास की चासनी में लिपटे शब्द
और धूल में तब्दील होते उनके अर्थ
चिपक जाते हैं बीमार बिस्तर से

लगातार खांसने के बावजूद तेरे अस्तित्व की धसक
सासें रोकने लगती है   
लंबी होती तेरी परछाई
वजूद पे अँधेरे की चादर तान देती है  

यहां वहां बिखरे कागज़
सच या सपने का फर्क ढूँढने नहीं देते
सुबह दिवार से लटकी मजबूरियां और तेरे खतों के साथ  
बिस्तर से लिपटी धूल  
गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं
उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं

पर कमबख्त तेरे ये खत
खत्म होने का नाम नहीं लेते ...

89 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है! बहुत भावुक कविता है..

    जवाब देंहटाएं
  2. ये ख़त साँसे हैं... ताउम्र साथ रहेंगी...

    जवाब देंहटाएं
  3. भावमय करते शब्‍दों के साथ अनुपम प्रस्‍तुति।

    जवाब देंहटाएं
  4. खतों में कैद है अनुभूतियों की दास्ताँ, सपने , ख्बाब जिन्हें कभी प्रेम से सजाया गया था ....!

    जवाब देंहटाएं
  5. उफ़ ……………क्या अन्दाज़ है

    जवाब देंहटाएं
  6. सिलसिला है साहेब. कैसे खत्म होगा.

    जवाब देंहटाएं
  7. ये ख़त नहीं रहे अब जिंदगी का हिस्सा बन गए हैं, इन्हें जीना होगा साँसों की तरह हर पल...यादों के दस्तावेज़ हैं, कमबख्त न कहिये... :)

    जवाब देंहटाएं
  8. ख़त यादो से साथ हैं ,एक एक लफ्ज़ याद रहता है इनका :) सुन्दर रचना .बेहतरीन अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  9. बिस्तर से लिपटी धूल
    गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं
    उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं

    पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ...
    ये खत कभी कम नहीं होते. यादों की धुल जितनी झाडी जाये उड़ कर फिर उतनी ही जम जाती है.
    बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति.

    जवाब देंहटाएं
  10. पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ...
    सुन्दर और भावुक रचना !

    जवाब देंहटाएं
  11. यादें रह जाती है, जो जीने का सबब बन जाती है...हृदयस्पर्शी रचना...आभार!

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर और शानदार।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर....

    कुँवर जी,

    जवाब देंहटाएं
  14. धुल में तब्दील होते अर्थ...
    बीमार बिस्तर में चिपकना... वाह!

    बड़े खुबसूरत प्रयोग होते हैं आपकी नज्मों में सर....
    सादर बधाई स्वीकारें.

    जवाब देंहटाएं
  15. ख़त संजोये रहतें हैं वायुवीय प्रेम की मासूम सौगातें एक उम्र से ज्यादा की धरोहर .बहुत समय के बाद बहुत बढ़िया रचना .

    जवाब देंहटाएं
  16. दुआ करो ना ख़त्म हो ये सिलसिले कभी

    जवाब देंहटाएं
  17. sir
    yaaden itni aasani se peechha nahi chodti hain chahe lakh koshish kar len.antim saans tak saath nibhati hain .
    bahut bahut hibehatreen post
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  18. सुबह दिवार से लटकी मजबूरियां और तेरे खतों के साथ

    बिस्तर से लिपटी धूल par kahan peecha chuta hae,

    गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं

    उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं
    par

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत ही खूबसूरत प्रयोग । दिल से निकली कविता ।

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर अंदाज में लिखा खुबसूरत नज्म.....

    जवाब देंहटाएं
  21. बड़े सुन्दा ढंग से भवनाओं को शब्दों में पिरोया है बधाई

    जवाब देंहटाएं
  22. बहोत अच्छी रचना है.

    Hindi Dunia Blog (New Blog)

    जवाब देंहटाएं
  23. ईमेल और एसएमएस के ज़माने में भी ख़त का अपना अलग ही मजा है... आज भी कभी कभी दोस्तों की याद आती है तो उनके पुराने ख़त निकल कर बैठ जाता हूँ....
    बेहद खूबसूरत रचना....

    जवाब देंहटाएं
  24. ख़त संभाले रखो
    यादें बनी रहेंगी :-)

    जवाब देंहटाएं
  25. खतों में स्मृतियों को ठहराव मिल जाता है..

    जवाब देंहटाएं
  26. यादों के सिलसिले को खत का नाम दे दिया

    जवाब देंहटाएं
  27. Aise bhee khat hote hain jo peechha nahee chhodte!

    जवाब देंहटाएं
  28. कुछ पुरानी यादों को खुद में समेटे हुए .....

    जवाब देंहटाएं
  29. बिस्तर से लिपटी धूल
    गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं
    उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं

    मूक संवाद ज्यादा सशक्त होता है....

    जवाब देंहटाएं
  30. लगातार खांसने के बावजूद तेरे अस्तित्व की धसक
    सासें रोकने लगती है
    लंबी होती तेरी परछाई
    वजूद पे अँधेरे की चादर तान देती है
    wah bhai digambar ji .....bilkul lajabab rachana ...sadar badhai sweekaren .

    जवाब देंहटाएं
  31. मोहब्बत का सिलसिला इतना लंबा चला...........सो खत भी ढेरों होने ही हुए.......

    सुन्दर...बहुत सुन्दर....

    अनु

    जवाब देंहटाएं
  32. यादे तो हमेशा साथ रहती है...
    और उसकी निशानी कभी ख़त्म
    नहीं होती..बहुत ही कोमल भाव से लिखी
    भावुक करती रचना....
    सुन्दर....

    जवाब देंहटाएं
  33. bahut achchi rachna hai sir. jab yaadein zindagi se itne gahre judi to unki nishaani ban chuke khato ko mitaana itna aasaan nahi hota...

    जवाब देंहटाएं
  34. यादों के सिलसिले को जोड़ते खत!
    भावपूर्ण प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं
  35. जो अपना है, अपने साथ ही रहता है ...

    जवाब देंहटाएं
  36. तेरी यादों से पीछा छुड़ाने के बाद
    और नींद की आगोश में जाने से पहले
    न जाने रात के कौन से पहर
    तेरे हाथों लिखे खत
    खुदबखुद दराज से निकलने लगते हैं
    bahut badhiya rachna .....

    जवाब देंहटाएं
  37. वाह! बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ लिखी हैं....

    जवाब देंहटाएं
  38. स्मृतियाँ सहेजे ख़त .....संवेदनशील भाव

    जवाब देंहटाएं
  39. कागज़ के परे
    एहसास की चासनी में लिपटे शब्द
    और धूल में तब्दील होते उनके अर्थ
    चिपक जाते हैं बीमार बिस्तर से

    kya baat hai bhai naswa ji! bahut doobkar kahi hai aapne ye nazm

    जवाब देंहटाएं
  40. तेरे हाथों लिखे खत
    खुदबखुद दराज से निकलने लगते हैं...

    लंबी होती तेरी परछाई
    वजूद पे अँधेरे की चादर तान देती है ...

    कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ... धूल झाड़ देने से , अग्नि में डाल देने से शब्द नहीं खोते

    जवाब देंहटाएं
  41. सुबह दिवार से लटकी मजबूरियां और तेरे खतों के साथ
    बिस्तर से लिपटी धूल
    गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं
    उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं
    Bahut Badiyaa shabd Samavesh kiyaa hai Naswa sahaab !

    जवाब देंहटाएं
  42. पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ...

    बड़े गहरे अहसास उतर आए हैं,..इस कविता में...

    जवाब देंहटाएं
  43. यादों के ख़त वाह आज तो कामल ही कर दिया आपने मज़ा गया दिल छु गयी आज आपकी यह रचना बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति....वाकई यादों की धूल जितनी भी झाड़ो उड़कर वापस उतनी ही ज्यादा दुबारा जम जाती है।

    जवाब देंहटाएं
  44. ख़त में यादें या यादों के ख़त -- कभी ख़त्म नहीं हो सकते !
    बहुत सही बयाँ किया है , खूबसूरत अंदाज़ में .

    जवाब देंहटाएं
  45. सहेज कर रखे खतों को न फेंक पाने का इल्जाम भी उसी के सर। वाह ! बहुत खूब कही आपने।

    जवाब देंहटाएं
  46. आपकी रचना पढता हूँ लेकिन कमेन्ट नहीं कर पाता...क्या कहूँ? समझ ही नहीं आता...स्तब्ध हो जाता हूँ पढ़ कर...सोचता हूँ संवेदनाओं को आप इतने शशक्त शब्दों में कैसे व्यक्त कर देते हैं...अद्भुत...वाकई अद्भुत...आप और आपकी रचनाएँ बेजोड़ हैं...इनका कोई सानी नहीं...लिखते रहें

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  47. आपकी रचना पढता हूँ लेकिन कमेन्ट नहीं कर पाता...क्या कहूँ? समझ ही नहीं आता...स्तब्ध हो जाता हूँ पढ़ कर...सोचता हूँ संवेदनाओं को आप इतने शशक्त शब्दों में कैसे व्यक्त कर देते हैं...अद्भुत...वाकई अद्भुत...आप और आपकी रचनाएँ बेजोड़ हैं...इनका कोई सानी नहीं...लिखते रहें

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  48. तू ही तू है ...
    तेरी यदों का घना साया है ...
    बेसाख़्ता तेरी यदों मे खोया मैं ...

    वाह बहुत सुंदर भाव ...

    जवाब देंहटाएं
  49. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  50. प्रेम के ऐसे अहसास के साथ यह कविता सीधे दिल तक पहुँचती है. ताज़ा बिंब बहुत प्रभावशाली हैं. बहुत सुंदर.

    जवाब देंहटाएं
  51. खूबसूरत खतों का सिलसिला जारी रहे...
    अद्भुत एहसास !!!

    जवाब देंहटाएं
  52. ’पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते’
    कुछ यादें चलती हैं ,उम्र तलक, बहुत. सुंदर.

    जवाब देंहटाएं
  53. ’पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते’
    कुछ यादें चलती हैं ,उम्र तलक, बहुत. सुंदर.

    जवाब देंहटाएं
  54. ’पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते’
    कुछ यादें चलती हैं ,उम्र तलक, बहुत. सुंदर.

    जवाब देंहटाएं
  55. ’पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते’
    कुछ यादें चलती हैं ,उम्र तलक, बहुत. सुंदर.

    जवाब देंहटाएं
  56. खतो किताबत का सिलसिला जेहन से स्वप्न तक . अप्रतिम

    जवाब देंहटाएं
  57. सर जी ......क्या बात है...खतों का दास्तां पसंद आई। हर पंक्ति बेहद उम्दा है। आपको शुभकामनाएं..!

    जवाब देंहटाएं
  58. यादों का सिलसिला चलता रहता है .... बहुत भावपूर्ण नज़्म

    जवाब देंहटाएं
  59. शब्द कागज़ पर नहीं स्मृति में अंकित हैं , नष्ट कैसे होंगे !
    खूबसूरत एहसास !

    जवाब देंहटाएं
  60. पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ...
    खतों में अभिव्यक्त भावनाएं व्यक्ति का अक्श होता है और अक्श रोज़ बदलता रहता है लेकिन ख़त उसी अक्श को संजोएँ रहतें हैं और ज़िंदा रखतें हैं उन एहसासों को जो कभी उस वक्त का सच भी था .बहुत बढ़िया लिखते हैं आप भाई साहब .

    जवाब देंहटाएं
  61. पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ...
    खतों में अभिव्यक्त भावनाएं व्यक्ति का अक्श होता है और अक्श रोज़ बदलता रहता है लेकिन ख़त उसी अक्श को संजोएँ रहतें हैं और ज़िंदा रखतें हैं उन एहसासों को जो कभी उस वक्त का सच भी था .बहुत बढ़िया लिखते हैं आप भाई साहब .

    जवाब देंहटाएं
  62. यहां वहां बिखरे कागज़
    सच या सपने का फर्क ढूँढने नहीं देते
    सुबह दिवार से लटकी मजबूरियां और तेरे खतों के साथ
    बिस्तर से लिपटी धूल
    गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं
    उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं


    bahut sunder.. tazaagi k chheente..

    जवाब देंहटाएं
  63. यहां वहां बिखरे कागज़
    सच या सपने का फर्क ढूँढने नहीं देते
    .......शब्द कुछ ज्यादा ही अर्थवान हो रहे हैं !

    जवाब देंहटाएं
  64. ये यादें और ख़त बड़ा ही डेडली कम्बीनेशन है।

    जवाब देंहटाएं
  65. बहुत भावुक कविता है

    जवाब देंहटाएं
  66. बहुत सुन्दर ...ख़त से बचने के लिए पता बदल लें पर जलाएं नहीं !

    जवाब देंहटाएं
  67. खत की खता नहीं है
    इसमें
    दूसरा कोई पता नहीं है।

    जवाब देंहटाएं
  68. सुबह दिवार से लटकी मजबूरियां और तेरे खतों के साथ
    बिस्तर से लिपटी धूल
    गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं
    उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं

    पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ...

    .....बहुत मर्मस्पर्शी अहसास...यादों के खत कहाँ उम्र भर पीछा छोडते हैं...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  69. बेहद खूबसूरत नज़्म

    जवाब देंहटाएं
  70. बिस्तर से लिपटी धूल
    गली के नुक्कड़ पे झाड़ आता हूं
    उन कोरे कागजों में रोज आग लगाता हूं

    पर कमबख्त तेरे ये खत
    खत्म होने का नाम नहीं लेते ...
    bahut khub sunder bhav
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  71. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    जवाब देंहटाएं
  72. कागज पर लिखे खत भले ही जल जाएं लेकिन मन में अंकित खत कभी नष्ट नहीं हो सकेंगे।
    ठिठक कर सोचने को बाध्य करती कविता।

    जवाब देंहटाएं
  73. AAPKEE KAVITA NE MAN PAR AJEEB SAA
    NASHAA TAAREE KAR DIYA HAI . BAHUT
    KHOOB !

    जवाब देंहटाएं
  74. कमाल की भावमय प्रस्तुति है.
    खतों की कहानी भी हैरान करने वाली होती थी.

    अफ़सोस अब खतों की कहानी बीते वक़्त की बातें बनती जा रहीं हैं.

    जवाब देंहटाएं
  75. प्यार कभी मरता नहीं है ,भले कभी मर भी जाए और ख़त /खतों में व्यक्त भावनाएं बड़ी निर्दोष होतीं हैं उस वक्त का सच भी .भावना नहीं मरती प्यार भले ही मर जाए .
    और कविता उस काल खंड का जीवित दस्तावेज़ होती है .अक्षुण्य बनाए रहती है उस भावना को .

    जवाब देंहटाएं
  76. यादों का अस्तित्व केवल खतों तक ही सीमित नहीं रहता...!
    किसी की याद को झुठला देने से....
    खतों को जला देने से उनसे निजात पाना और भी मुश्किल हो जाता है...!
    और फिर उसके लिए तो और मुश्किल होता है.....
    जिसके लिए ये यादें ही जिंदगी बन गयी हों...!

    जवाब देंहटाएं
  77. अक्षरों को मिटाया जा सकता है...उसकी छाप को नहीं...

    जवाब देंहटाएं
  78. ओह...बेहतरीन...सो वैरी रोमांटिक...मज़ा आ गया कविता पढ़ के!!

    जवाब देंहटाएं
  79. उम्र निकल जाती है.. ख़त ताज़े रहते हैं.. बहुत खूब...

    जवाब देंहटाएं
  80. कितनी खूबसूरत होती है ये खतों की दुनिया । खत फाडने या जलाने से यादें कहां जाती हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  81. यादों की दुनिया बड़ी खूबसूरत होती है .............

    जवाब देंहटाएं
  82. haan khat khatm nahi hote.....
    jane kitne likhe padhe khat aaye aapke akshar khat padh kar

    sunder

    naaz

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है