रविवार, 12 मई 2013

मातृ दिवस ...


सब कह रहे हैं 
आज मातृ दिवस है 

तुझे याद करने का दिन 

पर याद तो तब किया जाता है न माँ 
जब किसी को भूला जाए 
तो क्या जो आज का दिन मनाते हैं 
भूल चुके हैं माँ को ...? 

या आज के दिन याद करके 
फिर से भुलाने की तैयारी में हैं माँ को ...? 

शायद ये कोशिश हैं मनाने की उस परपरा को 
जहां माँ तो फिर भी माँ ही रहती है 
पर भूल जाते हैं बच्चे अपने बेटे होने का फ़र्ज़ 

और किसी एक दिन के सहारे ही सही   
उस एहसास को याद कराना भी तो जरूरी है 

हालांकि ये अपनी परंपरा नहीं 
पर तू तो जानती है समय के चक्र को 
परिवर्तन के नियम को 
जिसने घेर लिया है 
हम सबको भी अपने चक्र में 

वैसे भी जब हर दिन तू रहती है साथ 
याद आती है किसी न किसी बहाने  
तो आज एक और बहाने से भी तुझे याद करूं 
कोई बुराई तो नहीं इस बात में ... 

मुझे मालुम है तू हंस रही है आज ...   

69 टिप्‍पणियां:

  1. 'माँ' जिसकी कोई परिभाषा नहीं,जिसकी कोई सीमा नहीं,जो मेरे लिए भगवान से भी बढ़कर है.बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज ही क्‍यों रोज याद बसी है उसकी

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी रचना बहुत सुंदर..

    ए अंधेरे देख ले मुंह तेरा काला हो गया,
    मां ने आंखे खोल दी घर में उजाला हो गया।


    समय मिले तो एक नजर इस लेख पर भी डालिए.

    बस ! अब बक-बक ना कर मां...

    http://dailyreportsonline.blogspot.in/2013/05/blog-post.html?showComment=1368350589129

    उत्तर देंहटाएं
  4. kya bat hai waaaaa waaaah
    bhot umda bat khi sr waaaaah
    bhot khub bhot khub

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही मर्म स्पर्शी रचना।

    माँ और माँ की बातें-यादें हमेशा ही साथ होती हैं।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. माँ की याद में मात्र दिवस कुछ अजीब ही है. होना तो इसका उल्टा चाहिये था की कमसे कम एक दिन तो ऐसा ढूंढों जब माँ की याद न आये.

    सुन्दर भावपूर्ण रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही भावपूर्ण रचना. जिसे भुला ही नहीं, उसे याद कैसे करें..
    सादर
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा): माँ वही गीत सुना दो

    उत्तर देंहटाएं
  8. मां तो रूह में बसती है कोई याद करने की फ़ार्मिलिटी नही है.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  9. हर दिन भूल पाऊँ तो किसी एक दिन याद करूँ। भावभरी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ तो गुनाह होगा ,
    जो हिस्से में आई हमारे बेवफाई
    मुबारक हो उनको ,
    जिनके हिस्से में माँ की ममता आई

    उत्तर देंहटाएं
  11. ati sundar waaaaaaah waaaaaaaaaaaaah
    kya bat hai bhot khub bhot khub

    उत्तर देंहटाएं
  12. पर याद तो तब किया जाता है न माँ
    जब किसी को भूला जाए
    तो क्या जो आज का दिन मनाते हैं
    भूल चुके हैं माँ को ...?

    मुझे भी आज तक ये बात समझ में नहीं आई....
    कि ये एक दिन ही क्यूँ मुक़र्रर है जिंदगी में...!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सही कहा आपने!
    आपको शायद याद हो या नहीं..... आपकी पिछली पोस्ट पर हमने यही लिखा था...कि माँ को भूले ही कब जो उसे याद किया जाए.....
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!माँ तो हमसब में समायी हुई है भूलने की बात कहाँ .

    उत्तर देंहटाएं
  15. जितना प्यार आज तुझ पे आया माँ,
    आशीष दे कि सबको हर रोज़ आये ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. जितना प्यार आज तुझ पे आया माँ,
    आशीष दे कि सबको हर रोज़ आये ।

    उत्तर देंहटाएं

  17. हालांकि ये अपनी परंपरा नहीं
    पर तू तो जानती है समय के चक्र को
    परिवर्तन के नियम को
    जिसने घेर लिया है
    हम सबको भी अपने चक्र में
    bahut sahi v bhavuk prastuti .

    उत्तर देंहटाएं
  18. पर याद तो तब किया जाता है न माँ
    जब किसी को भूला जाए

    बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ.

    जहां माँ तो फिर भी माँ ही रहती है
    पर भूल जाते हैं बच्चे अपने बेटे होने का फ़र्ज़

    बिलकुल सच लिखा है. इसीलिए ये दिन मुकर्रर करना होता. साथ ही बाज़ार भी फले फूले.

    उत्तर देंहटाएं
  19. तो क्या जो आज का दिन मनाते हैं
    भूल चुके हैं माँ को ...?

    या आज के दिन याद करके
    फिर से भुलाने की तैयारी में हैं माँ को ...?

    सटीक प्रश्न उठती बेहतरीन रचना .... भावमय शब्द ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत भाव-पूर्ण !मर्म स्पर्शी अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  21. अच्छी रचना बहुत सुंदर.हम क्यों बिसरा देते हैं माँ को जब उसे सबसे ज्यादा हमारी ज़रूरत होती है

    उत्तर देंहटाएं
  22. नए युग की नई रीत ....


    हर दिन माँ का है ......हर माँ को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  23. या आज के दिन याद करके
    फिर से भुलाने की तैयारी में हैं माँ को ...?
    सटीक ....

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज सोमवार (13-05-2013) माँ के लिए गुज़ारिश :चर्चामंच 1243 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सभी को मातृदिवस की बधाई हो...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  25. पर याद तो तब किया जाता है न माँ
    जब किसी को भूला जाए
    तो क्या जो आज का दिन मनाते हैं
    भूल चुके हैं माँ को ...? sahi bat kah di ....

    उत्तर देंहटाएं
  26. bharat main sare rishton ke liye tyohar bane maa ke liye nahi bana, hamne iski jarurat mahsoos nahi ki. iski sachmuch jarurat nahi thi

    उत्तर देंहटाएं
  27. भुलाने का नहीं , इस बहाने उनको याद दिलाने का जो भूले बैठे हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  28. माँ की खुशबू बसी साँसों में..

    उत्तर देंहटाएं
  29. आप तो महीनों से मातृ दिवस मना रहे हैं..मुझे लगता है...इस विषय पर एक मजमुआ़ भर नज्में तो हो ही गयी होंगी..

    उत्तर देंहटाएं
  30. माँ तो हमेशा दिल में है..
    बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना कोमल भावयुक्त ..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  31. शायद ये कोशिश हैं मनाने की उस परपरा को
    जहां माँ तो फिर भी माँ ही रहती है
    पर भूल जाते हैं बच्चे अपने बेटे होने का फ़र्ज़

    बहुत ही सुन्दर
    हर माँ को प्रणाम!
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  32. माँ तो कण-कण में समाई है ...

    तभी बन के श्रद्धा लेखनी में उतर आई है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  33. माँ को याद करने का सवाल ही नहीं वो तो हर वक़्त हमारी यादों में बसी हुयी है ... फिर एक दिन ही क्यों ....

    उत्तर देंहटाएं
  34. बेशक हम और आप ऐसे नहीं हैं नासवा जी ...पर कई जगहें ऐसी भी हैं जहां बेटे माँ की सारी जायदाद बेच उसे एयर पोर्ट पे अकेली छोड़ खुद उड़न छू हो जाते हैं .....

    (ये घटना कुछ दिन पहले दिल्ली में घटी शायद सुना हो आपने )

    उत्तर देंहटाएं
  35. शायद ये कोशिश हैं मनाने की उस परपरा को
    जहां माँ तो फिर भी माँ ही रहती है
    पर भूल जाते हैं बच्चे अपने बेटे होने का फ़र्ज़

    ...सच कहा है..वर्ना माँ किस दिन याद नहीं आती?

    उत्तर देंहटाएं
  36. बेहद भावपूर्ण
    यूँ भी याद करने के लिए भुलाना जरुरी तो नहीं.

    उत्तर देंहटाएं

  37. वैसे भी जब हर दिन तू रहती है साथ
    याद आती है किसी न किसी बहाने
    तो आज एक और बहाने से भी तुझे याद करूं
    कोई बुराई तो नहीं इस बात में ...

    सच है...माँ तो वैसे भी याद आ ही जाती है..हर दिन .

    उत्तर देंहटाएं
  38. maan ko koi bhoolata bhi hai kya? han bhoolate hai kuchh log - isaliye ki kal phir unhen bhi koi bhoole aur ve apane usa gunah ke lie khud tadap kar prayashchit karen.

    उत्तर देंहटाएं
  39. शुक्रिया आपकी प्रासंगिक सद्य टिप्पणियों का .
    माँ बेटे का है इस जग में कितना सुंदर नाता ...
    पूत कपूत सुने हैं लेकिन माता हुईं ,सुमाता .....

    उत्तर देंहटाएं
  40. शुक्रिया आपकी प्रासंगिक सद्य टिप्पणियों का .
    माँ बेटे का है इस जग में कितना सुंदर नाता ...
    पूत कपूत सुने हैं लेकिन माता हुईं ,सुमाता .....

    उत्तर देंहटाएं
  41. माँ और शिव बाबा को जब मर्जी याद कर लो .सिर्फ झुका लो वन्दना में ,आस की उजली किरण वह ....

    उत्तर देंहटाएं
  42. स्नेह का साया होती है माँ ...हरदम साथ , बहुत भावपूर्ण लिखा है ....

    उत्तर देंहटाएं
  43. सच कह रहें हैं आप---माँ का एक दिन क्यों
    माँ तो हर पल रहती है दिल में,मन में समूचे जीवन में
    सार्थक रचना
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  44. कितने बुरे हैं हम लोग हमने माँ के लिए भी दिन निश्चित कर रखा है ....बाकी रिश्तो की कद्र करना क्या ही जानते होंगे...
    सही लिखा है आपने की माँ तू हंस रही ह आज।।।

    उत्तर देंहटाएं
  45. कितने बुरे हैं हम लोग हमने माँ के लिए भी दिन निश्चित कर रखा है ....बाकी रिश्तो की कद्र करना क्या ही जानते होंगे...
    सही लिखा है आपने की माँ तू हंस रही ह आज।।।

    उत्तर देंहटाएं
  46. digmbar ji aapki adhiktar rachnaayen nari pradhan hoti hai aur unmein bhi "maa' sarvopari rahi hai...vastvikta bhi yahi hai..aapki rachnaon mein..
    aapki 'maa' ka sashkt bimb dekhne ko milta hai..aur iss liye main aapko bahut badhai deti hoon...aur shubkamnayen bhi :)

    उत्तर देंहटाएं
  47. बहुत सुन्दर रचना है लेकिन ऐसा नही कि आज याद करने वाले भूल गए हैं ...........आज बहुत याद आ रही है माँ ............

    उत्तर देंहटाएं
  48. माँ पर जितना भी शब्द लिखें, वो कम है ........

    उत्तर देंहटाएं
  49. माँ पर जितना भी शब्द लिखें, वो कम है ........

    उत्तर देंहटाएं
  50. मातृ दिवस तो रोज़ ही होता है। लेकिन यह केवल वह ही समझ सकते हैं जो माँ को भुला नहीं सकते। वरना वास्तविकता तो आपने लिख ही दी, वैसे यह तो केवल एक आधुनिक परंपरा है जिसे लोग एक दूसरे की देखा देखी मनाने लगे हैं और उसमें कोई बुराई भी तो नहीं...:)

    उत्तर देंहटाएं
  51. वे हमेशा आपके साथ होंगी ...

    कई बार, रातों में उठकर
    दूध गरम कर लाती होगी

    मुझे खिलाने की चिंता में
    खुद भूखी रह जाती होगी
    मेरी तकलीफों में अम्मा, सारी रात जागती होगी
    बरसों मन्नत मांग गरीबों को, भोजन करवाती होंगी

    उत्तर देंहटाएं
  52. यह पंक्ति अच्छी लगी...

    मुझे मालुम है तू हंस रही है आज..

    उत्तर देंहटाएं
  53. या आज के दिन याद करके
    फिर से भुलाने की तैयारी में हैं माँ को....

    बहुत कुछ सोचने पे मजबूर करने वाली रचना॰

    उत्तर देंहटाएं
  54. बहुत कोमल अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  55. शुक्रिया आपकी ताज़ा टिपण्णी का .

    उत्तर देंहटाएं
  56. sach hai ma mai hi rehti hai, apvadon ko chhod dein to aaj bhi ma bachchon ke liye sab kuchh sahe ja rhi hai.

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है ...