सोमवार, 27 मई 2013

काजल रोज़ लगाने का मन करता है ...


तुझसे लाड लड़ाने का मन करता है 
बचपन में फिर जाने का मन करता है 
तेरा आना मुश्किल है फिर भी अम्मा 
तुझको पास बुलाने का मन करता है 
तुझसे लाड लड़ाने का ... 

याद है नानी जब जब घर में आती थी 
तू उस दिन खुद भी बच्चा बन जाती थी 
गाती थी जिन गीतों को तू मस्ती में   
उन गीतों को गाने का मन करता है 
तुझसे लाड लड़ाने का ... 

लग न जाए नज़र लगाती थी काजल 
लगता था उस वक़्त की अम्मा है पागल 
अब जब सर पे नहीं रहा कोई आँचल 
काजल रोज़ लगाने का मन करता है 
तुझसे लाड लड़ाने का ... 

करता हूं महसूस तेरा साया अक्सर 
राह में जब भी आता है कोई पत्थर 
कांटे जब जब करते हैं मुझको विचलित 
तेरी गोदी जाने का मन करता है 
तुझसे लाड लड़ाने का ... 

86 टिप्‍पणियां:

  1. कांटे जब जब करते हैं मुझको विचलित
    तेरी गोदी जाने का मन करता है
    नि:शब्‍द करते भाव माँ के सामीप्‍य का दृश्‍य सहज ही चित्रित होता है ...
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. माँ की 'भीनी भीनी यादें' 'मातृ-दिवस' पर पत्ते आँगन तुलसी माँ और उसका लगाया काजल सब एक साथ पाकर मन को अजब सा सुकून मिला.

    जवाब देंहटाएं
  3. जब भी हम किसी कठिनाई से गुजरते हैं तो माँ की याद बरबस आ जाती है,वैसे माँ की यादों को भूलते ही कहाँ हैं,बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत मार्मिक और संवेदनात्मक रचना, मन इसलिये और भी व्याकुल और दिखित रहता है कि अब मां लौट कर नही आयेगी.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  5. तुझसे लाड लड़ाने का मन करता है
    बचपन में फिर जाने का मन करता है
    तेरा आना मुश्किल है फिर भी अम्मा
    तुझको पास बुलाने का मन करता है
    तुझसे लाड लड़ाने का मन करता है
    .......माँ की मधुर यादों में डूबती-उतराती माँ सी सुन्दर रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  6. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 29/05/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  7. लग न जाए नज़र लगाती थी काजल
    लगता था उस वक़्त की अम्मा है पागल
    अब जब सर पे नहीं रहा कोई आँचल
    काजल रोज़ लगाने का मन करता है

    ख़ूबसूरत मार्मिक पंक्तियाँ नासवा साहब !

    जवाब देंहटाएं
  8. dil se likhi hai...iss liye datsak dil tak hai...bahut pyari!!

    जवाब देंहटाएं
  9. माँ की स्मृति स्थायी हो बस गयी है आपके शब्दों में।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही खूबसूरत कविता....
    एकदम सच्ची..
    कुँवर जी,

    जवाब देंहटाएं
  11. आप अपनी मां के सच्‍चे सपूत हैं। मां की यह याद भी बहुत सुन्‍दर है।

    जवाब देंहटाएं
  12. माँ की अनुपस्थिति भगवान जैसी है |

    जवाब देंहटाएं
  13. माँ की अहमियत उनके जाने के बाद और प्रबलता से महसूस होती है ... भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  14. उत्कृष्ट ममता विरह भाव!!

    अब जब सर पे नहीं रहा कोई आँचल
    काजल रोज़ लगाने का मन करता है

    मार्मिक!!

    जवाब देंहटाएं
  15. खोने के बाद ही उसके अहियमत का पता चलता है,,,बहुत बेहतरीन सुंदर रचना,,,बधाई

    RECENT POST : बेटियाँ,

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार (28-05-2013) के "मिथकों में जीवन" चर्चा मंच अंक-1258 पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  17. Sahi Me...Bachpan Me Jaane Ka Man Karta Hai,Unhi Logon Ke Bich Jinse Humara Bachpan Yaadgaar Bna Hai...

    जवाब देंहटाएं
  18. बहुत बढ़िया। माँ की स्मृति में सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  19. वाह एक एक शब्द बीती यादों को दोहराते हुए ,
    जो यादों में धुन्दला गये थे उन्हें पास बुलाते हुए ,
    कितने सुन्दर दिन थे जब हम तेरे करीब थे ,
    हाँ माँ देख जहन में हर शख्श तेरी ही बातों को दोहराते हुए |
    सुन्दर रचना पढ़कर बीते दिन याद गये और हम इतना कुछ लिख गये |

    जवाब देंहटाएं
  20. करता हूं महसूस तेरा साया अक्सर
    राह में जब भी आता है कोई पत्थर

    हर दर्द में माँ का स्पर्श मरहम का काम करता है ...
    मार्मिक सुंदर भाव ..
    खुश और स्वस्थ रहें !

    जवाब देंहटाएं
  21. माँ की कमी कभी पूरी नहीं हो सकती.

    जवाब देंहटाएं
  22. माँ की कमी कभी पूरी नहीं हो सकती.

    जवाब देंहटाएं
  23. waaaah waaaaah bhot khub bhot khub................aapne fir se bachpn ki yad dila di..waaaah bhot khub

    जवाब देंहटाएं
  24. हर पंक्ति ममत्व की छाँव को तरसती हुई...मार्मिक...!!!

    जवाब देंहटाएं
  25. आपकी यह रचना कल मंगलवार (28 -05-2013) को ब्लॉग प्रसारण के "विशेष रचना कोना" पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    जवाब देंहटाएं
  26. कांटे जब जब करते हैं मुझको विचलित
    तेरी गोदी जाने का मन करता है
    दिल को छूने वाले भाव

    जवाब देंहटाएं
  27. क्या कहूं इतनी प्यारी पंक्तियों को पढ़कर. बस यही की वापस उसी बचपन में लौट जाने का मन कर रहा है.

    जवाब देंहटाएं
  28. करता हूं महसूस तेरा साया अक्सर
    राह में जब भी आता है कोई पत्थर
    कांटे जब जब करते हैं मुझको विचलित
    तेरी गोदी जाने का मन करता है
    मार्मिक पंक्तियाँ नासवा जी,

    जवाब देंहटाएं
  29. क़िस्मत वालों को माँ का दुलार मिलता है
    बढ़िया रचना है भाई, आप का जादू ग़ज़ल, नज़्म, गीत सभी जगह सर चढ़ कर बोलता है

    जवाब देंहटाएं
  30. सर यू आर मैन विद गोल्डन हार्ट

    जवाब देंहटाएं
  31. माँ की ममता से कभी मन नहीं भरता... सुंदर रचना !!

    जवाब देंहटाएं
  32. माँ की ममता से कभी मन नहीं भरता... सुंदर रचना !!

    जवाब देंहटाएं
  33. माँ की ममता से बढ़कर दुनिया में कुछ नही..

    जवाब देंहटाएं
  34. जब भी मां का जिक्र आता है तो मन वाकई बहुत दुखी हो जाता है। मुझे लगता है कि आज वही दुनिया का सबसे अमीर आदमी है जिसके सिर पर मां का हाथ है।

    ऐ अंधेरे देख ले, मुंह तेरा काला हो गया,
    मां ने आंखे खोल दी, घर में उजाला हो गया।

    बहुत सुंदर रचना
    बहुत बढिया

    जवाब देंहटाएं
  35. करता हूं महसूस तेरा साया अक्सर
    राह में जब भी आता है कोई पत्थर
    कांटे जब जब करते हैं मुझको विचलित
    तेरी गोदी जाने का मन करता है
    तुझसे लाड लड़ाने का ...


    खुबसूरत एहसास में माँ की याद

    जवाब देंहटाएं
  36. माँ एक मीठा शब्द , सुन्दर एहसास और दिल के न्बहुत पास
    बहुत सुन्दर रचना आपकी

    जवाब देंहटाएं
  37. उत्कृष्ट ममता विरह भाव.

    जवाब देंहटाएं
  38. माँ पता है तुम न आ पाओगी लौटकर फिर भी
    तुझे बुलाने को , तेरी गोद में सर रखकर सो जाने को , तुझसे दिल की जाने कितनी अनकही बातें कह जाने को , बहुत दिल करता है .... बहुत दिल करता है ...

    आदरणीय हमेशा की तरह ही बेहतरीन ....

    जवाब देंहटाएं
  39. लग न जाए नज़र लगाती थी काजल
    लगता था उस वक़्त की अम्मा है पागल
    अब जब सर पे नहीं रहा कोई आँचल
    काजल रोज़ लगाने का मन करता है

    ...अप्रतिम अहसास..सदैव की तरह माँ की स्मृति ताजा करती एक मर्मस्पर्शी रचना...

    जवाब देंहटाएं
  40. लग न जाए नज़र लगाती थी काजल
    लगता था उस वक़्त की अम्मा है पागल
    अब जब सर पे नहीं रहा कोई आँचल
    काजल रोज़ लगाने का मन करता है....

    लाजवाब अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  41. लग न जाए नज़र लगाती थी काजल
    लगता था उस वक़्त की अम्मा है पागल
    अब जब सर पे नहीं रहा कोई आँचल
    काजल रोज़ लगाने का मन करता है
    तुझसे लाड लड़ाने का ... --

    वाकई माँ जीवन को संवारती है
    वह है तो जीवन है
    बहुत सार्थक रचना
    सादर


    तपती गरमी जेठ मास में---
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    जवाब देंहटाएं

  42. याद है नानी जब जब घर में आती थी
    तू उस दिन खुद भी बच्चा बन जाती थी
    गाती थी जिन गीतों को तू मस्ती में
    उन गीतों को गाने का मन करता है

    मनभावन रचना

    जवाब देंहटाएं
  43. आपको पढ़कर बस एक भावनाओं का सैलाब ..दूर-दूर तक सैलाब ही दिखता है .

    जवाब देंहटाएं
  44. माँ तेरा दुलार पाने को मन करता है,जब बैठा हूँ यूँ ही तेरी यादों में जीने को मन करता है,
    किसे कहूँ मेरा दर्द,आज भी तुझसे लाड लड़ने को मन करता है.....
    अति सुन्दर रचना...

    जवाब देंहटाएं
  45. बेहतरीन सोच! क्या खूब पंक्तियाँ लिखीं आपने

    करता हूं महसूस तेरा साया अक्सर
    राह में जब भी आता है कोई पत्थर
    कांटे जब जब करते हैं मुझको विचलित
    तेरी गोदी जाने का मन करता है
    तुझसे लाड लड़ाने का ...

    निशब्द....जितनी सराहना की जाये कम है

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    जवाब देंहटाएं
  46. हर शब्द माँ को पुकारता सा प्रतीत हो रहा है, भावुक करती रचना...

    जवाब देंहटाएं
  47. अम्मा को रोज हिचकी आती है
    और आधी रात को वह काजल लगा जाती है अपने बेटे को

    जवाब देंहटाएं
  48. उस माँ से मिलने को हर पल अब सबका मन करता है।

    जवाब देंहटाएं
  49. याद है नानी जब जब घर में आती थी
    तू उस दिन खुद भी बच्चा बन जाती थी
    .
    . atiii sunder....

    जवाब देंहटाएं
  50. वाह दिगंबर जी!
    बहुत दिनों बाद ब्लॉग की दुनिया मैं लोटा हूँ और सबसे पहले आपक के ब्लॉग पर आना हुआ
    'माँ' पर इतनी खूबसूरत शेर और कवितायें पढ़ कर आँखे नम हो गईं
    बहुत बहुत बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  51. हर शब्द जैसे बोलता है..माँ...तुम कहाँ हो?
    मन की वेदना सहज नज़र आती है आप की इन कविताओं में ...

    जवाब देंहटाएं
  52. क्या कहूँ फिर से बचपन में जाने को मन करता है। बहुत मासूम सी कविता.

    जवाब देंहटाएं
  53. सच में अम्मा के गोद में जाने का लाड लडाने का मन करता है ।

    जवाब देंहटाएं
  54. dil se likhi kavita..ekdam nostalgic see....sabko kuch yaad sa aane lagta hai!!

    जवाब देंहटाएं
  55. अम्मा की गोद और अम्मा का लाड भी भुलाया जा सकता है क्या.

    जवाब देंहटाएं
  56. एक-एक शब्द सच्ची ....सच्ची अभिव्यक्ति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  57. माँ की कोमल यादों से सजी सुन्दर और हृदयस्पर्शी रचना...
    बहुत सुन्दर.,..
    :-)

    जवाब देंहटाएं
  58. करता हूं महसूस तेरा साया अक्सर
    राह में जब भी आता है कोई पत्थर
    कांटे जब जब करते हैं मुझको विचलित
    तेरी गोदी जाने का मन करता है
    तुझसे लाड लड़ाने का ... ,bahut sundr abhivykti,kabhi meri site pr bhi pdhare

    जवाब देंहटाएं

  59. तपती गरमी जेठ मास में---
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    जवाब देंहटाएं
  60. संवेदनात्मक रचना, माँ तो माँ होती है कुछ भी कहा जाए कम है...

    जवाब देंहटाएं
  61. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  62. याद है नानी जब जब घर में आती थी
    तू उस दिन खुद भी बच्चा बन जाती थी
    गाती थी जिन गीतों को तू मस्ती में
    उन गीतों को गाने का मन करता है

    मां की स्मृतियों को समर्पित अप्रतिम हृदयोद्गार !

    जवाब देंहटाएं
  63. I felt it..
    feeling so emotional..
    a very powerful writing..

    loved it..

    जवाब देंहटाएं
  64. MUDDAT KE BAAD EK UMDA RACHNAA PADHNE KO MILEE HAI . BADHAAEE
    AUR SHUBH KAMNA .

    जवाब देंहटाएं
  65. निःशब्द कर देने वाली संवेदना..

    जवाब देंहटाएं
  66. काजल रोज़ लगाने का मन करता है ...

    माँ की हर बात हमें जिन्दगी भर याद रहती है
    क्यूंकि वो हर चीज हमारे भले के लिए करती है

    सादर!

    जवाब देंहटाएं
  67. बचपन की याद दिलाती हुई कविता .....
    बहुत ही प्याली छि कविता !!

    जवाब देंहटाएं
  68. आपकी यह सुन्दर रचना शनिवार 08.06.2013 को निर्झर टाइम्स (http://nirjhar-times.blogspot.in) पर लिंक की गयी है! कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    जवाब देंहटाएं
  69. माँ के साथ कितनी सारी बातें जुड़ी होती हैं...माँ का काजल जो हर बुरे नजर से बचाता है...बहुत भावुक रचना|

    जवाब देंहटाएं
  70. माँ की स्मृति में लिखे आपके हर शब्द अविस्मरिनीय है नि:शब्द अनुभव कर रहा हूँ
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !
    latest post मंत्री बनू मैं

    जवाब देंहटाएं
  71. सबसे ज्यादा सुकून माँ की गोद में

    जवाब देंहटाएं
  72. दुनिया की हर माँ को नमन। बहुत ही भावपूर्ण और सुंदर रचना है आपकी।

    माँ के लिए मैंने भी दिल कागज़ पर रखा है कृपया देखिए -
    http://sushilashivran.blogspot.in/2013/05/blog-post_18.html

    जवाब देंहटाएं
  73. bas yehi ki poora blog ek aamta manthan me guntha hai aur uska nishkarsh yehi ki bas maa hi maa hai har tarafa har riste se upar hamare dil me basi aur man mandir me sazi

    जवाब देंहटाएं
  74. Ma...मां या कोई भीशब्द उन अनुभूतियों से बहुत ही छोटा है... जो मां से हमें मिलती हैं

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है