मंगलवार, 13 अगस्त 2013

यात्रा ...

गुस्सा तो है पर तू निष्ठुर नहीं ... 
अक्सर ऐसा तुम कहा करती थीं माँ   

पर पता नहीं कैसे एक ही दिन में इतना बदलाव आ गया 
तुम भी चलीं गयीं 
और मैंने भी जाने दिया 

कर दिया अग्नी के हवाले उस शरीर को 
जिसका कभी मैं हिस्सा था   
याद भी न आई वो थपकी 
जिसके बिना करवटें बदलता था 
वो गोदी, जहाँ घंटों चैन की नीद लेता था    

उस दिन सबके बीच 
(जब सब कह रहे थे ये तुम्हारी अंतिम यात्रा की तैयारी है) 
कुछ पल भी तुम्हें रोके ना रख सका 

ज़माने के रस्मों रिवाज़ जो निभाने थे   

कहा तो था सबने पर सच बताना 
क्या वो सच में तुम्हारी अंतिम यात्रा थी ...?  

पता है ... उस भीड़ में, मैं भी शामिल था ... 
    

71 टिप्‍पणियां:

  1. एक दिन जाना सब को है,अच्छी रचना।

    जवाब देंहटाएं
  2. क्या वो सच में तुम्हारी अंतिम यात्रा थी ...?
    ***
    शायद नहीं, क्यूंकि पुत्र के साथ आज भी भाव रूप में यात्रारत ही तो हैं वे...!

    जवाब देंहटाएं
  3. पार्थिव देह की अंतिम यात्रा हो सकती है पर जो मन में बसी है उसको कोई नही छीन सकता.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  4. कहते है एक औरत का जीवन माँ बन जाने के बाद ही पूर्ण होता है और यही सच भी है शायद इसलिए एक माँ की यात्रा कभी ख़त्म नहीं होती वह अपने बच्चों के साथ उनके जीवन सफर पर चाहे साथ-साथ चले या अनदेखा साया बनकर मगर माँ साथ रहती है हर पल।

    जवाब देंहटाएं
  5. तुम को खो दिया तो जाना ....
    मिट गई जो देह थी वो ....
    छब अभी भी मन मे मेरे ...
    आत्मा है माँ तुम्हारी साथ मेरे ...

    ये मेरी माँ पर लिखी कविता की चार पंक्तियाँ हैं दिगंबर जी ....माँ की आत्मा सदा बच्चों के कल्याण हित ही सोचती है ...बच्चे भले ही भुला दें ....

    जवाब देंहटाएं
  6. आप मेरी भावनाओं को शब्द देते हैं
    शुक्रिया और आभार छोटा लगने लगता है

    जवाब देंहटाएं
  7. वें माँ सौभाग्यशाली हैं जिनकी अंतिम यात्रा उनके बेटे के कंधो पर होती है ,बहुत ही सार्थक रचना।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही भावपूर्ण अभिव्यक्ति नासवा साहब !

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत हीभावपूर्ण और माँ के जुदाई वेदना से भरी हुई रचना !!

    जवाब देंहटाएं
  10. क्या वो सच में तुम्हारी अंतिम यात्रा थी ...?

    वें माँ सौभाग्यशाली हैं जिनकी अंतिम यात्रा उनके बेटे के कंधो पर होती है ,बहुत ही सार्थक रचना नासवा जी

    जवाब देंहटाएं
  11. क्या वो सच में तुम्हारी अंतिम यात्रा थी ...?

    वें माँ सौभाग्यशाली हैं जिनकी अंतिम यात्रा उनके बेटे के कंधो पर होती है ,बहुत ही सार्थक रचना नासवा जी

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत हीभावपूर्ण ....बहुत ही सार्थक रचना।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत हीभावपूर्ण ....बहुत ही सार्थक रचना।

    जवाब देंहटाएं
  14. प्रभावी प्रस्तुति,आभार आदरणीय दिगम्बर नासवा जी।

    जवाब देंहटाएं
  15. भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    आपकी और भी कवितायें पढ़ी हैं मैंने...
    सारी "माँ" के लिए ही लिखी हैं...

    जान के अच्छा लगा...

    जवाब देंहटाएं
  16. दूर हो कर भी वह इतने पास है कि उसके ना होने पर यकीन नहीं होता..बहुत भावपूर्ण रचना.

    जवाब देंहटाएं
  17. माँ एक सतत प्रेममयी प्रक्रिया है. इसकी कोई अंतिम यात्रा नहीं होती. ममत्व से जुड़ी रचना है.

    जवाब देंहटाएं
  18. ये सब ज़माने के रस्मों रिवाज़ हैं, माँ कहीं नहीं जा सकती वो हमेशा हमारे साथ है और रहेगी….

    जवाब देंहटाएं
  19. अपने कर्तव्य पूरे कर, वृद्ध शिथिल होते तन में कितना रहतीं माँ? सबको आशीष दे कर तुष्ट, निश्चिन्त मन ले अगली यात्रा पर गईँ -वे शान्ति से रहें!

    जवाब देंहटाएं
  20. यही नियति है कि कोई ह्रदय के कितना ही करीब हो पर जाना तो है एक दिन ...मर्मस्पर्शी रचना!

    जवाब देंहटाएं
  21. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (14 -08-2013) के चर्चा मंच -1337 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    जवाब देंहटाएं
  22. नहीं माँ तो हमारी शिराओं में हमारे संस्कारों में अनवरत यात्रा कर रही है और आने वाली पीढ़ियों में भी यह शाश्वत यात्रा चलती रहेगी

    जवाब देंहटाएं
  23. भावपूर्ण रचना !!
    जो बच्चे महरूम हों माँ के साए से
    हर आँचल में ममता ढूँढा करते हैं

    जवाब देंहटाएं
  24. भावपूर्ण रचना नासवा जी,
    बहुत मार्मिक लगी !

    जवाब देंहटाएं
  25. तन की अंतिम यात्रा थी माँ तो आपके मन में है ।

    जवाब देंहटाएं
  26. sir
    aapki rachna man ke antah-sthal ko chhoo gai. maa ki yaadon ke sahare hi to ham jivan paryant aage badhte rahte hain.
    maa ka saaya hamesha bachchon ke saath rahta hai----
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  27. दिल को छु जाने वाली रचना है .बहुत सुन्दर शब्द दिए आपने इस को ..

    जवाब देंहटाएं
  28. वाह बहुत बढ़िया । गहन, सुन्दर , शानदार |

    जवाब देंहटाएं
  29. एक माँ कहीं नहीं जाती है .. शरीर जाता है ...रूह सदा साथ रहती है
    तुम न सोचो क्यों है ये तनहाइयाँ
    हर पल साथ होंगी मेरी परछाइयाँ

    जवाब देंहटाएं
  30. वाह किया बात है , बहुत खूब,

    जवाब देंहटाएं
  31. माँ के लिए मदर्स डे पर लिखा था इसे...

    माँ सा प्यारा कोई नहीं
    वृद्ध हो तो क्या हुआ
    तुम अभी भी नही हो बेकार
    अनुभवों का हो खज़ाना
    जीवन के इस मोड़ पर भी
    तुम्हें हमें है सजाना|

    जीवन रथ
    मंजिल पर आकर
    ठहर चुकाहै|
    सिर्फ़ प्रस्थान शेष है|
    जाना न माँ
    इतनी जल्दी भी क्या है|

    जवाब देंहटाएं
  32. ये आत्मा पहले भी थी बाद में भी रहेगी। नया चोला लिए नए सम्बन्धों में। जो स्नेह के साथ है वह कहीं नहीं जाता है।

    जवाब देंहटाएं
  33. आपकी प्रेरणादाई माँ को नमन

    जवाब देंहटाएं
  34. बहुत मार्मिक भावपूर्ण रचना,,,,

    जवाब देंहटाएं
  35. ह्रदय को हिलोर देते है आपके शब्द. दूर होकर भी माँ दूर कहाँ हो पाती है.

    जवाब देंहटाएं
  36. गहरे कहीं एक अंतर्नाद होता है...जब जब आपको पढ़ती हूँ,,, माँ हर वक्त आपके साथ हैं ...और आपके साथ साथ हम सब भी उन्हें जान रहे हैं पल-पल ,प्रतिपल ..हर शब्दों द्वारा आपके...
    माँ को नमन...

    जवाब देंहटाएं
  37. प्‍यारी मां न्‍यारी मां
    सशरीर न सही स्‍मृतियों में सदैव रहेंगी। निश्‍चय ही उस अन्तिम यात्रा में भीड़ के बीच होते हुए भी असहाय थे आप। क्‍यूंकि जो नहीं होना चाहिए वो दुख घटा था उस दिन।

    जवाब देंहटाएं
  38. बहुत बढ़िया.. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...

    जवाब देंहटाएं
  39. अंतर्मन को बेधती आपकी रचनाएँ हमेशा प्रभावशाली होती हैं - आजादी के पर्व पर हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  40. माँ की यादें और उससे जुडी भावनाएं ये कभी अंतिम यात्रा होती है?

    जवाब देंहटाएं
  41. कहा तो था सबने पर सच बताना
    क्या वो सच में तुम्हारी अंतिम यात्रा थी ...?

    पता है ... उस भीड़ में, मैं भी शामिल था ...
    .....................................

    जवाब देंहटाएं
  42. व्यक्ति पैदा होते ही मरना शुरू कर देता है फिर भी ये राग ये अनुराग भूले नहीं भूलता। माँ पहले भी थी बाद में भी रहेगी सिर्फ हमारे साथ उसके सम्बन्ध का स्वरूप ही तो बदलेगा। माँ की आत्मा जहां रहेगी प्रसन्न बदन रहेगी ऐसे ही पालना देगी सपूतों को।

    जवाब देंहटाएं
  43. माँ कभी नहीं जातीं। वे सदा आपके साथ हैं।
    शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  44. सच में माँ से अलग होना कौन चाहता है
    बहुत ही मार्मिक
    सादर!

    जवाब देंहटाएं
  45. हर बार की तरह ... माँ से जुड़े ये अहसास
    भावनाओं का सिंचन करती यादें
    मन को छूते शब्‍द
    ...

    जवाब देंहटाएं
  46. सच में ’माँ’ शरीर कब होती है! ’माँ’ तो वह उष्मा,ऊर्जा, शक्ति है, जो जीवन को संचालित करती है। मूर्त,सूक्ष्म या स्थूल रूप में!माँ, तुझे सलाम!

    जवाब देंहटाएं
  47. कर दिया अग्नी के हवाले उस शरीर को
    जिसका कभी मैं हिस्सा था....

    बहुत खूब नासवा साहब,माँ के प्रति प्रेम और उसके विछोह की पीड़ा को प्रतिविम्बित करते मार्मिक शब्द....साधुवाद........

    जवाब देंहटाएं
  48. शुक्रिया !इस भाव वाचक रचना को सांझा करने एवं आपकी टिपण्णी का।

    जवाब देंहटाएं
  49. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना,,,,

    जवाब देंहटाएं
  50. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना,,,,

    जवाब देंहटाएं
  51. भावपूर्ण व संवेदनायुक्त रचना....

    जवाब देंहटाएं
  52. शुक्रिया टिपण्णी का। श्रृद्धा सुमन उस माँ के प्रति जो सबकी यकसां होती है।

    जवाब देंहटाएं
  53. बहुत ही मार्मिक रचना लगी.……. माँ जैसा स्नेह देने वाला इस पृथ्वी पर दूसरा कोई प्राणी हो ही नहीं सकता। . माँ के प्रति सच्चे उदगार को प्रदर्शित करती यह रचना रोंगटे खड़ी कर देती है। … बिलकुल चिरकाल तक के लिए संग्रहनीय रचना लिखी है आपने ……. माँ के लिए ह्रदय से सच्ची श्रधांजलि मेरी और से भी।

    जवाब देंहटाएं
  54. सदैव की तरह माँ की स्मृति को समर्पित एक उत्कृष्ट अभिव्यक्ति...बहुत मर्मस्पर्शी..

    जवाब देंहटाएं
  55. मां पर एक स्नेही पुत्र कितना ही लिखे कम है ..

    जवाब देंहटाएं
  56. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  57. भाव पूर्ण, मार्मिक रचना,माँ को मेरी विन्रम श्रधांजलि

    जवाब देंहटाएं
  58. भाव पूर्ण, मार्मिक रचना,माँ को मेरी विन्रम श्रधांजलि

    जवाब देंहटाएं
  59. भाव पूर्ण, मार्मिक रचना,माँ को मेरी विन्रम श्रधांजलि

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है