सोमवार, 16 सितंबर 2013

समझती है अभी भी पांचवीं में पढ़ रहा हूं मैं ...

बुढापे में भी बच्चा हूं मुझे ऐसे निहारेगी 
कभी लल्ला, कभी राजा मुझे अम्मा पुकारेगी 

मेरी माँ पे असर होता नहीं है बात का कोई 
में घर लौटूं नज़र हर हाल में मेरी उतारेगी 

समझती है अभी भी पांचवीं में पढ़ रहा हूं मैं 
नहा करके जो निकलूँ बाल वो मेरे संवारेगी 
 
कभी परदेस से लौटूं नहीं घर देर हो जाए 
परेशानी में अम्मा रात आँखों में गुजारेगी 

जहां तुलसी लगाई पेड़ पीपल का लगाया था 
अभी भी अपने हाथों से उस आँगन को बुहारेगी 

उदासी का सबब खामोश रह के जान लेगी फिर    
छुपा के अपने आँचल में वो होले से दुलारेगी 


69 टिप्‍पणियां:

  1. बुढापे में भी बच्चा हूं मुझे ऐसे निहारेगी
    कभी लल्ला, कभी राजा मुझे अम्मा पुकारेगी
    माँ की नजर में उसकी संतान हमेशा बच्चा ही बनी रहती है सुन्दर रचना नासवा जी,

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना .........माँ की यादें हमेशा होती हैं साथ.........

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर . माँ की नजर में संतान में बालपन का ही अक्स दिखता है .

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  5. नि:शब्द करती रचना !!!
    हर एक लाइन अपने आप में बेमिसाल.... माँ को परिभाषित करते हुए ....

    जवाब देंहटाएं
  6. मेरी माँ पे असर होता नहीं है बात का कोई
    में घर लौटूं नज़र हर हाल में मेरी उतारेगी
    सचमुच :).
    बहुत प्यारी रचना.

    जवाब देंहटाएं
  7. माता की सादगी ही यही है कि वह बच्चे को ताउम्र बच्चा ही समझती है. इसे ही ममत्व कहा गया है. ऐसे पलों को बहुत सुंदर तरीके से आपने कविता में ब्यान किया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. मां ने फिर याद किया है दिगम्‍बर को
    दिगम्‍बर फिर से बना है प्‍यारा बेटा

    जवाब देंहटाएं
  9. सुभानाल्लाह दिल को छू लेने वाली इस पोस्ट के लिए हैट्स ऑफ आपको |

    जवाब देंहटाएं
  10. नमस्कार आपकी यह रचना कल मंगलवार (17-09-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    जवाब देंहटाएं

  11. कभी परदेस से लौटूं नहीं घर देर हो जाए
    परेशानी में अम्मा रात आँखों में गुजारेगी
    माँ की नजर में उसकी संतान हमेशा बच्चा ही बनी रहती है सुन्दर रचना नासवा जी,सुभानाल्लाह,बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    जवाब देंहटाएं

  12. अनमोल / बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति..
    सुंदर तरीके से आपने कविता में ब्यान किया है.

    जवाब देंहटाएं
  13. हमेशा की तरह यह भी भावभरी मार्मिक रचना है । आपकी यादों को सहस्रों प्रणाम ..।

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत ही सुंदर और मार्मिक रचना.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं

  15. मेरी माँ पे असर होता नहीं है बात का कोई
    में घर लौटूं नज़र हर हाल में मेरी उतारेगी ,,,

    बहुत ही सुंदर दिल को छूती भावपूर्ण गजल !
    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    जवाब देंहटाएं
  16. मेरा बेटा भी यही सोचता होगा
    ढ़ेरों आशीर्वाद आपको

    जवाब देंहटाएं
  17. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १७/९/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है।

    जवाब देंहटाएं
  18. होले से वो दुलार हमें भी सहला गया..आह!

    जवाब देंहटाएं
  19. आपकी हर ग़ज़ल दिल पर दस्तक देती है अपने बारे में सोचने लगती हूँ की मेरे बच्चे भी क्या ऐसा ही सोचते होंगे बहुत अच्छा लिखते हैं आप दिल से बधाई

    जवाब देंहटाएं
  20. माँ के मन के भाव बहुत खूबसूरती से लिखे हैं ...

    जवाब देंहटाएं
  21. माँ बस माँ है ……। बिलकुल ऐसा ही भाव है बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  22. अद्वितीय रचना. सच्चे एहसास से भींगे हुए शब्द ऐसे ही यादगार रचनाएँ दे जाते हैं. बहुत अच्छा लगा पढ़कर.

    जवाब देंहटाएं
  23. वाह, बहुत अच्छे, महज शाब्दिक और व्यक्तिगत सरोकारों तक महदूद न रहते हुये इस ग़ज़ल में आप ने परिवेश, संवेदना और इंसानी समाज की आवश्यकताओं को भी शब्दांकित किया है, बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  24. dil ko choo jane vali rachna ....dil se likha jaye to aisi hi rachna rachi jati hai .aabhar

    जवाब देंहटाएं
  25. माँ का हर शब्द लोरी है, दुलार है।

    जवाब देंहटाएं

  26. माँ के मन में उठते भावों को बड़ी सुनदरता से चित्रण किया है
    latest post: क्षमा प्रार्थना (रुबैयाँ छन्द )
    latest post कानून और दंड

    जवाब देंहटाएं
  27. लाजवाब ! बहुत सुंदर
    समझती है अभी भी पांचवीं में पढ़ रहा हूं मैं
    नहा करके जो निकलूँ बाल वो मेरे संवारेगी ...

    जवाब देंहटाएं
  28. मान को समर्पित एक भावपूर्ण ग़ज़ल ... बहुत सुन्दर!

    जवाब देंहटाएं
  29. बहुत कोमल भावो का सफल चित्रण..माँ की इस ममता को नमन !

    जवाब देंहटाएं
  30. बहुत ही प्यारी रचना...
    हृदयस्पर्शी...
    :-)

    जवाब देंहटाएं
  31. बहुत ही सुंदर और मार्मिक रचना ,माँ की इस ममता को नमन।

    जवाब देंहटाएं
  32. मेरी माँ पे असर होता नहीं है बात का कोई
    में घर लौटूं नज़र हर हाल में मेरी उतारेगी
    बेशक संतान बूढी हो जाये माँ की नजरों में तो वह बच्चा ही रहेगी.अबोध बच्चा, सुन्दर भाव्योक्ति

    जवाब देंहटाएं
  33. माँ की महता को दर्शाती बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती ,हम बूढ़े भी हों जाये पर माँ के लिए एक बच्चा हीं होते है,धन्य है आपकी लेखनी।

    जवाब देंहटाएं
  34. यह कविता पढ़कर सालों पहले पढ़ी अशोक वाजपेयी की एक कविता याद आ गई जो उन्होंने अपनी स्वर्गीय माँ की स्मृति में लिखी थी कुछ बोल शायद ऐसे थे... अनंत में जहाँ कहीं तुम हो, वहीं अपनी ढीली पेंठ को संभालता मैं.. ऐसे ही कुछ बोल थे शायद अब कुछ भी याद नहीं... अच्छी कविता पढ़ने पर पुरानी बहुत सी सुंदर स्मृतियाँ उभर आती हैं।

    जवाब देंहटाएं
  35. behtareen ghazal. undoubtedly you have blessing of mother.

    जवाब देंहटाएं
  36. समझती है अभी भी पांचवीं में पढ़ रहा हूं मैं
    नहा करके जो निकलूँ बाल वो मेरे संवारेगी ।

    मां के लिए पुत्र सदैव 'मेरे लाल' ही होता है ।

    जवाब देंहटाएं
  37. मां और पुत्र के स्‍नेह का प्‍यारा चि‍त्रण

    जवाब देंहटाएं
  38. माँ का स्नेह इसीलिए अद्वितीय होता है क्योंकि माँ के लिए उसका बछा हमेशा बछा ही रहता है .. सुन्दर रचना ..

    जवाब देंहटाएं
  39. माँ के लिए तो बच्‍चे हमेशा बच्‍चे ही रहते है बस बच्‍चे ही बड़े हो जाते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  40. माँ तो बस माँ है उसके बराबर इस दुनिया में कोई कहाँ.

    जवाब देंहटाएं
  41. उदासी का सबब खामोश रह के जान लेगी फिर
    छुपा के अपने आँचल में वो होले से दुलारेगी

    ....बिल्कुल सच...माँ सचमुच ऐसे ही होती है...

    जवाब देंहटाएं
  42. bahut sundar aur sahi abhivyakti. kaas sabhi logo ke maname ese vichar ho. to vo shayad apani maa ki kisi bhi baat ka bura na mane. aur hakikat bhi yahi hai ki maa jo bhi kahati hai apani santan ki bhalai ke liye hi kahati hai apani samajh me bhale samay ke sath usaki samajh se bhala na ho raha ho. atah hame maa ki koi bhi baat kabhi buri to lagana hi nahi chahiye kyonki usake liye ham hamesha hi chhote rahate hai.

    जवाब देंहटाएं
  43. उदासी का सबब खामोश रह के जान लेगी फिर
    छुपा के अपने आँचल में वो होले से दुलारेगी


    बहुत सुन्दर प्रस्तुति माँ की स्नेहिल छाया आवाहन करती।

    बढ़ो तुम हौसले से तुम कभी हिम्मत न हारोगे ,

    हमारी शख्शियत औ साख को अम्मा निखारेगी।

    जवाब देंहटाएं
  44. माँ पर कविताओं का रिकार्ड बनाना है क्या ....?

    जवाब देंहटाएं
  45. बहुत सुन्दर नासवा साहब, माँ के प्रति आपका अनुराग अद्वितीय एवं अतुलनीय है....एक सुन्दर रचना के लिए बधाई......

    जवाब देंहटाएं
  46. मैं भी हरकीरत जी की बात से सहमत हूँ ...बेशक कविता बहुत अच्छी है ...माँ से बढ़ कर आज तक ना कोई हुआ है और ना होगा
    फिर भी अब लेखनी का रुख बदलिए ...सादर

    जवाब देंहटाएं
  47. प्यारी मां पर प्यारी रचना । मां के लिये बेटा हमेशा बच्चा ही रहता है— बस हम अपने आप को बडा समझते रहते है।

    जवाब देंहटाएं
  48. उदासी का सबब खामोश रह के जान लेगी फिर
    छुपा के अपने आँचल में वो होले से दुलारेगी

    yakinn
    aesi maa hi hoti hai ,tabhi aadarniye hai .bahut bahut badhiyaan .aap ki tippani bhi utni hi shaandar hoti hai .shukriyaan.

    जवाब देंहटाएं
  49. उनको गए बहुत दिन हो गए यार ..
    जितना याद करोगे वे अधिक याद आएँगी !!

    जवाब देंहटाएं
  50. kya likhun samajh nahi aata bs dil bhar aaya ...mere mn ki bat kah di ...

    जवाब देंहटाएं
  51. माँ होती ही ऐसी है. सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  52. मेरी माँ पे असर होता नहीं है बात का कोई
    में घर लौटूं नज़र हर हाल में मेरी उतारेगी ,,,

    ..... सुंदर दिल को छूती गजल !

    जवाब देंहटाएं
  53. माँ शब्द ही बहुत ताकतवर है -कभी शीतल कर देता है ,कभी हौसला देता है ...
    माँ तुझे प्रणाम ......
    आपकी गज़ल दिल को छू गयी

    जवाब देंहटाएं
  54. man to man hoti hai uske liya beta hamesa bachha rahata hai. par mamta aapne bhut hi achha varnan kiya hai

    जवाब देंहटाएं
  55. माँ...ही असल में इश्वर का रूप है

    जवाब देंहटाएं
  56. माँ के प्रति श्रद्धा और सम्मान में समर्पित आपकी रचनाओं के बारे मैं जितना कहा जाय उतना ही कम होगा

    जवाब देंहटाएं
  57. माँ की नज़र में उसका बच्चा सदैव बच्चा ही रहता है. बहुत भावपूर्ण रचना, शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  58. भावमय करते शब्‍द एवं अभिव्‍यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  59. मेरी माँ पे असर होता नहीं है बात का कोई
    में घर लौटूं नज़र हर हाल में मेरी उतारेगी

    बुढापे में भी बच्चा हूं मुझे ऐसे निहारेगी
    कभी लल्ला, कभी राजा मुझे अम्मा पुकारेगी

    बहुत सुन्दर ....दिल से निकले भाव माँ तो होती ही अनमोल है पर बच्चों को भी माँ की बातें उतनी ही शिद्दत से महसूस हों यह भी बड़ी बात है

    जवाब देंहटाएं
  60. बधाई ब्लॉगर मित्र ..सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगों की सूची में आपका ब्लॉग भी शामिल है |
    http://www.indiantopblogs.com/p/hindi-blog-directory.html

    जवाब देंहटाएं
  61. माँ को समर्पित रक बेहतरीन गज़ल।

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है