सोमवार, 8 जुलाई 2019

बिन पैरों चलती बातें

आँखों से निकली बातें
यहाँ  वहाँ बिखरी बातें

अफवाहें, झूठी, सच्ची 
फ़ैल गईं कितनी बातें

मुंह से निकली खैर नही  
जितने  मुंह उतनी बातें 

फिरती हैं आवारा सी
कुछ बस्ती ,बस्ती बातें  

बातों को जो ले बैठा 
सुलझें ना उसकी बातें 

जीवन, मृत्यू, सब किस्मत
बाकी बस रहती बातें  

कानों, कानों, फुस, फुस, फुस
बिन पैरों चलती बातें  

40 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!
    कानों, कानों, फुस, फुस, फुस
    बिन पैरों चलती बातें ... बहुत खूब!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (09-07-2019) को "जुमले और जमात" (चर्चा अंक- 3391) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. कानों, कानों, फुस, फुस, फुस
    बिन पैरों चलती बातें

    बहुत बढ़िया तरीके से बात कही गई है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इसकी बातें, उसकी बातें
    कुछ तेरी कुछ मेरी बातें

    इन बातों पर किया भरोसा
    तो ले डूबेंगी उड़ती बातें

    बातों ही बातों में जिन्दगीं की हकीकत बयाँ करती रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बाते बिन पैरों चलती हैं इसलिए ही तो इतनी फैलती हैं।
    बहुत सुंदर रचना, नासवा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. लाजवाब रचना सरपट दौड़ती मनभावन।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ! छोटी सी रचना में बहुत कुछ कह दिया। बातें बिन पैरों चलती हैं और बिना पंख के उड़ती हैं। अंदाज़े बयां बहुत बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  8. गहरे अर्थ लिए बेहतरीन प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुंह से निकली खैर नही
    जितने मुंह उतनी बातें
    बातें ही बातें ....
    वाह!!!
    बिन पैरों चलती बातें
    सटीक सुन्दर लाजवाब रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर सर
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. फिरती हैं आवारा सी
    कुछ बस्ती ,बस्ती बातें
    वाह...,लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. खूबसूरत है...आपकी इन बातों का सफ़र... वाह क्या बात है...👍👍👍

    उत्तर देंहटाएं

  13. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना 10 जुलाई 2019 के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह वाह..शानदार गज़ल..क्या कहने वाह👌

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह...छोटी बहर की बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है ...