सोमवार, 2 दिसंबर 2019

किताब का एक पन्ना


“कोशिश – माँ को समेटने की” तैयार है ... कुछ ही दिनों में आपके बीच होगी. आज एक और “पन्ना” आपके साथ साझा कर रहा हूँ ... आज सोचता हूँ तो तेरी चिर-परिचित मुस्कान सामने आ जाती है ... मेरे खुद के चेहरे पर ...  

कहते हैं गंगा मिलन
मुक्ति का मार्ग है

कनखल पे अस्थियाँ प्रवाहित करते समय
इक पल को ऐसा लगा
सचमुच तुम हमसे दूर जा रही हो ...

इस नश्वर सँसार से मुक्त होना चाहती हो
सत्य की खोज में
श्रृष्टि से एकाकार होना चाहती हो

पर गंगा के तेज प्रवाह के साथ
तुम तो केवल सागर से मिलना चाहती थीं
उसमें समा जाना चाहती थीं

जानतीं थीं
गंगा सागर से अरब सागर का सफर
चुटकियों में तय हो जाएगा   
उसके बाद तुम दुबई के सागर में
फिर से मेरे करीब होंगी ...   

किसी ने सच कहा है
माँ के दिल को जानना मुश्किल नहीं ...
 
(१३ वर्षों से दुबई रहते हुवे मन में ऐसे भाव उठना स्वाभाविक है)
(अक्तूबर ३, २०१२)
#कोशिश_माँ_को_समेटने_की

33 टिप्‍पणियां:

  1. माँ के लिए आपके मन का असीम स्नेह आपके लेखन में सदैव झलकता है..मन प्रसन्न हो जाता है इतनी सुन्दर भावाभिव्यक्ति पढ़ कर । लाजवाब सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. माँ के प्रति अगाध स्नेह ही छलकता देखा है अक्सर आपकी रचनाओं में अरब सागर से दुबई का सागर और माँ का सामीप्य.. यहाँ पुन: नेह को ही पहचाना । भूल गई पुण्य स्मृति के भाव को ..माँ को सादर नमन 🙏 असीम स्नेह है मुझे माँ शब्द से ।

      हटाएं
    2. आपका बहुत आभार मीना जी ... ये रचना मन की भावनाएं हैं ... शायद मेरी पोस्ट से कहीं ऐसा लग रहा है की माँ की पुन्य स्मृति आज है ... जबकि ऐसा नहीं है वो अगस्त में होती है ...

      हटाएं
  2. मर्मस्पर्शी पंक्तियाँ भावपूर्ण अभिव्यक्ति सर।

    जवाब देंहटाएं
  3. माँ का दिल जानना इसलिए तो आसान है क्योंकि वह अपने दिल जैसा ही होता है, वहाँ दो हैं ही नहीं, माँ की पुण्य स्मृति को सादर नमन !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी सच कहा है ... दिल तो एक ही होता है ...
      आभार आपका ...

      हटाएं
  4. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 02 दिसम्बर 2019 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  5. माँ के लिए आपकी भावनाएं जो कविता का रूप लेती हैं उन्हें पढ़कर आखें नम हो जाती हैं ,माँ के आशीर्वाद से आपकी लिखी पुस्तक को भी पूरा सम्मान मिलेंगे ,मेरी भी ढेरों शुभकामनाएं ,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  6. कण कण बूँद बूँद में है माँ । सुन्दर।

    जवाब देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (03-12-2019) को "तार जिंदगी के" (चर्चा अंक-3538) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!

    जवाब देंहटाएं
  8. जानतीं थीं
    गंगा सागर से अरब सागर का सफर
    चुटकियों में तय हो जाएगा
    उसके बाद तुम दुबई के सागर में
    फिर से मेरे करीब होंगी ...
    सच कहा ममता के बंधन में बंधी मां कहाँँ मुक्ति चाहती है...माँ तो अपने आँचल की छाँव में अपने बच्चों सदा सहेजे रखती है मृत्यु के बाद भी...।
    बहुत ही भावपूर्ण सृजन


    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच लिखा है आपने माँ ऐसी होती है ...
      आपका बहुत आभार 🙏🙏🙏

      हटाएं
  9. बहुत ही लाजवाब कल्पना दिगम्बर जी | माँ के सामीप्य की ये अथाह कामना शब्दों में ढल गयी | अरब सागर से दुबई तक माँ को जोड़ना बहुत ही हृदयस्पर्शी चिंतन है | माँ की महिमा यूँ तो कोई कलम लिखने में सक्षम नहीं , पर फिर भी माँ जब शब्दों में समाती है तो मन और आँखें दोनों नम हो जाते हैं | भावपूर्ण रचना के लये हार्दिक शुभकामनायें |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच है क़लम से मॉ के व्यक्तित्व को उतार पाना सम्भव नहीं है ... पर कई बार कुछ लिख कर माँ के क़रीब होने का अहसास ज़रूर कर लेता है ...
      आपका बहुत आभार है ... 🙏🙏🙏

      हटाएं
  10. माँ के स्मरण मात्र से ही आँखों में प्रेम के आंसू भर आते हैं। भावुक रचना।

    जवाब देंहटाएं
  11. बेहद हृदयस्पर्शी रचना आदरणीय 👌

    जवाब देंहटाएं
  12. जानतीं थीं
    गंगा सागर से अरब सागर का सफर
    चुटकियों में तय हो जाएगा
    उसके बाद तुम दुबई के सागर में
    फिर से मेरे करीब होंगी ... बहुत ही भावपूर्ण सृजन
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  13. माँ की व्याप्ति इतनी विस्तृत हो गई है कि अब उनका सामीप्य, कहीं भी रहें,अनुभव करना संभव हो जायेगा.

    जवाब देंहटाएं
  14. Behad shandaar kavita hai aapki. Mai bhav-vibhor ho gya jab maine ise padha pahli baar. ye behad prempurn hai.

    जवाब देंहटाएं
  15. बच्चे को माँ कभी अकेला नहीं नहीं छोड़ती.

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है