सोमवार, 15 जून 2020

यूँ ही गुज़रा - एक ख्याल ...


शबनम से लिपटी घास पर
नज़र आते हैं कुछ क़दमों के निशान

सरसरा कर गुज़र जाता है झोंका
जैसे गुजरी हो तुम छू कर मुझे

हर फूल देता है खुशबू जंगली गुलाब की  

खुरदरी हथेलियों की चिपचिपाहट
महसूस कराती है तेरी हाथों की तपिश  

उड़ते हुए धुल के अंधड़ में
दिखता मिटता है तेरा अक्स अकसर

जानता हूँ तुम नहीं हो आस-पास कहीं
पर कैसे कह दूँ की तुम दूर हो ...

#जंगली_गुलाब

50 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर पंक्तियाँ।

    जवाब देंहटाएं
  2. खूबसूरत एहसास भरी सुंदर अभिव्यक्ति सर।
    -----

    जवाब देंहटाएं

  3. खुरदरी हथेलियों की चिपचिपाहट
    महसूस कराती है तेरी हाथों की तपिश

    उड़ते हुए धुल के अंधड़ में
    दिखता मिटता है तेरा अक्स अकसर

    जानता हूँ तुम नहीं हो आस-पास कहीं
    पर कैसे कह दूँ की तुम दूर हो ...


    कमाल की खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
  4. जंगली गुलाब के सुन्दर एहसास।

    जवाब देंहटाएं
  5. जंगली गुलाब इस बार बहार से पतझड़ तक खिलता आ रहा है और क्या खूब खिल रहा है। लगता है इसकी महक ने आपकी कलम को अपनी ख़ुशबू से सराबोर कर दिया हैं और उसकी ख़ुशबू आपकी लेखनी से हम तक खूब आ रही हैं
    युहीं मेहको जंगली गुलाब
    खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. गुलाब कहीं भी खिले महक बिखेरता ही है

    जवाब देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (17-06-2020) को   "उलझा माँझा"    (चर्चा अंक-3735)    पर भी होगी। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    जवाब देंहटाएं
  8. कैसे कहदूँ कि तुम दूर हो ..खूबसूरत एहसास . उतनी ही खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
  9. उड़ते हुए धुल के अंधड़ में
    दिखता मिटता है तेरा अक्स अकसर
    शानदार

    जवाब देंहटाएं
  10. जंगली गुलाब की भीनी महक खूब फैलती है आपके लेखनी से
    बेहतरीन और लाजवाब सृजन .

    जवाब देंहटाएं
  11. कोमल अहसासों से बुनी रचना ! जो नहीं है जब वह भी दीखता है तो गुलाब की गंध दूर तक फ़ैल जाती है

    जवाब देंहटाएं
  12. जो दिल में रहता है वो दूर जाता ही नहीं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही हैं आप बिलकुल राजा जी ... बहुत आभार आपका ...

      हटाएं
  13. जानता हूँ तुम नहीं हो आस-पास कहीं
    पर कैसे कह दूँ की तुम दूर हो ...

    बहुत ही खूबसूरत रचना........गुलाब की महक सी फैलती है आपकी लेखनी

    जवाब देंहटाएं

  14. उड़ते हुए धुल के अंधड़ में
    दिखता मिटता है तेरा अक्स अकसर
    खुबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
  15. उड़ते हुए धुल के अंधड़ में
    दिखता मिटता है तेरा अक्स अकसर
    वाह!!!
    बेहद खूबसूरत ...।

    जवाब देंहटाएं
  16. भावमयी पंक्तियों से सुसज्जित बेहद सुन्दर सृजन आदरणीय।

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत ही उम्दा लिखावट , बहुत ही सुंदर और सटीक तरह से जानकारी दी है आपने ,उम्मीद है आगे भी इसी तरह से बेहतरीन article मिलते रहेंगे
    Best Whatsapp status 2020 (आप सभी के लिए बेहतरीन शायरी और Whatsapp स्टेटस संग्रह) Janvi Pathak

    जवाब देंहटाएं
  18. सुंदर एहसासों से सजी बढ़िया रचना।

    जवाब देंहटाएं
  19. वाह क्या सुंदर लिखावट है सुंदर मैं अभी इस ब्लॉग को Bookmark कर रहा हूँ ,ताकि आगे भी आपकी कविता पढता रहूँ ,धन्यवाद आपका !!
    Appsguruji (आप सभी के लिए बेहतरीन आर्टिकल संग्रह) Navin Bhardwaj

    जवाब देंहटाएं
  20. खुरदरी हथेलियों की चिपचिपाहट
    महसूस कराती है तेरी हाथों की तपिश ...अदभुत ! शब्द संयोजन बहुत ही शानदार !! एक राज की बात बताता हूँ आपको .. मैं आपकी रचना तीन चार बार पढ़ता हूँ फिर सोचता हूँ मैं इन शब्दों पर कुछ कहने लायक हूँ भी !! 

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है