सोमवार, 20 जुलाई 2020

हमको पढ़ते हैं कई लोग सुर्ख़ियों जैसे


ज़िन्दगी में हैं कई लोग आग हों जैसे
हर अँधेरे में सुलगते हैं जुगनुओं जैसे

सोच लेता हूँ कई बार बादलों जैसे
भीग लेने दूं किसी छत को बारिशों जैसे

बैठे बैठे भी कई बार चौंक जाता हूँ
दिल में रहते हैं कई लोग हादसों जैसे

हम सफ़र बन के मेरे साथ वो नहीं तो क्या
मील दर मील खड़े हैं वो पत्थरों जैसे   

दिल के गहरे में कई दर्द रोज़ उठते हैं
भूल जाता हूँ में हर बार मुश्किलों जैसे

लोग ऐसे भी मेरी ज़िन्दगी में आए हैं
खिलते रहते हैं हमेशा जो तितलियों जैसे

सरसरी सी ही नज़र डालना कभी हम पर
हमको पढ़ते हैं कई लोग सुर्ख़ियों जैसे

60 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ! बहुत सुंदर, शायद आग जैसे लोग ही बादलों सा बरसना सिखाते हैं, हादसों जैसे लोग दर्द को भूलना ... और तितलियों जैसे लोग ही सुर्खियाँ बनने का हौसला भरते हैं.

    जवाब देंहटाएं
  2. लोग ऐसे भी मेरी ज़िन्दगी में आए हैं
    खिलते रहते हैं हमेशा जो तितलियों जैसे

    सरसरी सी ही नज़र डालना कभी हम पर
    हमको पढ़ते हैं कई लोग सुर्ख़ियों जैसे
    लाजवाब ... सदा की तरह अत्यंत सुन्दर सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  3. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (21 -7 -2020 ) को शब्द ही शिव हैं( चर्चा अंक 3769) पर भी होगी,आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर सृजन, दिगंबर भाई।

    जवाब देंहटाएं
  5. दिल में रहते हैं कई लोग हादसों जैसे ...बहुत खूब .

    जवाब देंहटाएं
  6. सरसरी सी ही नज़र डालना कभी हम पर हमको पढ़ते हैं कई लोग सुर्ख़ियों जैसे...वाह!बेहतर सर।

    जवाब देंहटाएं
  7. लोग ऐसे भी मेरी ज़िन्दगी में आए हैं
    खिलते रहते हैं हमेशा जो तितलियों जैसे
    वाह!!!!
    बहुत ही लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह!दिगंबर जी ,क्या बात है !!बहुत खूब ।
    पढते हैं कई लोग सुर्खियों जैसे ..वाह!!

    जवाब देंहटाएं
  9. लाजवाब लिखा !

    रेखा श्रीवास्तव

    जवाब देंहटाएं
  10. दिल में रहते हैं कई लोग हादसों जैसे

    वाह-वाह

    जवाब देंहटाएं
  11. सरसरी सी ही नज़र डालना कभी हम पर
    हमको पढ़ते हैं कई लोग सुर्ख़ियों जैसे
    ... यूँ ही नहीं कोई सुर्ख़ियों में रहता है, बहुत संघर्ष छुपा रहता है उसके गर्त में
    बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं
  12. सर बहुत ही उम्दा और अर्थपूर्ण रचना है।

    जवाब देंहटाएं
  13. ......

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 22 जुलाई 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  14. शानदार बस शानदार एक से बढ़कर एक असरार।
    उम्दा/बेहतरीन

    जवाब देंहटाएं
  15. भई वाह...बहुत सुंदर गजल. मान गए.

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत ही उम्दा लिखावट , बहुत ही सुंदर और सटीक तरह से जानकारी दी है आपने ,उम्मीद है आगे भी इसी तरह से बेहतरीन article मिलते रहेंगे Best Whatsapp status 2020 (आप सभी के लिए बेहतरीन शायरी और Whatsapp स्टेटस संग्रह) Janvi Pathak

    जवाब देंहटाएं
  17. अंतिम शेर बहुत कमाल। दाद स्वीकारें।

    जवाब देंहटाएं
  18. सरसरी सी ही नज़र डालना कभी हम पर
    हमको पढ़ते हैं कई लोग सुर्ख़ियों जैसे.. वाह अद्भुत लेखन

    जवाब देंहटाएं
  19. दिल के गहरे में कई दर्द रोज़ उठते हैं
    भूल जाता हूँ में हर बार मुश्किलों जैसे,,,,,,,,,,बहुत ख़ूबसूरत ।

    जवाब देंहटाएं
  20. लोग ऐसे भी मेरी ज़िन्दगी में आए हैं
    खिलते रहते हैं हमेशा जो तितलियों जैसे....बस इन्हीं लोगों को बनाये रखिये जो जिंदगी में मिठास लाते रहते हैं !!

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है