शुक्रवार, 25 सितंबर 2020

माँ ...

आज फिर २५ सितम्बर है ... सोचता हूँ, तू आज होती तो पता नहीं कितनी कतरनें अखबार की काट-काट के अपने पास रक्खी होतीं ... सब को फ़ोन कर-कर के सलाह देती रहती ये कर, वो कर ... ये न कर, वो न कर, बचाव रख करोना से ... सच कहूँ तो अब ये बातें बहुत याद आती हैं ... शायद पिछले आठ सालों में ... मैं भी तो बूढा हो रहा हूँ ... और फिर ... बच्चा तो तभी रह पाता जो तू होती मेरे साथ ...


शाम होते ही अगरबत्ती जला देती है माँ.
घर के हर कोने को मन्दिर सा बना देती है माँ.


मुश्किलों को ज़िन्दगी में हँस के सहने का हुनर,
डट के डर का सामना करना सिखा देती है माँ .

जान जाती है बिना पूछे ही दिल का दर्द सब,
नीन्द कोसों दूर हो चाहे सुला देती है माँ.

आज भी जल्दी हो जाना, माँ से कह देता हूँ मैं,
वक़्त की पाबन्द है, मुझको उठा देती है माँ.

घर में नौकर भी है, पत्नी भी है, फिर भी आदतन, 
रोज आटा गूंथ के सब्जी चढ़ा देती है माँ.  

20 टिप्‍पणियां:

  1. मुश्किलों को ज़िन्दगी में हँस के सहने का हुनर,
    डट के डर का सामना करना सिखा देती है माँ ..
    माँ से जीवन में सम्पूर्णता रहती है उसका अभाव तो बचपन में भी इन्सान को बूढ़ा बना देता है । माँ के लिए भावभीनी रचना. अत्यंत सुन्दर..,

    जवाब देंहटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (२६-०९-२०२०) को 'पिछले पन्ने की औरतें '(चर्चा अंक-३८३६) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  3. जान जाती है बिना पूछे ही दिल का दर्द सब,
    नीन्द कोसों दूर हो चाहे सुला देती है माँ.
    हाँ, ऐसी ही होती है माँ, उसके दिल में सारी दुनिया समायी होती है फिर भी अपनी सन्तान का कोई गम उससे छुपा नहीं रह सकता, माँ की पावन स्मृति को नमन !

    जवाब देंहटाएं
  4. माँ, माँ होती है। उनको हम एक पल के लिए भी भूक नही सकते। बहुत सुंदर दिल को छूती रचना।

    जवाब देंहटाएं
  5. मुश्किलों को ज़िन्दगी में हँस के सहने का हुनर,
    डट के डर का सामना करना सिखा देती है माँ .

    जान जाती है बिना पूछे ही दिल का दर्द सब,
    नीन्द कोसों दूर हो चाहे सुला देती है माँ.

    माँ की गोद में सिर रखते ही सारी मुश्किलें भूल जाते हैं वही बचपन लौट आता है और सकून की नींद भी...।
    माँ पर बहुत ही भावपूर्ण लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  6. लाजवाब नासवा जी, मर्म को गहरे तक आडोलित करते शब्दों का गुंचा।
    शानदार।

    जवाब देंहटाएं
  7. सयानापन और बुढ़ापा, ये दोनों, माँ के जाने के बाद ही आते हैं.

    जवाब देंहटाएं
  8. हृदयस्पर्शी सृजन कहूँ या दिल के सच्चे जज्बात...,"माँ" को भूलना आसान नहीं होता और भूलना भी नहीं चाहिए,माँ की पुण्यतिथि पर सत-सत नमन मेरा
    ,सादर नमस्कार आपको

    जवाब देंहटाएं
  9. नमन है दिगम्बर जी आप को बहुत भावुक और बार बार पढ़ने के लायक रचना

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत भाग्यशाली होते हैं वो लोग जिन्हें माँ निडर होकर जीना सिखा देतीं हैं,आपकी इस भावपूर्ण रचना को मेरा सादर प्रणाम,

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह. माँ के स्वरूप पर आपके द्वारा लिखा गया साहित्य अपने आप में बेेजोड़ है.

    घर में नौकर भी है, पत्नी भी है, फिर भी आदतन,
    रोज आटा गूंथ के सब्जी चढ़ा देती है माँ.

    माँ घर की एक भरी-पूरी प्रक्रिया बन गई है. बहुत खूब.

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत ही प्रभावी और कहीं कहीं आँखों को गीले कर देने वाले शब्द हैं !!

    जवाब देंहटाएं
  13. मां पर केंद्रित बेहतरीन ग़ज़ल....

    कृपया इस link पर अवश्य पधारें, इसमे आप भी शामिल हैं।....

    http://ghazalyatra.blogspot.com/2020/09/blog-post_29.html?m=1

    जवाब देंहटाएं
  14. शाम होते ही अगरबत्ती जला देती है माँ.
    घर के हर कोने को मन्दिर सा बना देती है माँ.

    वाह !!!
    बहुत भावपूर्ण रचना !!!
    मां को समर्पित इस ग़ज़ल के लिए आपको नमन !!!

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर और शब्दश: सच! वाकई हम तब तक बच्चे ही रहते हैं जब तक हमारे मा पिता जीवित हैं, उनके जाते ही हम एकदम से बड़े और बूढ़े होने लगते हैं। आज मै जब घर मे अगरबत्ती जलाऊंगी, तो आपकी पंक्तियां याद आयेंगी, अब मैं भी किसी की मां हूँ! बहुत प्यारी रचना है। बधाई आपको।

    जवाब देंहटाएं
  16. माँ..
    तू तो बडा बना कर चली गई! अब बरबस चले आते आंसुओं को किसके आंचल में छुपाऊं

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है