मंगलवार, 10 नवंबर 2020

जो कायरों से मरोगे तो कुछ नहीं होगा ...

गुलाम बन के रहोगे तो कुछ नहीं होगा
निज़ाम से जो डरोगे तो कुछ नहीं होगा
 
तमाम शहर के जुगनू हैं कैद में उनकी  
चराग़ छीन भी लोगे तो कुछ नहीं होगा
 
समूचा तंत्र है बहरा, सभी हैं जन गूंगे
जो आफताब भी होगे तो कुछ नहीं होगा
 
बदल सको तो बदल दो जहाँ की तुम किस्मत
जो भीड़ बन के चलोगे तो कुछ नहीं होगा 
 
कलम के साथ ज़रूरी है सबकी सहभागी
नहीं जो मिल के लड़ोगे तो कुछ नहीं होगा
 
जो मौत आ ही गयी मरना मार कर दुश्मन
जो कायरों से मरोगे तो कुछ नहीं होगा

15 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 10 नवंबर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. जो मौत आ ही गयी मरना मार कर दुश्मन
    जो कायरों से मरोगे तो कुछ नहीं होगा

    बहुत ख़ूब.

    जवाब देंहटाएं
  3. बदल सको तो बदल दो जहाँ की तुम किस्मत
    जो भीड़ बन के चलोगे तो कुछ नहीं होगा

    सुन्दर ग़ज़ल....

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (11-11-2020) को   "आवाज़ मन की"  (चर्चा अंक- 3882)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 11 नवंबर 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह

    बेहतरीन ग़ज़ल 🙏🌹🙏

    कृपया मेरे ब्लॉग की इस लिंक पर भी पधारें तो कृपा होगी

    https://vichar-varsha.blogspot.com/2020/11/24.html?m=0

    जवाब देंहटाएं
  7. this is a great blog i really like it keep it up thanks for this nice blog

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है