सोमवार, 18 जनवरी 2021

ज़िन्दगी भी रेत सी फिसल गई ...

पीठ तेरी नज्र से जो जल गई.
ज़िन्दगी तब से ही हमको छल गई.
 
रौशनी आई सुबह ने कह दिया,
कुफ्र की जो रात थी वो ढल गई.
 
मुस्कुराए हम भी वो भी हंस दिए,
मोम की दीवार थी पिघल गई.
 
रात भर कश्ती संभाले थी लहर,
दिन में अपना रास्ता बदल गई.
 
इस तरफ कूआं तो खाई उस तरफ,
बच के किस्मत बीच से निकल गई.
 
जब तलक ये दाड़ अक्ल का उगा,
ज़िन्दगी भी रेत सी फिसल गई.

31 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!
    जब तलक ये दाड़ अक्ल का उगा,
    ज़िन्दगी भी रेत सी फिसल गई...गज़ब का सृजन सर।

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह ! बहुत खूब ! अति सुन्दर !!!

    जवाब देंहटाएं
  3. सादर नमस्कार ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (19-1-21) को "जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि"(चर्चा अंक-3951) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा


    जवाब देंहटाएं
  4. इस तरफ कूआं तो खाई उस तरफ,
    बच के किस्मत बीच से निकल गई.
    वाह!!!
    हमेशा की तरह एक और नायाब गजल...
    एक से बढ़कर एक शेर।

    जवाब देंहटाएं
  5. उम्दा शेरों से सजी एक बेहतरीन ग़ज़ल का तोहफ़ा देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद दिगम्बर नासवा जी..

    जवाब देंहटाएं
  6. जिंदगी जब छलती है तो सिलसिला इसी तरह आगे बढ़ता जाता है, पहले आशा बंधती है, फिर राहें बदल जाती हैं, आसमान से निकले खजूर पर अटके वाली हालत यानि कुएं और खाई जैसी, जब समझ पाते हैं तो जिंदगी विदा लेने को खड़ी होती है। खूबसूरत अंदाज में जीवन दर्शन !

    जवाब देंहटाएं
  7. जब तलक ये दाड़ अक्ल का उगा,
    ज़िन्दगी भी रेत सी फिसल गई.
    कड़वी सच्चाई व्यक्त करती रचना।

    जवाब देंहटाएं
  8. इस तरफ कूआं तो खाई उस तरफ,
    बच के किस्मत बीच से निकल गई.

    जब तलक ये दाड़ अक्ल का उगा,
    ज़िन्दगी भी रेत सी फिसल गई.

    सच है जिंदगी को समझना आसान नहीं किसी के लिए भी

    बहुत सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह!!दिगंबर जी ,क्या बात है !बहुत ही उम्दा । सही है अक्ल दाढ़ निकलते-निकलते फिसल ही जाती है जिंदगी .....।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ख़ूब....
    इस शानदार ग़ज़ल के लिए साधुवाद 🙏

    जवाब देंहटाएं
  11. मुस्कुराए हम भी वो भी हंस दिए,
    मोम की दीवार थी पिघल गई.

    सुन्दर ग़ज़ल....

    जवाब देंहटाएं
  12. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २२ जनवरी २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  13. मुस्कुराए हम भी वो भी हंस दिए,
    मोम की दीवार थी पिघल गई.
    ...................
    बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल है सर। आपको बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  14. रात भर कश्ती संभाले थी लहर,
    दिन में अपना रास्ता बदल गई.

    वाह

    जवाब देंहटाएं
  15. हर शेर लाजवाब नासवा जी ।
    गहरा दर्शन समेटे लाजवाब ग़ज़ल।
    बेहतरीन।

    जवाब देंहटाएं
  16. हर शे'र की दूसरी पंक्ति किसी अंजाम तक ले जाती है. इसने तो कमाल किया-

    इस तरफ कूआं तो खाई उस तरफ,
    बच के किस्मत बीच से निकल गई.

    जवाब देंहटाएं
  17. Wow this is fantastic article. I love it and I have also bookmark this page to read again and again. Also check bike status

    जवाब देंहटाएं

  18. मुस्कुराए हम भी वो भी हंस दिए,
    मोम की दीवार थी पिघल गई.,,',,,,,,,क्या बात है सर बहुत सुंदर ,काश के हर दीवार मोम की हो ।

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है