बुधवार, 31 मार्च 2021

चले भी आओ के दिल की खुली हैं दीवारें ...

ये सोच-सोच के हैरान सी हैं दीवारें
घरों के साथ ही दिल में खिची हैं दीवारें
 
लगे जो जोर से धक्के गिरी हैं दीवारें
कदम-कदम जो चले खुद हटी हैं दीवारें
 
सभी ने मिल के ये सोचा तो कामयाबी है 
जहाँ है सत्य वहीं पर झुकी हैं दीवारें
 
इन्हें तो तोड़ ही देना अभी तो हैं कच्ची    
हमारे बीच जो उठने लगी हैं दीवारें
 
ये सच है खुद ही इसे आजमा के समझोगे
छुआ जो इश्क़ ने दिल से मिटी हैं दीवारें
 
ये बोलती हैं कई बार कुछ इशारों से
छुपा के राज़ कहाँ रख सकी हैं दीवारें
 
यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो
किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें
 
किसी ने बीज यहाँ बो दिए हैं नफरत के
सुना है शह्र में तबसे उगी हैं दीवारें
 
तुम्हें दिया है निमंत्रण तुम्हें ही आना है 
चले भी आओ के दिल की खुली हैं दीवारें

31 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद खूबसूरत ग़ज़ल । दिलों में नहीं उठनी चाहियें दीवारें ।
    यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो
    किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें।
    ये पढ़ कर तो मन भर आया । कितनी सहजता से लिखा आपने । हर शेर अपने आप मे मुक्कमल । वाह ।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी रचना है...खूब बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. हर शेर अपने में सम्पूर्ण... बेहतरीन व लाजवाब भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. लगे जो जोर से धक्के गिरी हैं दीवारें
    कदम-कदम जो चले खुद हटी हैं दीवारें

    सभी ने मिल के ये सोचा तो कामयाबी है
    जहाँ है सत्य वहीं पर झुकी हैं दीवारें

    वाह!!!
    दीवारें उठने से लेकर गिरने तक ...दिल से लेकर मंजिल तक...यादों से लेकर नफरत तक..बोने से लेकर ढ़ोने तक ...क्या खूब
    सजाई हैं आपने ये दीवारें...
    एक से बढ़कर एक शेर...बहुत ही लाजवाब गजल।

    जवाब देंहटाएं
  5. नासवा जी आपकी कुछ रचनाओं में प्रतिक्रिया नहीं हो पा रही...टिप्पणी बॉक्स नहीं खुल रहा।

    जवाब देंहटाएं
  6. यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो
    किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें

    लाजवाब...
    यूं तो पूरी ग़ज़ल शानदार है।

    जवाब देंहटाएं
  7. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" ( 2085...किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें ) पर गुरुवार 01 अप्रैल 2021 को साझा की गई है.... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं

  8. ये बोलती हैं कई बार कुछ इशारों से
    छुपा के राज़ कहाँ रख सकी हैं दीवारें

    यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो
    किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें.. कितना कुछ,इन पंक्तियों ने का दिया, निःशब्द हूं,सुंदर रचना के लिए आपको हार्दिक शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  9. बेहतरीन सृजन,हर शेर लाजवाब कुछ कहता सा।

    जवाब देंहटाएं
  10. सभी ने मिल के ये सोचा तो कामयाबी है
    जहाँ है सत्य वहीं पर झुकी हैं दीवारें

    यूँ तो हर शेर में दीवारों की कोई न कोई खासियत बहुत खूबसूरती से उकेरी गई है, पर मिलकर सामना करें सब तो सत्य के आगे कोई नहीं टिक सकता, उम्दा सृजन !

    जवाब देंहटाएं
  11. नफरत बोने वाले की तो कमी नही है सुन्दर लिखा है आपने

    जवाब देंहटाएं
  12. ये बोलती हैं कई बार कुछ इशारों से
    छुपा के राज़ कहाँ रख सकी हैं दीवारें
    वाह बेहतरीन ग़ज़ल 👌👌

    जवाब देंहटाएं
  13. बेमिसाल और लाजवाब ग़ज़ल।
    अन्तर्राष्ट्रीय मूर्ख दिवस की बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
  14. इस निमंत्रण पर तो कैसी भी दीवार ढह जाए । बेहद उम्दा ।

    जवाब देंहटाएं
  15. ये सोच-सोच के हैरान सी हैं दीवारें
    घरों के साथ ही दिल में खिची हैं दीवारें
    ---------------
    बहुत खूब सर। बधाईयाँ सर जी।

    जवाब देंहटाएं
  16. लाजवाब,बेहतरीन गज़ल, कुछ बातें तो मन को छू गई, बधाई हो दिगम्बर जी

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत प्यारी सामयिक रचना , बधाई !!

    जवाब देंहटाएं
  18. यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो
    किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें

    यह शे'र तो दीवारों में जान डाल देता है। बहुत ही ख़ूबसूरत ग़ज़ल।

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत उम्दा ग़ज़ल। ये शेर सीधे मन तक गया।

    यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो
    किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें

    जवाब देंहटाएं
  20. यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो
    किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें
    दीवारों से जुड़े कितने सारे आयाम साकार हो गए!!!
    दो पंक्तियाँ मैं भी जोड़ दूँ :
    कहता है कौन,कि ये ना सुनती,ना कहती हैं।
    इतिहास का हर राज बताती हैं दीवारें !!!

    जवाब देंहटाएं
  21. वाह ! दीवारों पर नायाब चिंतन से भरपूर रचना | जब यादों की दीवार पर मधुर चित्र और किसी की प्रेम की खुशबू से सराबोर शाल टंगी हो तो ये दीवारें कितनी हसीन लगती पर यही जब मन के आँगन में खड़ी होती हैं तो इनका रंग बहुत विद्रूप होता है | एक भावपूर्ण रचना के लिए हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं|सादर

    जवाब देंहटाएं
  22. दिल को छूती बहुत ही सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  23. इन्हें तो तोड़ ही देना अभी तो हैं कच्ची    
    हमारे बीच जो उठने लगी हैं दीवारें

    वाह ......

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है