मंगलवार, 11 मई 2021

आकाश में तारों का आज रात पिघलना ...

जेबों में चराग़ों को अपने ले के निकलना.
मुमकिन है के थम जाए आज रात का ढलना.
 
है गाँव उदासी का आस-पास संभालना.
हो पास तेरे कह-कहों का शोर तो चलना.
 
मासूम पतंगों की ज़िन्दगी से न खेलो,
हर बार तो अच्छा नहीं मशाल का जलना.
 
कश्ती को चलाने में होंसला है ज़रूरी,
मंज़ूर नहीं हम को साहिलों पे फिसलना.
 
पतझड़ के हैं पत्ते न दर्द रोक सकोगे,
क़दमों को बचा कर ही रास्तों पे टहलना.
 
हर मोड़ पे आती हैं लौटने की सदाएँ,
रिश्तों को समझ कर ही अपने घर को बदलना.
 
आहों का असर था के कायनात की साज़िश,
आकाश में तारों का आज रात पिघलना. 

24 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बहुत ही बेजोड़ सृजन 👍👌

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति,दिगम्बर भाई।

    जवाब देंहटाएं
  3. हर मोड़ पे आती हैं लौटने की सदाएँ,
    रिश्तों को समझ कर ही अपने घर को बदलना.
    खूबसूरत ग़ज़ल ...… हर शेर गज़ब

    जवाब देंहटाएं
  4. कश्ती को चलाने में हौसला है ज़रूरी,
    मंज़ूर नहीं हम को साहिलों पे फिसलना.
    बहुत खूब.., अत्यन्त सुन्दर भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी कोई रचना बुधवार , 12 मई 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    जवाब देंहटाएं
  6. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (११ -०५ -२०२१) को 'कुछ दिनों के लिए टीवी पर बंद कर दीजिए'(चर्चा अंक ४०६३) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय रचना

    जवाब देंहटाएं
  8. चिराग साथ रहे तो अँधेरों का क्या डर, कहकहे जारी रहें तो कट जाएगा उदास सफर !
    बहुत उम्दा खयालात से सजी गजल

    जवाब देंहटाएं
  9. आहों का असर था के कायनात की साज़िश,
    आकाश में तारों का आज रात पिघलना.


    बहुत खूब....,सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं
  10. मासूम पतंगों की ज़िन्दगी से न खेलो,
    हर बार तो अच्छा नहीं मशाल का जलना.---बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही बढ़िया कहा ... तलवार की धार पर चल रही है जिंदगी अब ।

    जवाब देंहटाएं
  12. जेबों में चराग़ों को अपने ले के निकलना.
    मुमकिन है के थम जाए आज रात का ढलना.

    है गाँव उदासी का आस-पास संभालना.
    हो पास तेरे कह-कहों का शोर तो चलना.
    हर एक शेर सँजोकर रखने लायक।

    जवाब देंहटाएं
  13. पतझड़ के हैं पत्ते न दर्द रोक सकोगे,
    क़दमों को बचा कर ही रास्तों पे टहलना.

    हर मोड़ पे आती हैं लौटने की सदाएँ,
    रिश्तों को समझ कर ही अपने घर को बदलना.

    वाह! बहुत खूब कही आपने
    हर बार की तरह लाजवाब प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  14. मासूम पतंगों की ज़िन्दगी से न खेलो,
    हर बार तो अच्छा नहीं मशाल का जलना.
    क्या बात!!!
    हर मोड़ पे आती हैं लौटने की सदाएँ,
    रिश्तों को समझ कर ही अपने घर को बदलना.
    लाजवाब...बहुत ही लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह!हर शेर बेमिसाल।
    बहुत उम्दा सृजन।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत ही बेहतरीन रचना है।

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत खूबसूरत गजल, हर शेर कुछ कहता हुआ..

    जवाब देंहटाएं
  18. शानदार गज़ल मित्र , हर शेर लाजवाब , बधाई

    जवाब देंहटाएं
  19. वास्तव में आपने बहुत बढ़िया शेर लिखी है,आप के द्वारा लिखी शेर बहुत अच्छी होती है आपका बहुत बहुत धन्यवाद
    क्या आपको स्वप्नफल में रुचि है स्वप्नफल




    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है